ताज़ा खबर
 

ललित मोदी के बेटे को हराकर सीपी जोशी बने राजस्थान क्रिकेट असोसिएशन के अध्यक्ष

गौरतलब है कि लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों के बाद ललित मोदी को आरसीए के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों के बाद ललित मोदी को आरसीए के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना पड़ा था। (File Photo)

राजस्थान क्रिकेट असोसिएशन (आरसीए) चुनाव में पूर्व आईपीएल प्रमुख ललित मोदी को तगड़ा झटका मिला है। कांग्रेस नेता सीपी जोशी ने ललित मोदी के बेटे रुचिर मोदी को हरा दिया है। आरसीए चुनाव में सीपी जोशी को कुल 19 वोट मिले है वहीं रुचिर मोदी को 14 वोट मिले। आरसीए के लिए 29 मई को वोटिंग हुई थी और इसी सत्ता पर काबिज होने के लिए पिछले डेढ़ महीने से उठापटक चल रही थी। इसी को देखते हुए सीपी जोशी ने ललित मोदी को आरसीए से दूर करने के लिए चुनावी मैदान में उतरने का निर्णय लिया।

बता दें कि आरसीए के चुनाव को लेकर राजस्थान हाईकोर्ट में पिछले महीने एक याचिका डाली गई थी, याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने आरसीए के लिए चुनाव कराने को लेकर तत्काल निर्देश दिया था। इसके बाद लोढ़ा कमिटी की सिफारिशों के अनुसार पिछले सोमवार को हुए चुनाव में 6 पदों के लिए 12 प्रत्याक्षी मैदान में उतरे। जिसमें से अध्यक्ष के लिए 2, उपाध्यक्ष के लिए 2, सचिव के लिए 2, कोषाध्यक्ष के ​लिए 2, संयुक्त सचिव के लिए 2 और एग्जीक्यूटिव मेंबर के लिए भी 2 उम्मीदवार थे।

गौरतलब है कि लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों के बाद ललित मोदी को आरसीए के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना पड़ा था। इसलिए उन्होंने इस पद के लिए अपने बेटे रुचिर मोदी का नाम बढ़ाया। पहले उन्होंने रुचिर को अलवर जिला क्रिकेट संघ का अध्यक्ष बनवाया और फिर आरसीए की कुर्सी पर बिठाने के लिए संविधान में कई संशोधन कराया।

आईपीएल घोटाले के दागी ललित मोदी अभी देश से फरार हैं। उन्हें सरकार और भाजपा का पुरजोर समर्थन मिला है। सरकार ने उनके त्यागपत्र की विपक्ष की मांग को खारिज कर इसका संकेत भी दे दिया है। विवाद उन ईमेल के खुलासे से उत्पन्न हुआ जिससे यह पता चला है कि सुषमा ने भारतीय मूल के ब्रिटिश सांसद कीथ वाज और यहां ब्रिटेन के उच्चायुक्त जेम्स बीवन से बात करके ललित मोदी को पिछले वर्ष जून में कथित तौर पर उनकी पत्नी के कैंसर इलाज के लिए पुर्तगाल जाने के लिए यात्रा दस्तावेज प्रदान किए जाने का पक्ष लिया।

ललित मोदी भारत में वांछित हैं और उन्होंने 2010 से लंदन को अपना घर बना रखा है ताकि वे टी-20 क्रिकेट टूर्नामेंट में कथित सट्टे और धन की हेराफेरी की जांच से बच सकें।

देखिए वीडियो - अनिल कुंबले को कोच नही बनना देना चाहते थे विराट कोहली- पूर्व बीसीसीआई सचिव

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App