ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी के रात्रिभोज में शामिल होने से राजद का इनकार, लालू की बेटी बोलीं- इस पैसे से मरते बच्चों के लिए दवा खरीदें मोदी

लोकसभा चुनाव के बाद सांसदों के साथ यह पीएम का पहला रात्रिभोज है। इससे पहले पीएम ने 'एक देश, एक चुनाव' के मुद्दे पर बुधवार को बैठक की थी। इसमें 40 दलों के नेताओं को आमंत्रित किया था लेकिन 21 दल के प्रमुख ही पहुंचे थे।

Author नई दिल्ली | June 20, 2019 8:03 PM
मीसा भारती और पीएम मोदी। फोटो: इंडियन एक्सप्रेस

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रात्रिभोज से खुद को अलग कर लिया है। राजद नेता और पार्टी अध्यक्ष लालू यादव की बेटी मीसा भारती ने यह जानकारी दी। उन्होंने न्यूज एजेंसी से बातचीत में कहा ‘राजद मुजफ्फरपुर में इन्सेफेलाइटिस (चमकी बुखार) की वजह से हुई मौतों की वजह से पीएम मोदी के रात्रिभोज में शामिल नहीं होगी।’

उन्होंने कहा कि ‘प्रधानमंत्री इस पैसे से मरते बच्चों के लिए दवा और इलाज में इस्तेमाल होने वाे उपकरण खरीदें।’ मालूम हो कि पीएम ने दिल्ली के पांच सितारा अशोका होटल में राज्यसभा और लोकसभा के सांसदों के लिए रात्रिभोज और बैठक का आयोजन किया है।

लोकसभा चुनाव के बाद सांसदों के साथ यह पीएम का पहला रात्रिभोज है। इससे पहले पीएम ने ‘एक देश, एक चुनाव’ के मुद्दे पर बुधवार को बैठक की थी। इसमें 40 दलों के नेताओं को आमंत्रित किया था लेकिन 21 दल के प्रमुख ही पहुंचे थे।

बिहार में इन्सेफेलाइटिस से अबतक करीब 136 बच्चों की मौत हो चुकी है जिनमें मुजफ्फरपुर में 118 तो वहीं मोतिहारी में 12 और 6 मौतें बेगुसराय में हुई है। राजद ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से नैतिकता के आधार पर इस्तीफे की मांग की है। पार्टी ने कहा है कि इस बीमारी के लिए नीतीश सरकार ने कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार (18 जून 2019) को मुजफ्फरपुर के श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल पहुंचकर मरीजों का हाल-चाल जाना। इस दौरान लोगों ने उनके विरोध में जमकर नारेबाजी की। अस्पताल का जायजा लेने के बाद सीएम ने अस्पातल को 2500 बेड वाले अस्पताल के रूप में तब्दील करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही अस्पताल को 1500 बेड की व्यवस्था तुरंत प्रभाव से करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने मरीजों के परिजनों के लिए अस्पताल के नजदीक ‘धर्मशाला’ के निर्माण के निर्देश भी दिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App