ताज़ा खबर
 

जिन्‍होंने की थी क्रिकेट को खत्‍म करने की वकालत, नीतीश कुमार उन्‍हीं के नाम पर आयोजित करेंगे टूर्नामेंट

मंगलवार (9 अक्टूबर) को जेडीयू के राज्य सभा मेंबर आरसीपी सिंह ने एक बैठक में कहा था कि जल्द ही उनकी पार्टी बिहार में क्रिकेट, फुटबॉल, वॉलीबॉल और कबड्डी टूर्नामेंट आयोजित करेगी। टूर्नामेंट्स के नाम महात्मा गांधी, जयप्रकाश नारायण और राम मनोहर लोहिया के नाम पर होंगे। शुरु में पार्टी लोहिया के नाम पर क्रिकेट टूर्नामेंट आयोजित करेगी, जिसमें पुरुषों और महिलाओं की अलग-अलग टीमें हिस्सा लेंगी।

बिहार के सीएम नीतीश कुमार। (फाइल फोटो)

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार युवाओं के बीच पकड़ बनाने के लिए भारत के स्वाधीनता संग्राम के सेनानी, प्रखर चिंतक और समाजवादी राजनेता राम मनोहर लोहिया के नाम पर क्रिकेट टूर्नामेंट शुरू करने जा रहे हैं। इस फैसले पर आरजेडी ने आपत्ति जताई है। आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि लोहिया अपने देश के कबड्डी जैसे खेलों के समर्थक थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शिवानंद तिवारी ने लोहिया की क्रिकेट के प्रति अरुचि के बारे में इतिहासकार रामचंद्र गुहा की किताब ‘Corner Of A Foreign Field: The Indian History Of A Foreign Sport’ का हवाला दिया। तिवारी ने कहा, ”मुझे लगता है कि नीतीश जी भूल गए हैं कि लोहिया जी क्रिकेट के खिलाफ थे और वह इस खेल से नफरत करते थे। लोहिया जी के नाम पर एक क्रिकेट टूर्नामेंट की घोषणा करना एक महापुरुष का अपमान है। अगर आप रामचंद्र गुहा की किताब पढ़ें तो आपको पता चलेगा कि लोहिया तीन से हमेशा नफरत करते थे- जवाहर लाल नेहरू, अंग्रेजी भाषा और क्रिकेट। लोहिया जी हमारे देश के अपने खेल कबड्डी के समर्थक थे। अगर नीतीश कुमार वास्तव में लोहिया जी के नाम पर खेल टूर्नामेंट शुरू करना चाहते हैं तो उन्हें कबड्डी का करना चाहिए।”

द टेलीग्राफ की खबर के मुताबिक आरजेडी नेता ने आगे कहा, ”नीतीश उन लोगों की संगत में हैं जो पूरी तरह से लोहिया को भूल चुके हैं और यही वजह है कि जेडीयू सामाजिक न्याय पर अपनी गलतियों को दोहराती रहती है।” तिवारी ने उस कॉन्फ्रेंस को इंगित किया जिसे लोहिया ने मुंबई (उस वक्त के बॉम्बे) के ब्रेबोर्न स्टेडियम में 2-7 दिसंबर, 1960 में भारत पाकिस्तान बीच खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के दौरान सामने के ईरानी कैफे में बुलाया था। गुहा की किताब का हवाला देते हुए तिवारी ने कहा कि मैच की दूसरी सुबह लोहिया ने वहां जमा हुए पत्रकारों से कहा था कि क्रिकेट का खेल निरंतर उपनिवेशवाद और भारत में शासन करने वाले आखिरी अंग्रेज की इसमें लिप्तता का प्रतीक है।

बता दें कि बीते मंगलवार (9 अक्टूबर) को जेडीयू के राज्य सभा मेंबर आरसीपी सिंह ने एक बैठक में कहा था कि जल्द ही उनकी पार्टी बिहार में क्रिकेट, फुटबॉल, वॉलीबॉल और कबड्डी टूर्नामेंट आयोजित करेगी। टूर्नामेंट्स के नाम महात्मा गांधी, जयप्रकाश नारायण और राम मनोहर लोहिया के नाम पर होंगे। शुरु में पार्टी लोहिया के नाम पर क्रिकेट टूर्नामेंट आयोजित करेगी, जिसमें पुरुषों और महिलाओं की अलग-अलग टीमें हिस्सा लेंगी। बता दें कि शुक्रवार (12 अक्टूबर) को लोहिया की पुण्यतिथि के मौके पर देश में उन्हें याद किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App