ताज़ा खबर
 

मुंबई में इमारत गिरने से 11 की मौत, कई घायल; भाजपा का शिवसेना पर निशाना- दुर्घटना नहीं हत्या है

दुर्घटनाग्रस्त इमारत में फंसे लोगों को बचाने के लिए सर्च एंड रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। बीएमसी का कहना है कि क्षतिग्रस्त बिल्डिंग ने पास की एक और आवासीय घर को भी अपनी चपेट में ले लिया।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र मुंबई | Updated: June 10, 2021 11:01 AM
मुंबई के मलाड पश्चिम में भारी बारिश के बाद बुधवार रात 11.10 बजे गिर गई इमारत। (फोटो- IE)

महाराष्ट्र के मुंबई में मानसून की बारिश का कहर जारी है। यहां रास्तों के डूबने के साथ कमजोर इमारतों पर खतरा बढ़ गया है। बुधवार देर रात इसी बीच पहला हादसा हो गया। यहां मलाड पश्चिम के न्यू कलेक्टर परिसर में एक आवासीय इमारत ढह गई। इस हादसे में कम से कम 11 लोगों की मौत की खबर है। मृतकों में आठ बच्चे शामिल हैं। वहीं आठ अन्य लोग भी गंभीर रूप से घायल हुए। इस बीच भाजपा ने इस हादसे को हत्या करार देते हुए महाराष्ट्र की शिवसेना सरकार और बृहनमुंबई म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन को इसका जिम्मेदार ठहरा दिया।

क्या बोले भाजपा नेता?: भाजपा नेता और विधायक राम कदम ने इस हादसे पर गुरुवार को कहा कि यह कोई हादसा नहीं, बल्कि हत्या है, जो कि बीएमसी की लापरवाही से हुआ है। उन्होंने कहा कि यह एक तरह से योजनाबद्ध हत्या थी, क्योंकि मुंबई में अवैध ऊंचाई वाली इमारतों को निर्माण की इजाजत दी जा रही है। उन्होंने कहा कि इन दुर्भाग्यपूर्ण मौतों को रोका जा सकता था। लेकिन सवाल यह है कि क्या बीएमसी और शिवसेना इस हत्या की जिम्मेदारी लेंगी।

राहत-बचाव अभियान जारी: बताया जा रहा है कि दुर्घटनाग्रस्त इमारत में फंसे लोगों को बचाने के लिए सर्च एंड रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। घायलों को बीडीबीए अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है। इस बीच हादसे पर बीएमसी का कहना है कि क्षतिग्रस्त बिल्डिंग ने पास की एक और आवासीय घर को भी अपनी चपेट में ले लिया। महाराष्ट्र सरकार में मंत्री असलम शेख ने कहा कि भारी बारिश और इस हादसे ने क्षेत्र में आवासीय संरचनाओं को भी प्रभावित किया है जो अब खतरनाक स्थिति में है। प्रभावित इमारतों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित निकाला जा रहा है।

पुलिस बोली- जांच के बाद करेंगे कार्रवाई: मुंबई में जोन 11 के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) विशाल ठाकुर ने कहा कि महिलाओं और बच्चों सहित 15 लोगों को बचा लिया गया है और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मलबे में और लोगों के फंसे होने की आशंका है। लोगों को बचाने के लिए टीमें यहां मौजूद हैं। बाकियों को भी जल्द से जल्द अस्पताल पहुंचाने के इंतजाम किए गए हैं। उधर एडिशनल कमिश्नर दिलीप सावंत ने कहा कि इस घटना की जांच कराई जाएगी, जिसके बाद पुलिस आगे कार्रवाई करेगी।

Next Stories
1 भाजपा सांसद ने हिमाचल के सीएम जयराम ठाकुर पर कसा तंज, कांग्रेस से ही चिपके रहोगे!
2 राजस्थान: घर के बाहर लगा आंबेडकर का पोस्टर तो लोगों ने कर दी पिटाई, दलित शख्स ने तोड़ा दम
3 एंकर ने आंदोलन पर उठाया सवाल तो बोले अकाली नेता- किसान नहीं हटेंगे पीछे, सरकार को कोरोना की चिंता तो रद्द करे कानून
ये पढ़ा क्या?
X