ताज़ा खबर
 

राज्यवर्धन का कपिल सिब्बल को जवाब- EVM के खिलाफ सबूत के लिए लंदन गए थे, एयर स्ट्राइक के सबूत लेने बालाकोट जाएंगे?

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल द्वारा एयरस्ट्राइक पर पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि आप ईवीएम के खिलाफ सबूत इकट्ठा करने लंदन तक चले गए थे तो क्या आप इन सबूतों के लिए भी बालाकोट जाएंगे?

राज्यवर्धन सिंह राठौर और कपिल सिब्बल फोटो सोर्स- जनसत्ता

बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा एयर स्ट्राइक कर आतंकी कैंपों को ध्वस्त करने के बाद से देश में सियासी बयानबाजी का दौर जारी है। इस क्रम में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने बीजेपी पर आरोप लगाया था कि वह सेना की कार्रवाई का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए कर रही है। इसके बाद केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने सिब्बल को जवाब देते हुए कहा कि अगर आप स्ट्राइक के सबूत के लिए बालाकोट जा सकते हैं? साथ ही, उन्होंने कहा कि ईवीएम के खिलाफ सबूत इकट्ठे करने तो आप लंदन तक चले गए थे।

राज्यवर्धन सिंह राठौर का सिब्बल को जवाब- दरअसल, कपिल सिब्बल ने बालाकोट में एयर स्ट्राइक को लेकर एक ट्वीट किया था। इसका जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री राठौर ने भी एक ट्वीट किया और लिखा, ‘‘कपिल सिब्बल जी, आप हमारी इंटेलिजेंस एजेंसियों से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय मीडिया पर विश्वास कर रहे हैं? जब विदेशी मीडिया कहता है कि एयर स्ट्राइक से कोई नुकसान नहीं हुआ तो आप काफी खुश नजर आते हैं। और सर, आप ईवीएम के खिलाफ सबूत इकट्ठे करने लंदन तक चले गए थे। तो क्या आप इन सबूतों के लिए भी बालाकोट जाएंगे?’’

कपिल सिब्बल का ट्वीट- बता दें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने सोमवार को ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने लिखा था, ‘‘मोदी जी, कई अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने रिपोर्टिंग की है कि बालाकोट में आतंकियों के मारे जाने के कोई सबूत नहीं है। क्या वे सभी पाकिस्तान समर्थक हैं? आप आतंकवाद पर राजनीति कर रहे हैं?

कई दलों के नेता उठा चुके सवाल : गौरतलब है कि एयर स्ट्राइक के बाद कई दलों के नेताओं ने सरकार पर सवाल उठाए हैं। इस क्रम में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि जैसे लादेन को मारने के बाद अमेरिका ने सबूत सामने रखे थे। वैसे ही भारत सरकार को भी एयर स्ट्राइक के सबूत दिखाने चाहिए। इसके अलावा ममता बनर्जी भी केंद्र सरकार से सवाल कर चुकी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App