ताज़ा खबर
 

10 लाख नहीं दिए तो सोशल साइट्स की महिला फ्रेंड ने करवाई हत्या, सूटकेस में टुकड़ों मिली लाश

आरोपी प्रिया ने सोशल नेटवर्किंग साइट की मदद से दुष्यंत से दोस्ती की थी। दुष्यंत की किडनैपिंग के बाद प्रिया ने उससे 10 लाख रुपये मांगे। दुष्यंत ने जब इससे इनकार कर दिया तो प्रिया ने उसके खिलाफ रेप केस करने की धमकी दी।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है।

राजस्थान की राजधानी जयपुर में किडनैपिंग और क्रूर हत्या की एक सनसनीखेज वारदात सामने आई है। यहां एक महिला ने सोशल नेटवर्किंग पर एक शख्स ने दोस्ती गांठी। अपने दोस्तों की मदद से उसे किडनैप कर लिया और इसके बाद उसके परिवार से दस लाख की फिरौती मांगी। पुलिस के अनुसार बाद में तीन आरोपियों ने दुष्यंत की हत्या कर दी और 3 मई की शाम उसका शव सूटकेस में बंद कर आमेर के निकट सुनसान इलाके में फेंक दिया। हालांकि हैरत की बात ये है कि ये सूटकेस दिल्ली में मिला। सूटकेस दिल्ली कैसे आया इस बारे में पता नहीं चल पाया है। पुलिस के मुताबिक बुधवार को आरोपी प्रिया सेठ (27) ने दिशांत (26) और लक्ष्य वालिया (26) की मदद से दुष्यंत कुमार को कैद कर लिया था। पुलिस की जांच में पता चला है कि आरोपी प्रिया ने सोशल नेटवर्किंग साइट की मदद से दुष्यंत से दोस्ती की थी। दुष्यंत की किडनैपिंग के बाद प्रिया ने उससे 10 लाख रुपये मांगे। दुष्यंत ने जब इससे इनकार कर दिया तो प्रिया ने उसके खिलाफ रेप केस करने की धमकी दी।

पुलिस के मुताबिक अपहरणकर्ताओं ने दुष्यंत को जयपुर के बजाज नगर इलाके में एक किराये के फ्लैट में रखा था। आरोपी महिला ने पीड़ित का एटीएम कार्ड निकाला और उससे 20 हजार रुपये निकाले। प्रिया ने दुष्यंत के पिता से भी फिरौती मांगी। दुष्यंत के पिता ने डरते हुए अपने बेटे के अकाउंट में 3 लाख रुपये जमा भी करवा दिये। इसके बाद आरोपियों ने गला दबाकर दुष्यंत की हत्या कर दी और उसकी लाश को टुकड़ों में काट दिया। जयपुर की झोटवाडा थाना पुलिस का कहना है कि हत्या की वजह अबतक साफ नहीं हो पायी है, क्योंकि दुष्यंत के पिता ने फिरौती में मांगी गयी रकम को जमा करवाना शुरू कर दिया था। सवाल यह भी है कि डेड बॉडी जयपुर से 270 किलोमीटर दूर दिल्ली कैसे पहुंची? पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार प्रिया का आपराधिक रिकार्ड है और पहले भी तीन मामलों में उसे गिरफ्तार किया जा चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App