ताज़ा खबर
 

CRPF जवान ने टीके में मिले 5 लाख 51 हजार रुपये लौटाए, शगुन में लिए ₹101 और नारियल

शिवराज के परिवार ने इस पैसे को लेने के बजाए कहा कि इस पैसे को सामाजिक सरोकार के कामों में खर्च किया जाए। शिवराज ने कहा कि में अपील करता हूं कि दहेज जैसी इस भयावह कुप्रथा को रोका जाए।

Author Updated: March 1, 2018 2:28 PM
शादी में शामिल होने आए सभी लोगों ने शिवराज सिंह और उसके परिवार की इस पहल के लिए खूब सराहना की है।

दहेन नहीं मिलने की वजह से बारात लौटने की खबरें तो आपने पढ़ी होंगी, या दहेज कम मिलने की वजह से परेशान करने बेइज्जती करने की खबरें भी पढ़ी होंगी। क्या आपने कभी पढ़ा है कि किसी ने दहेज में मिले लाखों रुपए वापस कर दिए। आज हम सेना के एक जवान के बारे में बताने जा रहे हैं। सीआरपीएफ के जवान शिवराज सिंह राठौड़ की शादी थी। शादी में शिवराज सिहं को शुगन में 5,51,000 रुपए मिले थे, लेकिन शिवराज सिंह ने दहेज प्रथा बंद करने की बात करते हुए इसकी शुरुआत खुद से करते हुए, यह पैसे वापस कर दिए। शिवराज सिंह ने शगुन में लिए सिर्फ 101 रुपए और नारियल लिए। शिवराज सिंह राठौड़ कोनियाड़ा के चांपावत में रहते हैं। शिवराज के पिता ओम प्रकाश राठौड़ ने अपने बेटे की शादी बरडवा नागौर के शेखावत परिवार में रणजीत सिंह शेखावत की बेटी मिथलेश से कराई थी।

शिवराज के परिवार ने इस पैसे को लेने के बजाए कहा कि इस पैसे को सामाजिक सरोकार के कामों में खर्च किया जाए। शिवराज ने कहा कि में अपील करता हूं कि दहेज जैसी इस भयावह कुप्रथा को रोका जाए। हमें बच्चों की शिक्षा पर ध्यान देना होगा। हमें अपनी समस्याओं का हल खुद निकालना होगा। हमें समाज जाति धर्म आदि से ऊपर उठना होगा और एक साथ मिलजुलकर रहना होगा। शिवराज सिंह 3 साल से देश की सेवा कर रहे हैं। उन्होंने 3 साल पहले ही सीआरपीएफ में नौकरी शुरू की थी। अभी वह हैदराबाद में तैनात हैं।

शादी में शामिल होने आए सभी लोगों ने शिवराज सिंह और उनके परिवार की इस पहल के लिए खूब सराहना की है। शादी में शामिल होने आए लोगों ने दूल्हा और दुल्हन को खुशी से जीवन बिताने का आशीर्वाद दिया। लोगों ने दोनों को ही समाज में अपनी अलग पहचान बनाने का आशीर्वाद भी दिया। कोनियाड़ा के चांपावत के शिवराज सिंह राठौड़ की शादी बरडवा नागौर की मिथलेश कंवर से 20 फरवरी को हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories