ताज़ा खबर
 

वसुंधरा सरकार में नौकरशाही हावी, जनता परेशान : गहलोत

नौकरशाही इतनी हावी है कि जनप्रतिनिधियों की भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

Author जयपुर | October 3, 2016 6:09 AM
राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक गहलोत का कहना है कि प्रदेश में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है और नौकरशाही इतनी हावी है कि जनप्रतिनिधियों की भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे अब सिर्फ समय बिता रही हैं। पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत यहां भाजपा की वसुंधरा राजे सरकार पर जमकर बरसे। गहलोत ने बीकानेर दौरे के दौरान पत्रकारों से कहा कि भाजपा सरकार खुद भ्रमित है। सरकार पहले निर्णय करती है और फिर उसे बदल देती है। इसके लिए उन्होंने कई उदाहरण भी दिए। इसमें उन्होंने बीकानेर कृषि विश्वविद्यालय का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इस सरकार से न केवल भाजपा के विधायक पीड़ित हैं बल्कि आमजन भी तंग और परेशान हैं। प्रचंड बहुमत मिलने के बाद भी मुख्यमंत्री को समझ में नहीं आ रहा है कि वे क्या करें। प्रदेश में बिजली इकाईयां बंद हो रही है जिससे बिजली उत्पादन ठप हो गया है। भाजपा ने घोषणा पत्र में बिजली दरें नहीं बढ़ाने का वादा किया था। इसके बावजूद बिजली दरें बढ़ा कर जनता पर भार डाल दिया गया है। अस्पतालों में मरीजों को दवा नहीं मिल रही है और विकास दूर दूर तक नहीं दिख रहा है। मुख्यमंत्री अब सिर्फ समय बिता रही हैं और इससे नुकसान जनता का हो रहा है।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Gold
    ₹ 25900 MRP ₹ 29500 -12%
    ₹3750 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 15220 MRP ₹ 17999 -15%
    ₹2000 Cashback

पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत लगातार प्रदेश के दूरदराज के इलाकों का दौरा कर रहे है। उनकी सभाओं में भारी भीड़ उमड़ रही है। गहलोत का कहना है कि प्रदेश में शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, बिजली और पानी का बुरा हाल हो रहा है। इन समस्याओं को लेकर आम जनता खासी परेशान है। दूसरी तरफ अपराध और भ्रष्टाचार बढ़ रहा है। अपराधों में बेतहाशा बढ़ोतरी होने से लोगों में असुरक्षा की भावना पनप रही है। प्रदेश के सरकारी तंत्र में भ्रष्टाचार फैला हुआ है। गहलोत ने रिफाइनरी और प्रदेश से जुड़े कई मसलों पर भाजपा सरकार की तीखी आलोचना की। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार भी प्रदेश की सरकार से विकास से जुड़े मसलों पर कोई बात नहीं करती। केंद्र सरकार भी वसुंधरा सरकार से दूरी बना कर चल रही है। इससे प्रदेश को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। रिफाइनरी के मसले पर तो गहलोत खासे मुखर रहे हैं। उनकी सरकार के समय ही बाड़मेर जिले में रिफाइनरी की स्थापना का फैसला हुआ था। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने अपने तीन साल के शासन में विकास से जुड़ी एक भी बड़ी परियोजना पर काम नहीं किया है। भाजपा के तमाम वादे खोखले साबित हो रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App