ताज़ा खबर
 

मुस्लिम की हत्या: पुलिस ने कहा गोरक्षकों का हाथ नहीं, गृह मंत्री बोले-क्राइम कंट्रोल के लिए मैनपावर नहीं

35 साल का उमर और उसके दो साथी हरियाणा के मेवात से गाय ला रहे थे लेकिन अलवर जिले के गोविंदगढ के फहारी गांव के पास कुछ बदमाशों ने उन्हें घेर लिया।

मृतक उमर मोहम्मद के चाचा ने कहा है कि उसका भतीजा गायों की तस्करी नहीं करता था (फोटो-एएनआई)

अलवर में कथित गोरक्षकों द्वारा गाय ले जा रहे मुस्लिम शख्स की हत्या के मामले में नया मोड़ आ गया है। अलवर पुलिस ने इस मामले में एफआईआई दर्ज कर लिया है। कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया गया है। लेकिन अलवर के एसपी ने कहा है कि इस केस में अब तक की जांच से ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है जिससे यह कहा जा सके कि इस हत्या में गोरक्षकों का हाथ है। वहीं राजस्थान के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा है कि हमारे पास पर्याप्त मात्रा में पुलिस बस नहीं हैं, लिहाजा हर शहर में ऐसी घटनाओं को रोकना संभव नहीं है। हालांकि कटारिया ने कहा कि पुलिस केस की जांच कर रही है और दोषियों को जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा। शनिवार को दावा किया गया था कि हरियाणा के मेवात से राजस्थान के अलवर गाय ले जा रहे इस शख्स की हत्या गोरक्षकों द्वारा की गई है। अलवर के एसपी राहुल प्रकाश के मुताबिक मामले में एक शख्स को हिरासत में लिया गया है और 6 लोगों की पहचान की गई है। अलवर पुलिस के मुताबिक जिस ट्रक से गायों को ले जाया जा रहा था इससे पांच मरी हुई गायें मिली है, जबकि एक गाय जिंदा है। पुलिस के मुताबिक ट्रक का टायर भी गायब है।

न्यूज अठारह की एक रिपोर्ट के मुताबिक अलवर एसपी ने कहा कि घटना में गिरफ्तार संदिग्ध ने इस बात को कबूल कर लिया है कि उसने मृतक उमर और उसके साथियों को पीटा था, उसने लाश ठिकाने लगाने की बात भी मान ली है। बता दें कि उमर की लाश रेलवे ट्रैक के किनारे मिली थी। लेकिन पुलिस इस घटना को महज एक ‘मर्डर’ मानकर चल रही है और पुलिस को इस केस में गोरक्षकों के शामिल होने के अबतक कोई सबूत नहीं मिले हैं। एसपी के मुताबिक एक पीड़ित ताहिर मोहम्मद के खिलाफ कई आपराधिक केस दर्ज है।

पुलिस के मुताबिक जांच आगे बढ़ने पर ही इस बारे में कुछ स्पष्ट कहा जा सकेगा। बता दें कि पुलिस ने इस मामले में मृतक उमर मोहम्मद के चाचा की शिकायत पर आईपीसी की धारा 302 (हत्या) धारा 147 (दंगा करना) धारा 307 (हत्या का प्रयास) के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। उमर मोहम्मद की हत्या राजस्थान के भरतपुर में 10 नवंबर को कर दी गई है। सूत्रों के मुताबिक 35 साल का उमर और उसके दो साथी हरियाणा के मेवात से गाय ला रहे थे लेकिन अलवर जिले के गोविंदगढ के फहारी गांव के पास कुछ बदमाशों ने उन्हें घेर लिया। और उनपर हमला कर दिया। उमर मोहम्मद की मौत गोली लगने से हुई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App