ताज़ा खबर
 

राजस्थान: प्रेम संबंधों के चलते युवक और विवाहिता को निर्वस्त्र कर पेड़ से बांधा, 13 लोग गिरफ्तार

थानाधिकारी हिमांशु ने कहा कि युवक और विवाहिता को निर्वस्त्र कर पेड़ से बांधा गया लेकिन दोनों को निर्वस्त्र कर गांव में घुमाने की पुष्टि नहीं की है।

Author जयपुर | June 24, 2016 19:03 pm
( representative picture)

राजस्थान में उदयपुर जिले के कानोड थाना इलाके के कसोटिया गांव में प्रेम सम्बधों के चलते गांववालों ने एक युवक और एक विवाहिता युवती को निर्वस्त्र कर पेड़ से बांध दिया और युवती को छुड़ाने आयी उसकी मां और उसके परिजनों को कमरे में बंद कर उनके साथ मारपीट की। पुलिस ने इस मामले में तीन महिलाओं समेत तेरह लोगों को हिरासत में लिया है।

पुलिस अधीक्षक :उदयपुर: राजेन्द्र प्रसाद गोयल के अनुसार कसोटिया गांव की 26 वर्षीय युवती का विवाह पहले भंवर लाल के साथ हुआ था, जबकि महिला का पीपली टेकण निवासी लालू राम से प्रेम संबंध था। विवाहिता के लालू राम के साथ चले जाने की जानकारी गा्रमीणों को मिली और वह 20 जून को उसे भटेवर के पास से पकड़ कर कसोटिया ले आया गया और दोनोें को :लालूराम और विवहिता: निर्वस्त्र कर पेड़ के बांध दिया गया।

उन्होंने बताया कि युवती के घर वालों को इसकी जानकारी मिलने पर उसकी मां और उसके कुछ परिजन मौके पर पहुंचे लेकिन ग्रामीणों ने इन्हें भी एक कमरे में बंद कर दिया। कसाडिया गांव पहुुंचे गोयल के अनुसार एक जनप्रतिनिधि द्वारा इस घटना की सूचना कल देने पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मौके पर पहुंचे और बंधकों को मुक्त कराया। उन्होंने बताया कि पुलिस ने इस सम्बध में तीन महिलाओं सहित तेरह लोगों को हिरासत में लेकर पुछताछ शुरू कर दी है। पुलिस के अनुसार पीड़ित युवक और युवती के परिजनों द्वारा इस घटना पर शिकायत देने से इंकार करने पर कानोड थानाधिकारी ने स्वप्रेरणा से मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

भिंडर थानाधिकारी हिमांशु ने कहा कि युवक और विवाहिता को निर्वस्त्र कर पेड़ से बांधा गया लेकिन उन्होंने दोनों को निर्वस्त्र कर गांव में घुमाने की पुष्टि नहीं की है। बल्लभनगर पुलिस उप अघीक्षक घनश्याम शर्मा ने बताया कि पीड़िता अभी मिली नहीं है। संभवत वह भंवर लाल के साथ है। उन्होने बताया कि लालू राम के परिजनों ने लालूराम को छुड़वाने की एवज में ग्रामीणों को अस्सी हजार रूपये दिये हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

इधर राजस्थान राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने इस घटना पर दुख जताते हुए कहा कि मीडिया के माध्यम से मुझे इस घटना की सूचना मिली है। मैने इस बारे में पूरी जानकारी मंगवाई है। मामले की जांच की जाएगी और दोषी को किसी भी हालत में बख्शा नहीं जायेगा। लसाडिया के उपखंड अधिकारी नरेश बुनकर ने स्थानीय पटवारी मणिलाल मेघवाल और दो सरकारी अध्यापकों के खिलाफ समय पर प्रशासन को सूचना नहीं देने के लिये उन पर कार्रवाही करने के लिये अनुशंसा जिला कलक्टर को भेजी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App