ताज़ा खबर
 

राजस्थान: गायों की मौत और भ्रष्टाचार पर सरकार को घेरेगी कांग्रेस

प्रतिपक्ष के उपनेता रमेश मीणा ने भी दावा किया कि इस बार के मानसून सत्र में भाजपा सरकार को जनहित के मुद्दों पर बहस के लिए मजबूर किया जाएगा।
Author जयपुर | August 31, 2016 23:43 pm
राजस्थान कांग्रेस के प्रमुख सचिन पायलट (पीटीआई फाइल फोटो)

राजस्थान विधानसभा में प्रतिपक्षी दल कांग्रेस ने भाजपा सरकार के खिलाफ आक्रामक रवैया अपनाने का फैसला किया है। कांग्रेस का जोर सरकारी गोशाला में बड़ी संख्या में गायों की मौत और भ्रष्टाचार के मसलों पर बहस कराने पर रहेगा। कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा सरकार जनहित के सभी मोर्चो पर नाकाम साबित हुई है, इसलिए उसे सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है। राज्य विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता रामेश्वर डूडी ने यहां कहा कि सरकार की विफलताओं को जमकर उठाया जाएगा। विधानसभा का मानसून सत्र गुरुवार से यहां शुरू होगा। सत्र से पहले डूडी ने कहा कि जयपुर की हिंगोनिया गोशाला में गायों की मौत सरासर सरकार की लापरवाही को उजागर करती है।

भाजपा गाय और राम के नाम की सियासत करती है। उसके ही राज में गायों की मौत होना दर्शाता है कि सरकार पूरी तरह से लापरवाही से काम कर रही है। उनका कहना है कि सरकार गायों की मौत और भ्रष्टाचार पर खुल कर बहस कराए। भाजपा सरकार के ढाई साल के शासन में ही अकेले हिंगोनिया गोशाला में 27 हजार गायों की मौत हो गई। इस मामले में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के स्तर तक से लापरवाही हुई है। नगर निगम पर भाजपा का कब्जा है और उसने गायों की देखभाल के काम में घोर लापरवाही बरती। इस प्रकरण में प्रदेश की जनता में भाजपा सरकार के खिलाफ बडा गुस्सा है।

डूडी का साफ कहना है कि भाजपा शासन में भ्रष्टाचार सभी हदें लांघ गया है। प्रदेश में खान घोटाले के बाद अब जलदाय विभाग का भ्रष्टाचार उजागर हो गया है। चिकित्सा विभाग में भी बडेÞ पैमाने पर घोटाले उजागर हुए हैं। जलदाय विभाग के भ्रष्टाचार का धुआं तो जलदाय मंत्री के आंगन से उठ रहा है। ऐसे में प्रतिपक्ष विधानसभा में भ्रष्टाचार के सभी मामलों में बहस की मांग को जोर शोर से उठाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अपराधों में खासी बढ़ोतरी हो गई है। अपराध बढ़ने से आम नागरिक खुद को असुरक्षित महसूस कर रहा है। दलित छात्रा डेल्टा के दुष्कर्म और हत्या के मामले की जांच से सीबीआइ के इनकार ने भी सरकार को कठघरे में खड़ा कर दिया है। प्रदेश के हालत बहुत बुरे हो गए हैं। प्रतिपक्ष के नेता का कहना है कि उनके विधायक दल की बैठक गुरुवार सवेरे ही होगी। इसमें भाजपा सरकार को घेरने की रणनीति बनाई जाएगी।

प्रतिपक्ष के उपनेता रमेश मीणा ने भी दावा किया कि इस बार के मानसून सत्र में भाजपा सरकार को जनहित के मुद्दों पर बहस के लिए मजबूर किया जाएगा। मीणा ने कहा कि सरकार की कोशिश रहेगी कि बहस के बगैर ही विधायी कामकाज निपटाया जाए। प्रतिपक्ष सरकार के मंसूबों को पूरा नहीं होने देगा। प्रतिपक्ष गायों की मौत और भ्रष्टाचार के साथ ही कई मुद्दों पर सरकार से जवाब मांगेगा। मीणा का कहना है कि कांग्रेस सड़क से लेकर विधानसभा तक में जनहित के मामलों को जोर शोर से उठाएगी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.