ताज़ा खबर
 

मानसून सत्र में गाय, मंदिर और भ्रष्टाचार पर राजे सरकार को घेरेगी कांग्रेस

राजस्थान में गायों की मौत, मंदिरों को तोड़ने और भ्रष्टाचार के मसलों पर भाजपा सरकार की नाकामी के मुददे कांग्रेस विधानसभा के मानसून सत्र में उठाएगी।

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे। (फाइल फोटो)

राजस्थान में गायों की मौत, मंदिरों को तोड़ने और भ्रष्टाचार के मसलों पर भाजपा सरकार की नाकामी के मुददे कांग्रेस विधानसभा के मानसून सत्र में उठाएगी। कांग्रेस ने इन मामलों में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को घेरकर उनसे इस्तीफा मांगने की रणनीति बनाई है। कांग्रेस का आरोप है कि प्रदेश में भ्रष्टाचार और अपराधों में बढ़ोतरी से आम आदमी परेशान हो उठा है। राज्य विधानसभा का मानसून सत्र यहां एक सितंबर से शुरू होगा। इसके पूरी तरह से हंगामेदार होने के आसार है। भाजपा सरकार ने यह सत्र जीएसटी बिल को पास कराने के मकसद से बुलाया है। इसके पास होने में कोई दिक्कत सरकार को नहीं आएगी। सरकार को सबसे ज्यादा परेशानी जयपुर की हिंगोनिया गौशाला में गायों की बड़ी संख्या में मौत होने से आएगी। कांग्रेस ने इसे बडा मुददा बना कर आंदोलन छेड़ रखा है और इससे बचाव के लिए भाजपा सरकार के पास कोई तर्क भी नहीं है। कांग्रेस विधायक दल की यहां हुई बैठक में भी विधानसभा में सरकार को घेरने की रणनीति बनाई गई। इस बैठक में तय किया गया कि भाजपा को उसके ही मुददों पर घेरा जाए।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री पर इस्तीफे का दबाव बनाया जाए। इसके अलावा भाजपा विधायकों की गुटबाजी और नाराजगी का फायदा उठाकर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के प्रति आक्रामक तेवर अपनाए जाए। कांग्रेस विधायक दल की बैठक में प्रतिपक्ष के नेता रामेश्वर डूडी के साथ ही प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रभारी महासचिव गुरुदास कामत भी मौजूद थे। प्रतिपक्ष के नेता डूडी ने बताया कि भाजपा सियासी फायदे के लिए हमेशा गाय और मंदिर की बात करती रही है। भाजपा शासन में ही सरकारी गौशाला में हजारों गायों की मौत उसकी लापरवाही के चलते हो गई। इसके बावजूद सरकार कोई ध्यान नहीं दे रही है। भाजपा शासन में ही जयपुर मंदिरों पर बुलडोजर चलाए गए। इन दोनों मामलों में भाजपा सरकार के काम करने की पोल खुल गई। इसके अलावा प्रदेश में भ्रष्टाचार का बोलबाला हो गया है। प्रदेश की जनता मंत्रियों और अफसरों के भ्रष्टाचार से दुखी है। प्रदेश में स्वास्थ और जलदाय महकमे के भ्रष्टाचार की सुई आला स्तर तक पहुंच रही है। इन मामलों में सिर्फ अधिकारियों को ही दबोचा गया और उनके आकाओं को पूरी तरह से सरकार बचाने में जुट गई है।

कांग्रेस का आरोप है कि प्रदेश में अपराधों का ग्राफ बहुत बढ़ गया है। राजधानी जयपुर में ही पुलिस थाने में एक गरीब आदमी की हिरासत में मौत हो गई। इस मामले में भी पुलिस पूरी तरह से लीपापोती में जुटी है। इसके अलावा दलित, कमजोर और महिलाओं पर लगातार अत्याचार की घटनाएं हो रही है। इन मामलों में गृह मंत्री भी पुलिस के आगे लाचार साबित हो रहे हैं। कांग्रेस का मानना है कि प्रदेश में जिस तरह के हालात है, उनमें गृह मंत्री को पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है। पुलिस हिरासत से फरार हुए कुख्यात गैगस्टर आनंदपाल को एक साल बाद भी नहीं पकड़ा जा सका है। सत्ताधारी दल के विधायकों में ही सरकार के खिलाफ बहुत नाराजगी पनपी हुई है। भ्रष्टाचार के चलते सरकार की एक भी योजना का लाभ आम आदमी को नहीं मिल रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 झारखंड में कर्मचारियों के लिए 7वां वेतन आयोग लागू करने का फैसला
2 केरल में कुत्तों की हत्या के विरोध में उतरे PETA समेत कई पशु अधिकार समूह
3 पुलिस कर्मियों की मौजूदगी में VIP सुविधा के मजे लेता दिखा, शहला मसूद हत्याकांड की मुख्य आरोपी