ताज़ा खबर
 

राजस्‍थान: अंतिम इच्‍छा का पालन करते हुए 4 लड़कियों ने पिता को मुखाग्नि दी, पंचायत ने बेदखल कर दिया

चार बहनों ने अपने पिता की इच्छा के मुताबिक उनकी ​अ​र्थी को कंधा दिया और उनका अंतिम संस्कार किया। इस वाकये पर दलित समुदाय की पंचायत ने सामूहिक रूप से कथित तौर पर रैगर परिवार को जा​ति से बाहर करने का आदेश सुना दिया।

राजस्‍थान के बूंदी में पिता की मौत के बाद शव को कंधा देती बेटियां। फोटो- फेसबुक

राजस्थान के बूंदी जिले में महिलाओं से भेदभाव का एक और मामला सामने आया है। इस मामले में चार बहनों ने अपने पिता की इच्छा के मुताबिक उनकी ​अ​र्थी को कंधा दिया और उनका अंतिम संस्कार किया। इस वाकये पर दलित समुदाय की पंचायत ने सामूहिक रूप से कथित तौर पर रैगर परिवार को जा​ति से बाहर करने का आदेश सुना दिया।

पंचायत ने पहले ही महिलाओं को चेतावनी दी ​थी कि वह अपने अपने मृत पिता के अंतिम संस्कार में हिस्सा न लें। लेकिन उसके बावजूद लड़कियों ने इस काम में हिस्सा लिया। अंतिम संस्कार के बाद, लड़कियों और उनके परिवार के सदस्यों को सामुदायिक अहाते में नहाने की इजाजत भी नहीं दी गई। यहां तक कि परंपरा के मुताबिक पूरे गांव में किसी ने भी उन्हें खाना तक नहीं पहुंचाया।

मृतक की पहचान 58 साल के दुर्गाशंकर के तौर पर हुई है। दुर्गाशंकर की मृत्यु शनिवार को लंबे वक्त से बीमार रहने के कारण हुई थी। उन्हें कोई बेटा नहीं था। ऐसे में उनकी आखिरी इच्छा थी कि उनकी अ​र्थी को उनकी बेटियां ही कंधा दें। उनकी मौत के बाद, उनकी बेटियों ने पंचायत की चेतावनी के बावजूद उनकी आखिरी इच्छा पूरी की।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 7 32 GB Black
    ₹ 41999 MRP ₹ 52370 -20%
    ₹6000 Cashback
  • Honor 7X 64 GB Blue
    ₹ 15590 MRP ₹ 17990 -13%
    ₹0 Cashback

दुर्गाशंकर की सबसे बड़ी बेटी 25 साल की मीना ने टाइम्स आॅफ इंडिया को बताया कि समुदाय के नेताओं ने हमें पहले ही चेतावनी दी थी कि हम अपने पिता के आखिरी क्रियाकर्म में हिस्सा न लें। लेकिन हमने इसे मानने से इंकार कर दिया। बेटियों के द्वारा पिता का अंतिम संस्कार किए जाने के बाद समुदाय की पंचायत ने हमें इस काम के लिए माफी मांगने को कहा। हमने ऐसा करने से इंकार कर दिया क्योंकि हमने कुछ भी गलत नहीं किया था।

मीना के मुताबिक, जब वह अंतिम संस्कार से लौटकर घर आए तो सामुदायिक केंद्र पर ताला लगा हुआ था। उन्हें वहां पर परंपरा के मुताबिक नहाने की इजाजत नहीं दी गई। इस पूरे इलाके का अंधविश्वास भरा माहौल नया नहीं है। इन्हीं कानूनी ठेकेदारों ने एक महीना पहले हरीपुरा गांव में बच्ची के घर में घुसने पर प्रतिबंध लगा दिया था क्योंकि उसने टिटहरी पक्षी का अंडा फोड़ दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App