ताज़ा खबर
 

LAC विवादः जब तक चीन नहीं कम करेगा सैनिक, सरहद पर भारत भी न घटाएगा संख्या- बोले रक्षामंत्री राजनाथ

अरुणाचल प्रदेश में चीन द्वारा एक गांव बसाए जाने की रिपोर्ट को लेकर राजनाथ सिंह ने कहा कि यह सीमा से सटा हुआ है और इस तरह के बुनियादी ढांचे को कई वर्षों के दौरान विकसित किया गया है।

Author नई दिल्ली | January 23, 2021 1:17 PM
defence minister of indiaरक्षामंत्री राजनाथ सिंह। (राजनाथ सिंह ट्विटर)

पूर्वी लद्दाख में जारी गतिरोध को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि भारत सैनिकों की संख्या में तब तक कमी नहीं करेगा, जब तक चीन यह प्रक्रिया शुरू नहीं करता। हालांकि, उन्होंने बातचीत के जरिए समस्या का हल निकलने का भरोसा भी जताया। रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि भारत सीमा क्षेत्रों में बेहद तेजी से आधारभूत ढांचे को विकसित कर रहा है और चीन ने कुछ परियोजनाओं को लेकर आपत्ति भी जताई है।

राजनाथ सिंह ने एक टीवी न्यूज चैनल को दिए साक्षात्कार में कहा, ‘सैनिकों की संख्या में कमी नहीं की जाएगी। भारत सैनिकों की तैनाती में तब तक कमी नहीं करेगा, जब तक चीन यह प्रक्रिया शुरू नहीं करता।’ इस मसले पर चीन से वार्ता प्रक्रिया के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘जारी गतिरोध जैसे मुद्दों को लेकर कोई समयसीमा निर्धारित नहीं है। आप एक तारीख तय नहीं कर सकते।’

रक्षा मंत्री ने कहा, ‘हमें बातचीत के माध्यम से हल निकलने को लेकर पूरा भरोसा है।’ अरुणाचल प्रदेश में चीन द्वारा एक गांव बसाए जाने की रिपोर्ट को लेकर राजनाथ सिंह ने कहा कि यह सीमा से सटा हुआ है और इस तरह के बुनियादी ढांचे को कई वर्षों के दौरान विकसित किया गया है।

विदेश मंत्री एस जयशंकर द्वारा जताए गए उस आकलन के बारे में पूछे जाने पर कि चीन के साथ द्विपक्षीय संबंध पिछले चार दशकों में न्यूनतम स्तर पर हैं और क्या चीन ने भारत का भरोसा तोड़ा है, तो सिंह ने कहा, ‘बिना किसी संदेह के उन्होंने हमारा भरोसा तोड़ा है।’ वहीं, किसान आंदोलन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि सरकार हमेशा ही बिंदुवार चर्चा पर जोर दे रही है।

वहीं विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि भारत और चीन ने जल्द ही वरिष्ठ कमांडर-स्तर की बैठक के अगले दौर को आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की है और दोनों पक्ष राजनयिक और सैन्य माध्यमों से करीबी संपर्क बनाए हुए हैं। बता दें कि भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच लगभग आठ महीनों से सीमा पर गतिरोध बना हुआ है। राजनयिक और सैन्य वार्ता के कई दौर हो चुके हैं लेकिन अब तक कोई बड़ी सफलता हासिल नहीं हुई है।

मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, ‘दोनों पक्षों ने जल्द ही वरिष्ठ कमांडर स्तर की बैठक के अगले दौर को आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की है और हम इस संबंध में राजनयिक और सैन्य माध्यमों से करीबी संपर्क में हैं।’ वह संवाददाता सम्मेलन में सैन्य वार्ता के अगले दौर के संबंध में किए गए एक सवाल का जवाब दे रहे थे। दोनों पक्षों के बीच सैन्य वार्ता के आठवें और अंतिम दौर की बातचीत छह नवम्बर को हुई थी जिसमें दोनों पक्षों ने टकराव वाले सभी ंिबदुओं से सैनिकों की वापसी पर व्यापक बातचीत की थी।

Next Stories
1 अटल जी और मोदी में क्या फर्क? बोले सीएम शिवराज- मोदी जी का तो कोई मुकाबला नहीं है, ‘Man of Ideas’ हैं
2 नेताजी भवन में था PM का प्रोग्राम, पर पहले ही बगैर किसी प्लान के पहुंचीं CM ममता, कहा- नहीं समझ आता ‘पराक्रम’ शब्द
3 अमरूद खरीदते SP चीफ ने शेयर किया फोटो, पूछा- अभी भी ये ‘इलाहाबादी’ है या ‘प्रयागराजी’ हो गया?
ये पढ़ा क्या?
X