ताज़ा खबर
 

राजस्‍थान: टिकट नहीं मिला, लेकिन खुद को कांग्रेसी बता विज्ञापन दे अभी से मांग रहे वोट

ब्यावर के कांग्रेस नेता कहते हैं कि वे उन्हें पता नहीं है कि दिलीप जैन कौन हैं। इसके अलावा स्थानीय कांग्रेस नेताओं का यह भी कहना है कि वे कांग्रेस के प्राथमिक सदस्य हैं या नहीं अबतक यह भी पता नहीं चल पाया है।

कांग्रेस के संभावित उम्मीदार दिलीप जैन (फोटो-twitter/@dileepjain007)

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए तारीख की घोषणा नहीं हुई है, लेकिन टिकटों के लिए अभी से जोर आजमाइश हो रही है। 11 अगस्त कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि इस बार के विधानसभा चुनाव में एक भी बाहरी व्यक्तियों को टिकट नहीं दिया जाएगा। राहुल ने एक रैली में साफ कहा था कि विधानसभा चुनाव में पैराशूट उम्मीदवारों के लिए कोई गुंजाइश नहीं है। हालांकि राहुल की चेतावनी के बावजूद पैराशूट कैंडिडेट टिकटों के लिए जुगाड़ लगा रहे हैं। ऐसी ही एक बानगी राजस्थान के ब्यावर में देखने को मिली। यहां खुद को कांग्रेसी कहने वाले एक बाहरी नेता ने कई दिनों से डेरा डाल रखा है।

दिलीप जैन नाम के इस कांग्रेसी नेता ने मई महीने में ही अपने ट्विटर अकाउंट पर एक पोस्ट डाल दिया है और लोगों से समर्थन की अपील कर रहे हैं। दिलीप जैन खुद को कांग्रेस का संभावित कैंडिडेट बताते हैं। वे अखबार में बड़े-बड़े विज्ञापन दे रहे हैं। दिलीप जैन ने लिखा है कि अगर उन्हें मौका मिला तो वे 5 साल में ब्यावर का कायापलट कर देंगे और इस शहर को विकसित शहरों की श्रेणी में शामिल कर देंगे। दिलीप जैन जयपुर के रहने वाले हैं लेकिन इस बार ब्यावर से चुनाव लड़ना चाहते हैं। ब्यावर के कांग्रेस नेता कहते हैं कि वे उन्हें पता नहीं है कि दिलीप जैन कौन हैं। इसके अलावा स्थानीय कांग्रेस नेताओं का यह भी कहना है कि वे कांग्रेस के प्राथमिक सदस्य हैं या नहीं अबतक यह भी पता नहीं चल पाया है।

स्थानीय कांग्रेस नेताओं का कहना है कि इस शख्स का विधानसभा टिकट के लिए दावा करना ठीक नहीं है। बता दें कि कांग्रेस इस बार राजस्थान में वसुंधरा सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए जी जान लगा रही है। 11 अगस्त को राहुल ने जयपुर में रैली करते हुए राज्य के लोगों को वसुंधरा सरकार को उखाड़ फेंकने को कहा था। इस साल के अंत तक राजस्थान में विधानसभा चुनाव होने हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App