ताज़ा खबर
 

राजस्‍थान में बोले अमित शाह- ‘दादरी’ हो चाहे ‘अवार्ड वापसी’, हम जरूर जीतेंगे

सितंबर 2015 में, 52 साल के मोहम्मद अखलाक़ की हत्या यूपी के दादरी में उग्र भीड़ ने कर दी ​थी। भीड़ को संदेह था कि अखलाक़ ने गाय की कुर्बानी दी थी। इस मामले पर विपक्ष के भारी विरोध और ​बुद्धिजीवियों के द्वारा अवार्ड लौटाने के बावजूद भी भाजपा ने चुनावों में प्रचंड बहुमत हासिल किया था।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे। Express Photo by Rohit Jain Paras.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मंगलवार (11 सितंबर) को राजस्थान में थे। अमित शाह ने जयपुर में कार्यकर्ताओं से बातचीत में भरोसा जताया कि पार्टी राजस्थान में होने वाले​ विधानसभा चुनावों को जरूर जीतेगी। वैसे बता दें कि बीते कुछ सालों में राजस्थान में गौ रक्षकों के हमलों की तादाद में लगातार बढ़ोत्तरी हुई है। दादरी की घटना की ओर इशारा करते हुए शाह ने कहा कि पार्टी उस वक्त भी चुनाव जीती थी। जयपुर के पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करते हुए शाह ने कहा,” जब भी चुनाव करीब आते हैं, वे अखलाक़ की हत्या, अवार्ड वापसी का मुद्दा उठाते हैं। लेकिन हम तब भी जीते थे और हम अब भी जीतकर रहेंगे।”

सितंबर 2015 में, 52 साल के मोहम्मद अखलाक़ की हत्या यूपी के दादरी में स्थित उसके गांव में उग्र भीड़ ने कर दी ​थी। भीड़ को संदेह था कि अखलाक़ ने गाय की कुर्बानी दी थी। इस मामले पर विपक्ष के भारी विरोध और ​बुद्धिजीवियों के द्वारा अपने अवार्ड लौटाने के सिलसिले के बावजूद भी भाजपा ने पिछले साल हुए चुनावों में प्रचंड बहुमत हासिल किया था।

राजस्थान इस घटना से मिलती-जुलती कई घटनाओं का गवाह बना। जिनमें से सबसे ताजातरीन रकबर खान की हत्या है। रकबर हरियाणा का रहने वाला युवा था। वह जुलाई में ही अलवर में रहने के लिए आया था। वह बाजार में खरीदी हुई गाय को अपने घर लेकर जा रहा था। इससे पहले, 55 साल के डेरी संचालक पहलू खान की हत्या भी अलवर में भीड़ ने पीट-पीटकर कर दी थी।

इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। इससे पूरे देश में गुस्से की लहर पैदा हो गई थी। पिछले साल दिसंबर में, राजसमंद जिले में लव जिहाद का आरोप लगाकर एक शख्स को जिंदा जला दिया गया था। इस मामले का मुख्य आरोपी दलित समुदाय से आने वाला शंभू लाल रैगर था। उसने इस घटना का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल भी किया था।

इन घटनाओं के बाद वसुंधरा राजे की सरकार को विपक्ष की कड़ी आलोचना झेलनी पड़ी थी। वसुंधरा सरकार पर विपक्ष ने पर्याप्त कोशिशें न करने के आरोप लगाए थे। इसी संबंध में शाह ने कार्यकर्ताओं से कहा कि हम तब भी जीते थे और हम अब भी जीतेंगे। शाह ने यही आत्मविश्वास कुछ दिनों पहले राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक में दिखाया था। बाद में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मीडिया से कहा था कि अगले 50 सालों तक भाजपा को कोई भी सत्ता से नहीं हटा पाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App