ताज़ा खबर
 

कब्र ने खोले राज़, बहू के साथ थे अवैध संबंध, बेटे को करंट लगाकर मार डाला

नाचना पुलिस उपाधीक्षक हुकमा राम विश्नोई ने जानकारी देते बताया कि मृतक युवक के छोटे भाई ने नामजद मुकदमा दर्ज करवाया था, जिसके बाद मृतक के शव को दस दिन बाद कब्र से बाहर निकाल कर मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया गया था।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रस्तुतीकरण के लिए किया गया है। (express file photo)

राजस्थान के जैसलमेर जिले के नाचना से इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला एक मामला सामने आया है। यहां एक पिता ने बहू के साथ मिलकर अपने बेटे को मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने हत्यारे पिता और बहू को गिरफ्तार कर लिया है। मामला 25 अप्रैल का है लेकिन इसका खुलासा अब हुआ है।

दरअसल मृतक के भाई भोमराज ने पुलिस को रिपोर्ट देकर अपने भाई हीरलाल की पत्नी पारले और साले पर हत्या का आरोप लगाया था। जिसके बाद जांच में पता चला कि उसकी पत्नी पारले के अपने ससुर मुकेश कुमार के साथ अवैध संबंध थे और दोनों ने मिलकर हीरलाल की हत्या की है। पुलिस ने बताया कि मृतक की पत्नी के अपने ससुर के साथ अवैध संबंध थे, जिसके चलते ससुर-बहू ने मिलकर हीराराम को मौत के घाट उतार दिया।

नाचना पुलिस उपाधीक्षक हुकमा राम विश्नोई ने जानकारी देते बताया कि मृतक युवक के छोटे भाई ने नामजद मुकदमा दर्ज करवाया था, जिसके बाद मृतक के शव को दस दिन बाद कब्र से बाहर निकाल कर मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया गया था।

पुलिस के अनुसार 25 अप्रैल की रात को हीरालाल की करंट लगने से मौत होने की सूचना 26 अप्रैल को मिली। इस घटना के दस दिन बाद मृतक के भाई ने पुलिस को रिपोर्ट देकर मृतक की पत्नी पारले पर हत्या का आरोप लगाया।

पुलिस ने चार दिन पूर्व तहसीलदार की उपस्थिति में शव को कब्र से बाहर निकलवा कर मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराया। इस बीच पुलिस जांच में सामने आया कि पारले का अपने ससुर मुकेश के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था।

पुलिस ने पारले को हिरासत में लेकर गहन पूछताछ की तो उसने मामले का खुलासा किया। पारले ने बताया कि 25 अप्रैल को उसने हीरालाल को नींबू की शिकंजी में नींद की गोलियां मिलाकर पिला दी। रात को उसके गहरी नींद में सोने पर उसने और उसके ससुर ने हीरालाल के कानों में बिजली की तार डालकर लाइट चालू कर दी। करीब 15-20 मिनट के बाद जब तार हटाई तो हीरालाल मर चुका था। दोनों ने मौत को स्वाभाविक बताकर शव को ढफना दिया।

Next Stories
1 बेवजह घूमने वाले को मारी थी लात, अब कोरोना मरीज को लेने गए तो खुद पिट गए तहसीलदार
2 ऑक्सीजन बिना मरे 26 कोरोना मरीज: छह दिन पहले डॉक्टर्स ने किया था अलर्ट, फिर भी न चेता अस्पताल
3 दहशत ही दहशत…यूपी के इस गांव में 17 मौतें, कोरोना के रिकॉर्ड में केवल दो, डर के साये में जी रहे लोग
यह पढ़ा क्या?
X