ताज़ा खबर
 

केंद्रीय मंत्री पिता के खिलाफ धरने पर बैठी बेटी, बोली- वापस लें शब्द, माफी मांगें!

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की बेटी आशा पासवान उन्हीं के खिलाफ धरने पर बैठ गई हैं। आशा पासवान ने कहा कि, पिता ने महिला समाज को अपमानित किया है इसके लिए उन्हें माफ़ी मांगनी पड़ेगी।

Author January 14, 2019 7:11 AM
केंद्र सरकार में मंत्री रामविलास पासवान की बेटी आशा पासवान (फोटो सोर्स : ANI)

केंद्र सरकार में मंत्री रामविलास पासवान के खिलाफ उनकी बेटी आशा पासवान ने ही मोर्चा खोल दिया है। आशा पासवान अपने केंद्रीय मंत्री पिता के खिलाफ ही धरने पर बैठ गई हैं। लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के अध्यक्ष पासवान जिसमें ने कथित तौर पर राबड़ी देवी को अंगूठा छाप बताया था। बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता राबड़ी देवी पर आशा पासवान ने पिता द्वारा की गई टिप्पणी को लेकर विरोध जताते हुए माफी की मांग की है।

पासवान की बेटी ने कहा कि, उनके पिता अपने कहे शब्दों को वापस लें और माफी मांगे। उन्हें सभी महिलाओं का सम्मान करना चाहिए। आशा पासवान ने कहा कि, पिता ने महिला समाज को अपमानित किया है इसके लिए उन्हें माफ़ी मांगनी पड़ेगी।

बता दें कि, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने शुक्रवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि, नारा लगाते लगाते लोग अंगूठा छाप को भी सीएम बना देते हैं। उनके इस बयान को आधार बना के उनकी बेटी आशा पासवान ने पिता के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए कहा था कि मैं उनको सबक सिखा दूंगी। उन्होंने इस बयान से केवल एक महिला नहीं बल्कि देश भर की महिलाओं का अपमान किया है।

बीते दिन आशा पासवान ने पासवान के खिलाफ लोजपा कार्यालय के सामने धरना देने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि हाजीपुर तक जाकर बताउंगी की अंगूठा छाप क्या होती है? इसके बाद उन्होंने कहा कि मेरी मां को अंगूठा छाप होने के कारण ही उन्होंने छोड़ा दिया था।

गौरतलब है कि, ऐसा पहली बार नहीं है, जब केंद्रीय मंत्री पासवान की बेटी ने उनका विरोध किया हो। बीते साल सितंबर महीने में रामविलास पासवान की बेटी आशा पासवान ने कहा था कि यदि राजद उन्हें टिकट देगी तो वह आगामी लोकसभा चुनावों में अपने पिता के ही खिलाफ हाजीपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगी। आसा पासवान ने आरोप लगाते हुए कहा था कि वह (पासवान) सिर्फ अपने बेटे को ही प्रमोट करते हैं और उन्हें बिल्कुल भी भाव नहीं देते।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X