ताज़ा खबर
 

जर्मन महिला रेप केस में आरोपी ओडिशा के पूर्व डीजीपी के बेटे बिट्टी मोहंती को सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत

शुरूआत में यह केस काफी चर्चा में रही थी। इसका कारण था कि बिट्टी मोहंती पूर्व डीजीपी का बेटा है। यह देश का पहला ऐसा केस था जिसमें ट्रायल प्रारंभ होने के 9 दिन बाद ही सजा का ऐलान हो गया था।

पूर्व डीजीपी बी.बी मोहंती के बेटे बिट्टी मोहंती (File Photo)

जर्मन महिला से दुष्कर्म करने के मामले में ओडिशा के पूर्व पुलिस महानिदेशक बी.बी मोहंती के बेटे और दुष्कर्म के आरोपी बिट्टी मोहंती को सुप्रीम कोर्ट से शुक्रवार को जमानत मिल गई। सुप्रीम कोर्ट ने बिट्टी मोहंती को इस शर्त पर जमानत दी है कि वो ढाई लाख रूपये निजी मुचलके के साथ अपना पासपोर्ट जमा कराएंगे। कोर्ट ने उन्हें यह भी आदेश दिया है कि वो हर महीने के पहले सप्ताह थाने में हाजिरी देने आएंगे। बिट्टी के वकील सार्थक नायक ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने दोनों पक्षों की लंबे समय तक बहस सुनने के बाद बिट्टी को जमानत देने का फैसला सुनाया है।

बता दें, बिट्टी मोहंती ने साल 2006 में अलवर में एक जर्मन महिला से दुष्कर्म किया था। इसको चलते राजस्थान हाईकोर्ट ने उसे 7 साल की सजा सुनाई थी। बिट्टी की जमानत पर राजस्थान सरकार ने काफी विरोध किया था, सुप्रीम कोर्ट के मामले में और मामले की मांग के अनुरूप था कि आवेदक को जमानत पर रिहा होना चाहिए।

HOT DEALS
  • Gionee X1 16GB Gold
    ₹ 8990 MRP ₹ 10349 -13%
    ₹1349 Cashback
  • Lenovo Phab 2 Plus 32GB Gunmetal Grey
    ₹ 17999 MRP ₹ 17999 -0%
    ₹900 Cashback

गौरतलब है कि साल 2006 में अलवर के होटल में 26 वर्षीय जर्मन महिला से दुष्कर्म करने के मामले में बिट्टी को राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इस मामले में राजस्थान हाईकोर्ट ने उसे सात वर्ष की सजा हुई थी। बिट्टी मोहंती पिछले 5 साल 4 माह से जयपुर सेंट्रल जेल में बंद था।

शुरूआत में यह केस काफी चर्चा में रही। इसका कारण था कि बिट्टी मोहंती पूर्व डीजीपी का बेटा है। यह देश का पहला ऐसा केस था जिसमें ट्रायल प्रारंभ होने के 9 दिन बाद ही सजा का ऐलान हो गया था। रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले में नवंबर 2006 में बिट्टी मोहंती को पैरोल मिला था। उसके बाद वह फरार हो गया था।

पैरोल उसके पिता बीबी मोहंती की जमानत पर मिली थी। इसलिए बी.बी मोहंती के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी हुआ। इसके बाद ओडिशा सरकार ने बी.बी मोहंती को निलंबित कर दिया। फिर पूर्व डीजीपी ने जयपुर कोर्ट में सरेंडर कर दिया। पूर्व डीजीपी की मंशा थी कि पुलिस उनके बेटे को ढूंढना बंद कर दे। वर्ष 2013 में बिट्टी को केरला से हिरासत में लिया गया। चौंकाने वाली बात यह थी कि वह कई वर्षों से फर्जी पहचान के साथ स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर में पीओ के पद पर काम कर रहा था।

देखिए वीडियो - हैदराबाद: दोस्त से पत्नी का रेप करवाने वाले NRI को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App