ताज़ा खबर
 

पश्चिम बंगाल में तेजी से फैल रहा आरएसएस, 1 साल में ही बढ़ा लीं 250 शाखाएं

तृणमूल कांग्रेस के गढ़ पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तेजी से अपने पांव पसार रहा है। संगठन ने लोगों को जोड़ने के लिए एक साल मे ही ढाई सौ शाखाओं का संचालन शुरू कर दिया है।
Author नई दिल्ली | March 26, 2018 10:54 am
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फोटो सोर्स सोशल मीडिया)

तृणमूल कांग्रेस के गढ़ पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तेजी से अपने पांव पसार रहा है। संगठन ने लोगों को जोड़ने के लिए एक साल मे ही ढाई सौ शाखाओं का संचालन शुरू कर दिया है। अब शाखाओं का विस्तार ब्लॉक और ग्राम पंचायत स्तर पर करने की कवायद शुरू हुई है। संघ के एक वरिष्ठ पदाधिकारी के मुताबिक पश्चिम बंगाल के सामाजिक और आर्थिक पिछड़ेपन को लेकर लोगों की प्रतिक्रिया के फलस्वरूप संघ को अपने नेटवर्क के विस्तार में मदद मिली है।

हुगली और दुर्गापुर में लोगों के रुझान को देखते हुए शाखाओं की संख्या में काफी इजाफा हुआ। 2016 में जहां 11 सौ शाखाएं थीं, वहीं साल भर के भीतर 2017 में इनकी संख्या बढ़कर 1350 हो गई। संघ के एक कार्यकर्ता के मुताबिक-जिन इलाकों में लोग बुनियादी सुविधाओं से जूझ रहे हैं, जहां के लोगों को सहयोग और सहायता की जरूरत है, वहां संघ को पर्याप्त महत्व मिल रहा है। शाखाओं के संचालन में लोग आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल सरकार की उपेक्षाओं के चलते संघ को अपने विस्तार में करीब 20 प्रतिशत मदद मिली है।

संघ पदाधिकारी के मुताबिक लोग शासन से नाराज हैं और वे संघ के करीब आ रहे हैं। मौजूदा समय दक्षिण बंगाल में संघ 650 स्थानों पर 910 शाखाएं लगाता है, वहीं उत्तर बंगाल में 373 स्थानों पर 452 शाखाओं का संचालन होता है। दरअसल अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में ही निर्णय लिया गया था कि पश्चिम बंगाल में संगठन के विस्तार का। इस नाते उसी निर्णय को अब अमलीजामा पहनाया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App