ताज़ा खबर
 

नीतीश के खिलाफ बोलने पर राजद ने तस्लीमुद्दीन को थमाया नोटिस

तस्लीमुद्दीन को जारी कारण बताओ नोटिस में कहा गया है कि आपके बयान से ऐसा प्रतीत होता है कि आप भारतीय जनता पार्टी व आरएसएस की बोली बोल रहे हैं, इससे पार्टी के धर्मनिरपेक्ष मूल्यों पर आघात पहुंचा है
Author पटना | May 23, 2016 03:06 am
बिहार सरकार ने न्या​यिक सेवाओं में 50 प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला लिया है।

बिहार के महागठबंधन सरकार में शामिल राजद ने अपने सहयोगी दल जद (एकी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ की गयी टिप्पणी को पार्टी व महागठबंधन के नीति व सिद्धांत के खिलाफ बताते हुए अपने सांसद मो. तस्लीमुद्दीन को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए उनसे सात दिनों के भी जवाब देने को कहा है। राजद के राष्ट्रीय महासचिव एसएम कमर आलम द्वारा नीतीश के खिलाफ टिप्पणी करने वाले बिहार के अररिया संसदीय क्षेत्र से अपने सांसद तस्लीमुद्दीन को रविवार (22 मई) को जारी कारण बताओ नोटिस में कहा है कि गत 11 मई, 15 मई, 21 मई, व 22 मई को विभिन्न समाचार पत्रों व इलेक्ट्रोनिक मीडिया में आपका जो बयान आया है वह पार्टी और महागठबंधन के नीति व सिद्धांत के खिलाफ है। पूर्व में भी आपके द्वारा 8 और 9 सितंबर 2015 को जो अमर्यादित बयान दिया गया, वह भी पार्टी व बिहार में महागठबंधन सरकार के विरुद्ध है।

तस्लीमुद्दीन को जारी कारण बताओ नोटिस में कहा गया है कि आपके बयान से ऐसा प्रतीत होता है कि आप भारतीय जनता पार्टी व आरएसएस की बोली बोल रहे हैं, इससे पार्टी के धर्मनिरपेक्ष मूल्यों पर आघात पहुंचा है। इतना ही नहीं राजद के सांसद होते हुए आप हमेशा भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ में कसीदे भी गढ़े। उपरोक्त आरोप के संबंध में आप अपनी स्थिति 7 दिनों के अन्दर स्पष्ट करें अन्यथा पार्टी आपके खिलाफ अग्रतर कार्रवाई करने को बाध्य होगी।

तस्लीमुद्दीन ने शनिवार (21 मई) को फिर नीतीश कुमार पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि उन्होंने अपने पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद से जद (एकी) से गठबंधन तोड़ लेने को कहा है। मैं चाहता हूं कि आज ही तोड़ लिया जाए पर उनके बीच लालू प्रसाद हैं। उन्होंने नीतीश कुमार के बारे कहा कि प्रधानमंत्री बनने के लिए बाहर घूम रहे हैं, उन्हें पहले घर ठीक करना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.