ताज़ा खबर
 

कोविड अस्पताल में नहीं मिल रहे जीवनरक्षक इंजेक्शन रेमडेसिविर, मरीज खुद ही बाजार से खरीदकर लाने के लिए मजबूर

कोरोना के मध्यम से गंभीर मरीजों को इस दवा की 7 से 8 डोज दी जाती हैं, जिसमें 30 से 40 हजार तक का खर्च आता है, इसके बावजूद सरकारी अस्पतालों में सप्लाई शॉर्टेज है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र इंदौर | Updated: August 12, 2020 11:41 AM
coronavirus latest newsदेश में कोरोना के अब तक 29 लाख से ज्यादा केस आ चुके हैं।

मध्य प्रदेश में कोरोनावायरस के बढ़ते केसों के बीच अब कोविड अस्पतालों में मरीजों के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन तक का इंतजाम नहीं हो पा रहा है। राज्य के सबसे आधुनिक शहर इंदौर में तो आलम यह है कि मरीजों और उनके परिजनों को खुद ही बाहर के मेडिकल स्टोरों पर जा कर रेमडेसिविर का इंजेक्शन लाना पड़ रहा है।

बता दें कि कोरोना के हल्के लक्षण, जैसे- खांसी-जुकाम, सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्याओं पर पहले मरीज की जांच करना अनिवार्य है। इसके बाद अगर उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आती है, तो उन्हें स्थिति के हिसाब से रेमडेसिविर की डोज दी जानी है। रेमडेसिविर को कोरोना के गंभीर मरीजों के इलाज में कारगर कहा जा रहा है। ऐसे में डॉक्टरों की भी इस दवा पर निर्भरता बढ़ी है। लेकिन सप्लाई कम होने की वजह से मरीजों को रेमडेसिविर खरीदने के लिए खासा संघर्ष करना पड़ रहा है। सरकारी अस्पतालों में तो इसकी सप्लाई तक नहीं हो पा रही।

कई मरीजों के परिजनों को जब रेमडेसिविर का इंजेक्शन लाने के लिए कहा गया, तो उन्हें बाहर के मेडिकल स्टोर पर भी चार से पांच हजार रुपए का यह इंजेक्शन नहीं मिला। इस दवा की फिलहाल इतनी शॉर्टेज है कि लोग बमुश्किल ही इसे हासिल कर पा रहे हैं।

बता दें कि कोरोना के गंभीर मरीजों को रेमडेसिविर के 6-7 डोज दिए जा रहे हैं। ऐसे में मरीजों के 30 से 40 हजार रुपए इस दवा की डोज में ही खत्म हो जा रहे हैं। इसके बावजूद सरकार अब तक इसकी सप्लाई सुनिश्चित नहीं करा पा रही। इंदौर के कोरोना के इलाज के लिए डेडिकेटेड कोविड एमआर टीवी और एमटीएच अस्पताल में भी यह दवा उपलब्ध नहीं है। बताया गया है कि सरकार ने इसे अभी आवश्यक दवाओं की सूची में शामिल नहीं किया है।

संक्रमित स्टाफकर्मियों को भी निजी अस्पतालों से लाना पड़ रहा इंजेक्शन
चौंकाने वाली बात यह है कि आम लोग ही नहीं सरकारी अस्पतालों के स्टाफकर्मियों तक को यह इंजेक्शन बाहर से ही मंगाना पड़ रहा है। अब तक एमटीएच कोविड हॉस्पिटल के प्रभारी डॉक्टर सुमित शुक्ला से लेकर कई अन्य स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना हुआ था। पर दवा की गौरमौजूदगी के बाद उन्हें शहर के निजी अरबिंदो अस्पताल से रेमडेसिविर की डोज मंगानी पड़ी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट के खिलाफ विधायक के घर पर पत्थरबाजी, तीन की मौत, 110 गिरफ्तार; ACP समेत 60 पुलिसकर्मी भी घायल
2 कोझिकोड एयरपोर्ट पर इस मॉनूसन बड़े विमान नहीं होंगे इस्तेमाल, Air India Plane Crash के बाद DGCA का ऐलान
3 जय प्रकाश निषाद को राज्‍यसभा भेजेगी BJP, 2018 में योगी आदित्यनाथ ने बनाया था भाजपाई
IPL 2020 LIVE
X