ताज़ा खबर
 

राजस्‍थान: अब अशोक गहलोत सरकार ने किया किसान कर्ज माफी का एलान, पड़ेगा 18,000 करोड़ रुपए का भार

पूरे राज्य के किसानों का कर्ज माफ करने से राज्य सरकार पर 18,000 करोड़ रुपए का बोझ पडे़गा।

Author December 20, 2018 8:26 AM
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत।

राजस्थान में हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सरकार आ गई है। अब राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने किसानों की कर्ज माफी का ऐलान कर दिया है। पूरे राज्य के किसानों का कर्ज माफ करने से राज्य सरकार पर 18,000 करोड़ रुपए का बोझ पडे़गा। राजस्थान सरकार किसानों का 2 लाख रुपए तक का कर्ज माफ करेगी। किसान कर्जमाफी को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को मुख्यमंत्री निवास पर मुख्य सचिव डीबी गुप्ता सहित अन्य अधिकारियों के साथ अहम बैठक की। बैठक में किसान कर्जमाफी को लेकर मंथन किया गया। बैठक में किसानों पर बकाया ऋण और राजकोष की आर्थिक स्थिति सहित सभी बिंदुओं पर चर्चा हुई।

मध्‍य प्रदेश  में शपथ ग्रहण के तुरंत बाद ही मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने कर्जमाफी की फाइल को मंजूरी दे दी। छत्‍तीसगढ़ में भी भूपेश बघेल ने सरकार बनने के कुछ घंटों में ही इस पर अपनी मुहर लगा दी। दोनों सरकारों ने इस कदम को इस तरह पेश किया कि उन्‍होंने राहुल गांधी के वादों को सरकार बनते ही मंजूरी दे दी। राज्य में वसुंधरा सरकार ने 2000 करोड़ तक का कर्ज माफ किया था और 8000 का करोड़ का कर्ज छोड़ दिया। इस ऋण माफी से सरकार पर 18000 करोड का भार पड़ेगा।

नीति आयोग ने 19 दिसंबर को कहा कि कृषि ऋण माफी से किसानों के एक तबके को ही लाभ होगा और कृषि समस्या के हल के लिए यह कोई समाधान नहीं है। कृषि कर्ज माफी को लेकर जारी बहस के बीच नीति आयोग ने यह कहा। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सरकार पर किसानों का कर्ज माफ करने के लिए दबाव दे रहे हैं। उन्होंने कहा है कि वह तबतक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आराम से बैठने नहीं देंगे जबतक सभी किसानों का कर्ज माफ नहीं हो जाता। ‘नये भारत के लिये रणनीति @75’ दस्तावेज जारी करने के मौके पर नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा, ‘‘कृषि क्षेत्र में संकट के लिये कृषि ऋण माफी कोई समाधान नहीं है बल्कि इससे केवल कुछ समय के लिये राहत मिलेगी।’’  नीति आयोग के सदस्य (कृषि) रमेश चंद ने भी कुमार की बातों से सहमति जताते हुए कहा कि कर्ज माफी की सबसे बड़ी समस्या यह है कि इससे किसानों के केवल एक तबके को लाभ होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X