ताज़ा खबर
 

राम मंदिर निर्माण के लिए 51 हजार रुपए देंगे शिया वक्फ बोर्ड चीफ वसीम रिजवी, भगवान राम को बताया पूर्वज

यूपी शिया वक्फ बोर्ड (Shia Central Waqf Board) के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा, 'राम जन्मभूमि पर अब भव्य मंदिर निर्माण के लिए तैयारियां चल रही हैं। राम हम सभी के पूर्वज थे, इसलिए मुस्लिमों की तरफ से वसीम रिजवी फिल्म्स 51 हजार रुपए राम जन्मभूमि न्यास को देगा।'

Author लखनऊ | Published on: November 15, 2019 2:10 PM
यूपी शिया वक्फ बोर्ड चेयरमैन वसीम रिजवी (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

Ram Mandir Construction, SC Verdict on Ayodhya: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ होने के बाद शिया वक्फ बोर्ड चीफ ने शानदार मिसाल पेश की है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यूपी शिया वक्फ बोर्ड (Shia Central Waqf Board) के चेयरमैन वसीम रिजवी ने राम मंदिर निर्माण के लिए 51 हजार रुपए दान देने का ऐलान किया है। रिजवी ने कहा कि बोर्ड अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करता है। उन्होंने कहा कि दशकों पुराने विवाद में सुप्रीम कोर्ट का यह सबसे अच्छा फैसला है।

मस्जिद निर्माण के लिए पांच एकड़ जमीनः सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की पीठ ने एक मत से दिए अपने फैसले में ऐतिहासिक विवाद को खत्म कर दिया। कोर्ट ने विवादित जमीन रामलला विराजमान को देने का आदेश दिया और केंद्र सरकार को एक ट्रस्ट का गठन करने का आदेश दिया। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को भी अयोध्या में पांच एकड़ जमीन देने का आदेश दिया था, ताकि मस्जिद का निर्माण किया जा सके।

Nathuram Godse Death Anniversary

राम मंदिर भक्तों के लिए गर्व का विषयः रिजवी ने कहा, ‘राम जन्मभूमि पर अब भव्य मंदिर निर्माण के लिए तैयारियां चल रही हैं। राम हम सभी के पूर्वज थे, इसलिए मुस्लिमों की तरफ से वसीम रिजवी फिल्म्स 51 हजार रुपए राम जन्मभूमि न्यास को देगा, ताकि राम मंदिर निर्माण में मदद मिल सके।’ जब भी मंदिर बनेगा शिया वक्फ बोर्ड मदद करेगा। राम भक्तों के लिए अयोध्या दुनियाभर में गर्व का विषय है।

Hindi News Today, 15 November 2019 LIVE Updates: बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

गौरतलब है कि सदियों पुराने इस मामले में 1992 के बाबरी विध्वंस के बाद से ही विवाद तेज हो गया था। 27 साल तक यह मामला अलग-अलग अदालतों में घूमता रहा। आखिरकार सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर 2019 को ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए जमीन विवाद को खत्म कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Jharkhand Election: बीजेपी की नई लिस्ट में सुखदेव भगत की एंट्री, सरयू राय बाहर, AJSU गठबंधन पर सस्पेंस बरकरार
जस्‍ट नाउ
X