scorecardresearch

राजस्थान: 129 इंजीनियर, 23 वकील, एक सीए और 13 एमए डिग्री वालों ने दिया चपरासी का इंटरव्यू

जिन लोगों का इंटरव्यू हुआ उनमें 3600 लोग काफी पढ़े लिखे थे, इनमें से 1533 आर्ट्स ग्रेजुएट थे, 23 साइंस में पीजी की डिग्री लेकर रखे थे, तो 9 लोगों के पास एमबीए की डिग्री थी।

राजस्थान: 129 इंजीनियर, 23 वकील, एक सीए और 13 एमए डिग्री वालों ने दिया चपरासी का इंटरव्यू
राजस्थान विधानसभा का नया भवन (Source: rajassembly.nic.in)

राजस्थान सचिवालय के लिए जब चपरासी के पद पर नियुक्ति के लिए परीक्षार्थियों का इंटरव्यू लिया जा रहा था, तो उम्मीदवारों की शैक्षणिक डिग्री देखकर इंटरव्यू लेने वाले आश्चर्य में पड़ गये। चतुर्थ श्रेणी के 18 पदों के लिए इंटरव्यू देने वालों में 129 इंजीनियर्स, 23 वकील, एक चार्टर्ड अकाउंटेंट, 393 कला संकाय में पोस्टग्रेजुएट शामिल थे। राजस्थान सचिवालय में भर्ती में के लिए कुल 12 हजार 453 लोगों ने इंटरव्यू दिया। हालांकि आखिरी 18 लोगों में जिन्होंने जगह बनाई उन्हें 30 साल का एक युवक रामकृष्ण मीणा है जो दसवीं क्लास तक पढ़ा है, और बीजेपी विधायक का बेटा है। इस पद के लिए रामकृष्ण मीणा के चयन से राजनीतिक हलकों में गहमागहमी है। विधानसभा की वेबसाइट में 15 दिसंबर को दी गई जानकारी में रामकृष्ण मीणा का स्थान 12वां है। विपक्ष ने इन नियुक्तियों में गड़बड़ी की आशंका जताई है। राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट ने इस मामले में उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।

उम्मीदवारों की शैक्षिणिक योग्यता।

सचिन पायलट ने कहा है कि बीजेपी नेता अपने रिश्तेदारों को सरकारी नौकरियों में जगह दे रहे हैं, जबकि राज्य के बेरोजगार युवक नौकरियों की दर-दर भटक रहे हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र और राज्य की नीतियों की वजह से राजस्थान में नौकरियों का टोटा हो गया है। हालांकि जमवा रामगढ़ के विधायक जगदीश नारायण मीणा ने बेटे का चपरासी पद के चयन में किसी भी तरह की गड़बड़ी से इनकार किया है और कहा है कि भर्तियों में ‘अनियमितताओं’ का सवाल ही नहीं है। उन्होंने कहा, ‘मेरे बेटे ने सामान्य प्रक्रिया के तहत इस नौकरी के लिए अप्लाई किया था और इंटरव्यू के बाद उसका चयन हुआ है। उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, ‘विपक्ष कहता है कि मैंने अपने बेटे को नौकरी दिलवाने के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल किया, लेकिन अगर मेरी इतनी ही चलती तो मैं अपने बेटे को चपरासी की नौकरी क्यों दिलवाता? अगर ऐसी ही बात थी तो मैं उसे बड़ी नौकरी दिलवाता।’

राजस्थान सरकार के मुताबिक इस नौकरी के लिए न्यूनतम योग्यता मात्र पांचवीं क्लास पास थी। लेकिन जिन लोगों का इंटरव्यू हुआ उनमें 3600 लोग काफी पढ़े लिखे थे, इनमें से 1533 आर्ट्स ग्रेजुएट थे, 23 साइंस में पीजी की डिग्री लेकर रखे थे, तो 9 लोगों के पास एमबीए की डिग्री थी। इसके अलावा होटल मैनेजमेंट, नर्सिंग पास उम्मीदवारों ने भी इस नौकरी के लिए अप्लाई किया था।

पढें जयपुर (Jaipur News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 05-01-2018 at 09:33:41 am
अपडेट