ताज़ा खबर
 

कहां हैं तेजस्वी यादव? मां की इफ्तार, पिता के जन्मदिन कार्यक्रम, करीबी के यहां शादी तक में नहीं पहुंचे

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव लोकसभा चुनाव के बाद ही सार्वजनिक रूप से दिखाई नहीं दे रहे हैं। तेजस्वी, राबड़ी देवी के इफ्तार से लेकर पिता के जन्मदिन पर आयोजित कार्यक्रम में भी नहीं दिखाई दिए थे।

Author नई दिल्ली | June 14, 2019 9:29 AM
तेजस्वी यादव की गैरमौजूदगी से पार्टी के पदाधिकारी भी हैरान हैं। (फाइल फोटोःएएनआई)

राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव लोकसभा चुनाव के बाद बिहार में पार्टी को मिली हार के बाद से सार्वजनिक जीवन से लगभग ‘गायब’ हो गए हैं। तेजस्वी पिछली बार लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद 28 मई को पार्टी की समीक्षा बैठक में शामिल हुए थे।

यह बैठक 10 सर्कुलर रोड स्थित उनकी मां और राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर हुई थी। इसके बाद से परिवार के दो बड़े आयोजनों से तेजस्वी बिल्कुल गायब रहे। राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने 2 जून को इफ्तार पार्टी का आयोजन किया था। तेजस्वी इस इफ्तार पार्टी में भी नजर नहीं आए थे।

इसके बाद 11 जून को लालू प्रसाद यादव के जन्मदिन पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। राजद की तरफ से लालू के जन्मदिन को ‘अवतरण दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। इस कार्यक्रम से भी तेजस्वी ने अपनी दूरी बनाए रखी। तेजस्वी के इस तरह से सार्वजनिक जीवन से अनुपस्थिति के कारण पार्टी के पदाधिकारी भी पूरी तरह से हैरान हैं।

पार्टी पदाधिकारियों का कहना है कि हमें बताया गया था कि तेजस्वी दिल्ली में हैं लेकिन वह पार्टी विधायक और लालू प्रसाद यादव को करीबी भोला यादव की बेटी की शादी में शामिल नहीं हुए। हालांकि, मिसा भारती इस शादी समारोह में पहुंची थीं। तेजस्वी दिल्ली में पार्टी कार्यालय पर लालू प्रसाद यादव के 72वें जन्मदिन कार्यक्रम से भी गायब रहे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार तेजस्वी के एक करीबी सहयोगी का कहना है कि तेजस्वी कुछ सप्ताह दिल्ली में ही थे लेकिन वह अभी कहीं बाहर गए हैं। वह कुछ सप्ताह में वापस लौट आएंगे। इससे पहले तेजस्वी के नेतृत्व में महागठबंधन की तरफ से लड़े गए चुनाव में मिली हार के बाद तेजस्वी पार्टी के एक धड़े की आलोचना का सामना कर रहे हैं।

लोकसभा चुनाव में नहीं मिली एक भी सीटः इससे पहले राजद ने बिहार में कांग्रेस, हम और रालोसपा के साथ मिलकर भाजपा-जदयू गठबंधन के खिलाफ चुनाव लड़ा था। महागठबंधन को राज्य की 40 में से महज एक ही सीट पर जीत मिली। वह सीट भी कांग्रेस के खाते में थी। राजद को एक भी सीट पर जीत नहीं मिली।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X