ताज़ा खबर
 

रद्दी में किताबों के साथ दे दिए 1 लाख रुपए, कबाड़ी वाले ने अगले ही दिन लौटाए

राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले की घटना, पति ने उधार लिए थे 1 लाख रुपए, सेफ्टी के लिए छुपाए थे किताबों में
500 के पुराने नोटों की गिनती करता एक व्यक्ति। (चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।)

शांति भादू जब घर के कुछ पुराने अखबार और पुरानी किताबें कबाड़ी वाले को बेच रही थीं, तो उन्हें पता नहीं था कि एक किताब के बीच में रखे 1 लाख रुपए भी वह कबाड़ी वाले को दे बैठेंगी। घटना राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले की है। मगर इस घटना का सबसे मजेदार पहलू यह है कि किशोर भादू और पत्नी शांति भादू को अगले ही दिन यह रकम वापस भी मिल जाती है।

दरअसल सुरेंद्र और शंकर वर्मा नाम के दो भाई घर-घर जाकर रद्दी खरीदने का काम करते हैं। वह 5 रुपए प्रति किलोग्राम के भाव पर पुरानी किताबे और न्यूजपेपर खरीदते हैं। बीते मंगलवार को उन्होंने शांति भादू से भी इसी भाव में रद्दी खरीदी। मगर शाम को जब घर जाकर वह पूरे दिन के इकट्ठा माल की गिनती कर रहे थे, तब उसमें से 100 और 500 के नोट की गड्डियां मिलीं।

शंकर बताते हैं, “उसके बाद हम पूरी रात सो नहीं पाए। हमने एक साथ कई घरों से रद्दी खरीदी थी, इसलिए हम समझ नहीं पाए यह किसके हैं।” इन पैसों के मालिक का पता लगाने के लिए शंकर और सुरेंद्र ने सभी किताबों की जांच की। एक किताब में उन्हें शालू पूनिया नाम लिखा मिला। अगले ही दिन यह दोनों भाई उस सभी जगहों पर गए जहां से उन्होंने पिछले दिन माल खरीदा था।

Read alos: Viral Video: भरतपुर से भाजपा सांसद ने टोलकर्मी को सरेआम पीटा

दरअसल शालू किशोर भादू की पोती का नाम था। गांव वालों और पड़ोसियों की मदद से दोनों भाई भादू दंपति के घर पहुंचे और उन्हें पैसे वापस कर दिए। मजेदार बात तो यह रही कि भादू दंपति को यह मालूम ही नहीं था कि उनके 1 लाख रुपए कबाड़ी वालों पर चले गए। किशोर बताते हैं, “मैंने 1 लाख रुपए किसी से उधार लिए थे, जिसे सेफ्टी के लिए किताबों में छुपाकर रख दिया था। मुझे पता नहीं था कि मेरी पत्नी उन किताबों को ही बेच डालेगी।” कबाड़ी भाइयों की तारीफ करते हुए किशोर ने कहा, “मुझे समझ नहीं आ रहा इनका धन्यवाद किस तरह करूं। वह मेरे लिए एक फरिश्ते की तरह हैं।”

Read alos: बीफ के शक में मुस्लिम महिलाओं को सरेआम पीटा, लोगों ने बनाया VIDEO, देखती रही पुलिस

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. H
    HARIOM SINGH
    Jul 30, 2016 at 11:54 am
    गुड.
    (0)(0)
    Reply