ताज़ा खबर
 

वसुंधरा सरकार का आदेश-‘लव जिहाद’, ‘ईसाइयों की साजिश’ पर ज्ञान देने वाले मेले में जाएं स्कूलों के बच्चे

यह निर्देश प्राइमरी एंड सेकेंडरी एडुकेशन मिनिस्टर वसुदेव देवनानी द्वारा दिए गए हैं।
राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे

राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार द्वारा स्कूलों के शिक्षकों और छात्रों को जयपुर मेले में ले जाने के निर्देश दिए गया हैं ताकि वे वहां पर लव जिहाद के बारे में सीख सकें, ईसाइयों के षडयंत्र की किताब खरीद सकें, शाकाहारी बनने की शपथ लें और गाय को राष्ट्रीय माता घोषित करने के लिए चलाए जा रहे अभियान पर अपने साइन करें। इसकी पुष्टि करते हुए जयपुर एडिशनल एडुकेशन ऑफिसर दीपक शुक्ला ने कहा कि मेले के आयोजनकर्ताओं की मदद करने के लिए राज्य के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों से मेले में बच्चों की उपस्थिति दर्ज कराने के लिए कहा गया है।

शुक्ला ने बताया कि यह निर्देश प्राइमरी एंड सेकेंडरी एडुकेशन मिनिस्टर वसुदेव देवनानी द्वारा दिए गए हैं। शुक्ला ने बताया कि इस मेले के आयोजनकर्ता हिंदू अध्यात्मिक और सेवा मेला ने खुद ही सरकारी और प्राइवेट स्कूलों से संपर्क किया था लेकिन स्कूलों का कहना था कि जब तक हमें आदेश नहीं मिलेंगे तब तक वे बच्चों और शिक्षकों को मेले में नहीं भेजेंग, इसलिए माननीय मंत्री जी द्वारा निर्देश दिए जाने के बाद अब आयोजनकर्ताओं की मदद हो पाएगी। फिलहाल इस मामले में देवनानी के कार्यालय से संपर्क नहीं हो पाया है। वहीं दीपक शुक्ला ने बताया कि आयोजनकर्ता चाहते हैं कि मेले में 2,100 शिक्षक शामिल हों इसलिए हमने सभी स्कूलों से दो या तीन शिक्षकों को इस मेले में भेजने के लिए कहा है।

इस मामले पर बात करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी रतन सिंह ने कहा कि इस मेले में भाग लेना अनिवार्य नहीं है। इससे पहले भी संगठन और एनजीओ स्कूलों से संपर्क करते रहे हैं ताकि छात्रों को सीखने के लिए पर्याप्त जगह मिल सके। 20 नवंबर को जयपुर में होने वाला यह पांच दिवसीय मेला तीसरी बार आयोजित किया जा रहा है। इस मेले का उद्देश्य है कि समाज के लिए सेवा करने वाले संगठनों को एक प्लैटफॉर्म मिल सके जिससे समाज सुधार में कार्य किया जा सके। इस मेले में विश्व हिंदू परिषद का भी एक स्टॉल लगेगा जिसमें लव जिहाद से बचने के लिए पेमप्लेट्स बांटे जाएंगे। इन पेमप्लेट्स के अनुसार इसमें अभिनेता सैफ अली खान और आमिर खान का भी जिक्र किया गया है जिन्होंने हिंदू लड़कियों से शादी की। साथ ही इसमें यह भी कहा गया है कि दूसरा धर्म अपनाने से तो अच्छा है कि मर जाएं।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    Rajnish Dixit
    Nov 19, 2017 at 11:28 am
    धर्म के नाम राजनीत इनका मुख्य एजेंडा है , जनता को सिर्फ धर्म के नाम पर मूर्ख बना सकते है इन्हें इतनी ही परवाह है धर्म की तो धार्मिक गुरु बन जाएँ , राजनीत से सन्यास क्यों नहीं ले लेते | बेहतर होता धर्म की राजनीत छोड़कर विकास की राजनीत करते |
    (1)(0)
    Reply