ताज़ा खबर
 

राजस्थान: पद्मावती फिल्म का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने भांजी लाठियां

राजस्थान में पद्मावती फिल्म का विरोध अब उग्र होता जा रहा है।

Author जयपुर | November 26, 2017 4:03 AM
बिहार में बैन हुई दीपिका पादुकोण की फिल्म पद्मावती।

राजस्थान में पद्मावती फिल्म का विरोध अब उग्र होता जा रहा है। भीलवाड़ा में शनिवार को फिल्म के विरोध में प्रदर्शन कर रहे युवकों ने कई जगह तोड़फोड़ करते हुए एक सिनेमा हाल में आगजनी की कोशिश की। युवकों को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठियां बरसानी पड़ी। दूसरी तरफ जयपुर के नाहरगढ़ किले में युवक के लटके शव के मामले में पुलिस अभी तक हत्या और आत्महत्या की गुत्थी सुलझा नहीं पाई है। राज्य में पद्मावती फिल्म का विरोध अब दूरदराज के इलाकों में भी उग्र होता जा रहा है। राजपूत करणी सेना और कई संगठनों ने शनिवार को भीलवाड़ा शहर के साथ ही कई कस्बों में बंद का आयोजन किया गया। इस दौरान भीलवाड़ा में बंद समर्थकों की भीड़ हिंसा पर उतर आई। भीलवाड़ा शहर के कृषि उपज मंडी इलाके में बंद समर्थकों की स्थानीय लोगों से झड़प हो गई। इस पर दोनों पक्ष एक दूसरे पर पथराव करने लगे। पथराव कर रहे युवकों को पुलिस ने लाठियां भांज कर तितर बितर किया। इससे पूरे इलाके में अफरा तफरी का माहौल बन गया और लोग अपने वाहन छोड़ कर भागते रहे। इसी इलाके से सटे क्षेत्र में भी शनिवार शाम को दो गुटों में झगड़े के बाद पुलिस को लाठियां बरसा कर हालात काबू करने पड़े। बंद समर्थकों में शामिल उत्पाती युवकों ने मिलन टाकीज के पास वाले इलाके में जमकर तोड़फोड़ मचाई।

भीलवाड़ा में सवेरे से ही बंद समर्थकों की टोलियां सड़कों पर उतर आई थी। इसके साथ ही भीलवाड़ा जिले के कई कस्बों में भी बंद रहा।
उधर, जयपुर के नाहरगढ़ किले में 40 फुट ऊंची दीवार पर लटके मिले चेतन सैनी के शव की गुत्थी पुलिस 24 घंटे बाद भी नहीं सुलझा पाई है। पुलिस इसे आत्महत्या का मामला मान कर फाइल बंद करने की कोशिश में है। चेतन के परिजन इसे हत्या करार दे रहे हैं। चेतन के परिजनों को कहना है कि अंधा भी बता सकता है कि हत्या कर शव को लटकाया गया है। शव के पास पत्थरों पर लिखे मिले नारों को पुलिस भ्रमित करने वाला बता रही है। परिजनों का कहना है कि तथ्यों की जांच के बगैर ही पुलिस मामले को बंद करने की तैयारी में लग गई है। पुलिस ने इस घटना की जांच के लिए सात अफसरों की निगरानी टीम बनाई है। जांच अधिकारी हरपाल सिंह का कहना है कि उनकी जांच आत्महत्या को लेकर ही हो रही है। इस प्रकरण पर उच्च स्तर के सात अधिकारी मामले की जांच पर निगरानी रख रहे है। पुलिस शनिवार को भी नाहरगढ़ किले पर घटनास्थल पर साक्ष्यों की जांच करने में जुटी रही।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App