ताज़ा खबर
 

दिल्ली: विधायकों का प्रदर्शन गिरा, AAP के दो MLA ने 2 साल से नहीं उठाया एक भी मुद्दा

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और डिप्टी स्पीकर को सर्वे से बाहर रखा गया था।

18 विधायक ऐसे थे जिन्होंने 2017 में पांच से भी कम मुद्दे उठाए।

दिल्ली सरकार के विधायकों से जुड़ी एक रिपोर्ट सामने आई है। इसमें बताया गया है कि दिल्ली के विधायकों का प्रदर्शन पिछले साल के मुकाबले गिर गया है। प्रजा फाउंडेशन नाम के एक एनजीओ ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि सात विधायक तो ऐसे हैं जिन्होंने साल 2017 में विधानसभा में एक भी मुद्दा नहीं उठाया। वहीं दो विधायक तो ऐसे हैं जिन्होंने 2016 और 2017 दोनों सालों में एक भी मुद्दा विधानसभा के सामने नहीं रखा। इनमें रघुवेंद्र शौकीन (नांगलौई जट) और मोहम्मद इशराक (सीलमपुर) शामिल हैं। 18 विधायक ऐसे थे जिन्होंने 2017 में पांच से भी कम मुद्दे उठाए। एनजोओ को आरटीआई के जरिए मिली जानकारी के मुताबिक, 2016 में कुल 951 मुद्दे उठाए गए थे वहीं 2017 में उठाए गए मुद्दों की संख्या घटकर 926 पर आ गई।

एनजीओ ने 24,000 लोगों की सहायता से एक सर्वे भी किया। इसमें विधायकों के प्रदर्शन को आंकने का काम किया गया। इसमें आप के 57 और बीजेपी के दो विधायक शामिल किए गए थे। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और डिप्टी स्पीकर को सर्वे से बाहर रखा गया था। बीजेपी विधायक ओपी शर्मा भी सर्वे में शामिल नहीं थे।

आपराधिक रिकॉरर्ड्स में बढ़ोतरी: पहले के मुकाबले विधायकों पर दर्ज मामलों में भी बढ़ोतरी हुई है। फरवरी 2015 में जब सरकार बनी थी तब कुल 70 विधायकों में से 14 पर आपराधिक मामले दर्ज थे। 2016 के दिसंबर में 39 विधायकों के खिलाफ FIR दर्ज हो गई। 2016 के खत्म होने पर 70 में से कुल 25 विधायक आपराधिक श्रेणी में आ गए। जब इस बारे में आप नेताओं से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इसके पीछे राजनीतिक साजिश है। नेताओं ने कहा कि शिकायत के बाद जब मामले कोर्ट में पहुंचते हैं तो खारिज कर दिए जाते हैं। यह रिपोर्ट मंगलवार (22 अगस्त) को जारी की गई थी।

Next Stories
1 वीवीपैट वाली ईवीएम से हो डूसू चुनाव : एनएसयूआइ
ये  पढ़ा क्या?
X