ताज़ा खबर
 

राजस्थान सरकार ने बदला हल्दीघाटी युद्ध का इतिहास, लिखा- महाराणा प्रताप ने अकबर को हराया था

वसुंधरा राजे सरकार के तीन मंत्रियों ने उस प्रस्ताव का समर्थन किया था, जिसके तहत इतिहास के तथ्य बदलने की बात की गई थी।

proposal to change history, Maharana Pratap history, Rajasthan University, Maharana Pratap history chnages, rajasthan government changes history, महाराणा प्रताप का इतिहास, वसुंधरा राजे सरकारराजस्थान की धरती पर 1576 ई. में हल्दीघाटी युद्ध हुआ था। ( सांकेतिक फोटो)

राजस्थान में बीजेपी सरकार द्वारा महाराणा प्रताप के इतिहास को बदलने की खबर फरवरी 2017 में सामने आई थी। राज्य सरकार ने अपने इस काम पर मुहर लगाते हुए महाराणा प्रताप का इतिहास बदल दिया है। “महाराणा प्रताप ने अकबर को 1576 में हल्दीघाटी की लड़ाई में हराया था”, यह जानकारी अब राजस्थान में 10वीं कक्षा के छात्रों के लिए तैयार की गई सोशल साइंस की नई किताब देगी। वहीं सिर्फ स्कूल ही नहीं बल्कि राजस्थान यूनिवर्सिटी के इतिहास विभाग ने भी कुछ बदलाव किए हैं। विभाग ने इतिहास के दो सेक्शनों के नाम में बदलाव किए हैं। विभाग ने “प्राचीन इतिहास” (600 BC- 1200AD) का नाम बदलकर “गोल्डन एरा ऑफ इंडिया” नाम दिया है और “मध्यकालीन इतिहास” (1200 AD- 1700AD) का नाम को बदलकर “स्ट्रग्लिंग इंडिया” का नाम दिया है।

बता दें महाराणा प्रताप के इतिहास को बदलने की जानकारी इसी साल की शुरुआत में आई थी। फरवरी 2017 में वसुंधरा राजे सरकार के तीन मंत्रियों ने उस प्रस्ताव का समर्थन किया था, जिसके तहत इतिहास के तथ्य बदलने की बात की गई थी। महाराणा प्रताप के हल्दीघाटी युद्ध पर फिर से चर्चा का मुद्दा उठाया गया था क्योंकि इस युद्ध के बारें में इतिहासकारों की अलग-अलग राय है। फरवरी 2017 के करीब राजस्थान विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर और इतिहासकार डॉक्टर चन्द्रशेखर शर्मा ने एक शोध प्रस्तुत किया था जिसके मुताबिक 18 जून 1576 ई. को हल्दीघाटी युद्ध मेवाड़ तथा मुगलों के बीच हुआ था। युद्ध के परिणाम के बारे में तरह-तरह की बाते की जाती हैं लेकिन असल में इस युद्ध में महाराणा प्रताप ने जीत हासिल की थी। डॉ. शर्मा ने विजय को दर्शाते प्रमाण राजस्थान विश्वविद्यालय में जमा कराए थे। वहीं मार्च 2017 में राज्य सरकार के अकबर के नाम के आगे से ‘महान’ शब्द हटाने की खबर सामने आई थी। राजस्थान के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने मुगल सम्राट अकबर की तुलना ‘आतंकियों’ से की थी।

इसके अलाव गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी मई 2017 में कहा था कि महाराणा प्रताप को इतिहास में वो जगह नहीं मिली जो उन्हें मिलनी चाहिए थी। महाराणा प्रताप में ऐसी कौन-सी कमी थी। यह बात उन्होंने राज्य के पाली जिले के खारोकडा गांव में महाराणा महाराणा प्रताप की अनावरण कार्यक्रम के दौरान कही थी। राजनाथ सिंह ने कहा था कि उन्हें आश्चर्य है कि इतिहासकारों को अकबर की महानता तो नजर आई, लेकिन राजस्थान के वीर सपूत महाराणा प्रताप की महानता नजर नहीं आयी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 इंडिया के एनर्जी चोर: 6 साल तक हुई कच्चे तेल की चोरी, गोल कर गये 5 करोड़ लीटर कच्चा तेल
2 राजस्थान: गुस्से में तीन तलाक देने पर पति ने मांगी माफी, अब रहना चाहता है पत्नी के साथ
3 वीडियो: सरेआम सड़क पर हुई प्रेमी जोड़े की पिटाई, पुलिस आई तो पीड़‍िता को ही कर लिया गिरफ्तार
ये पढ़ा क्या...
X