ताज़ा खबर
 

राबड़ी देवी की बेटे तेजप्रताप से भावुक अपील, कहा- बहुत हुआ, लौट आओ बेटा

बिहार में राबड़ी देवी ने एक भावुक अपील करते हुए अपने बड़े बेटे तेजप्रताप से घर वापस लौटने की बात कही है। राबड़ी ने ये भी कहा कि उनके बेटे तेजप्रताप और तेजस्वी के बीच किसी तरह का कोई तनाव नहीं है।

राबड़ी देवी ने बेटे तेजप्रताप से की भावुक अपील फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव की पत्नी और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने अपने बड़े बेटे तेजप्रताप से घर वापस लौटने की भावुक अपील की है। हिंदुस्तान टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक परिवार से अलग दिल्ली में रह रहे तेज प्रताप से राबड़ी देवी ने कहा कि बहुत हुआ अब वापस लौट आओ बेटा। बताया जा रहा है कि तेज प्रताप पिछले साल अपने पिता लालू यादव से रांची में मिलने के बाद से घर वापस नहीं लौटे हैं। गौरतलब है कि तेजप्रताप की शादी पिछले साल मई में आरजेडी नेता की बेटी ऐश्वर्या राय से हुई थी हालांकि पत्नी से मतभेद के चलते शादी के कुछ समय बाद ही उन्होंने अदालत में तलाक की अर्जी दे दी थी।

बेटों के बीच कोई मतभेद नहींः पटना में शुक्रवार को मीडिया से बातचीत के दौरान राबड़ी देवी ने कहा कि उनके बेटें तेजप्रताप और तेजस्वी के बीच किसी तरह का कोई तनाव नहीं है। मीडिया बेवजह ही इस मामले को तूल देने में लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि कुछ बाहरी लोग मेरे परिवार को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। तेजप्रताप के बारे में बात करते हुए राबड़ी ने कहा, “कुछ लोग मेरे बेटे को बरगलाने और गुमराह करने की कोशिश में लगे हैं। इसके पीछे हमारे प्रतिद्वंदी उम्मीदवार भाजपा और जेडीयू का हाथ हो सकता है।” हालांकि पिछले कुछ समय में अपने छोटे भाई तेजस्वी के खिलाफ तेजप्रताप कई बार नाराजगी व्यक्त कर चुके हैं। हाल ही में शिवहर सीट से उतारे गए उम्मीदवार को लेकर दोनों भाईयों के बीच मतभेद की बात सामने आई थी।

 

लालू के बारे में कही ये बात: राबड़ी देवी ने अपने पति लालू की अनुपस्थिति पर भी चिंता व्यक्त की है। बता दें कि चारा घोटाले के एक मामले में दोषी पाए जाने के बाद लालू को जेल हुई थी। लेकिन इस समय उनकी तबीयत खराब होने के चलते रिम्स में उनका इलाज चल रहा है। राबड़ी ने कहा कि मुझे लालू जी की याद आती है और उनकी कमी हमे बहुत खलती है। उन्होने उनके जल्द घर आने की बात भी कही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App