rajasthan victim of child marriage move to court against this - राजस्थान: 6 की उम्र में हुई शादी, ससुरालवाले देते रहे धमकी, पर कोर्ट जाकर पाया इंसाफ - Jansatta
ताज़ा खबर
 

राजस्थान: 6 की उम्र में हुई शादी, ससुरालवाले देते रहे धमकी, पर कोर्ट जाकर पाया इंसाफ

पिंटू देवी के सास-ससुर ने धमकी दी है कि 'यदि वह (पिंटू देवी) शादी के खिलाफ गई तो उसका और उसके परिवार का सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा।'

शादी के 12 साल बाद पहुंची लड़की कोर्ट। (फाइल फोटो)(representational image)

राजस्थान के जोधपुर में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें एक युवती, जिसकी 6 साल की उम्र में शादी कर दी गई थी, वह शादी के 12 साल बाद अब वह अपने बाल विवाह को खत्म कराने के लिए कोर्ट पहुंची है। जोधपुर के पिथावास गांव की रहने वाली पिंटू देवी का 6 साल की उम्र में सरन नगर में रहने वाले एक लड़के के साथ बाल विवाह कर दिया गया था। शादी के बाद से ही पिंटू देवी को उसके ससुराल वाले प्रताड़ित करते थे, जिससे तंग आकर अब पिंटू देवी ने अपने पति से तलाक के लिए पारिवारिक न्यायालय में तलाक की अर्जी डाली है।

पारिवारिक न्यायालय में तलाक की अर्जी दाखिल करने के दौरान पिंटू देवी ने बताया कि ‘जब वह सिर्फ 6 साल की थी तो उसकी शादी कर दी गई थी। तब से ही उनके सास-ससुर अपराधिक गतिविधियों में शामिल रहे हैं। इससे मैं डर गई थी। इसके अलावा भी कई कारण हैं, जिनकी वजह से मैं अब अपने सास-ससुर के साथ नहीं रहना चाहती।’ वहीं पिंटू देवी के सास-ससुर ने धमकी दी है कि ‘यदि वह (पिंटू देवी) शादी के खिलाफ गई तो उसका और उसके परिवार का सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा।’ बता दें कि रिहैबलिटेशन साइक्लोजिस्ट और सारथी ट्रस्ट की ट्रस्टी कीर्ति भारती ने पिंटू देवी को कोर्ट जाने में मदद की है।

कीर्ति भारती बाल विवाह को समाप्त करने के लिए एक कैंपेन चला रही हैं। कीर्ति भारती ने बताया कि जब पिंटू देवी की तलाक याचिका कोर्ट मंजूर कर लेगा, उसके बाद पिंटू देवी के ससुराल वालों पर कारवाई की जाएगी। फिलहाल पिंटू देवी की याचिका पर पारिवारिक कोर्ट ने पिंटू देवी के ससुराल वालों मामले की आगामी सुनवाई पर पीड़िता के पति और ससुराल वालों को कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया है। बता दें कि पिंटू देवी ने इसी साल कक्षा 10 की परीक्षा दी है और फिलहाल सारथी ट्रस्ट द्वारा ही पिंटू देवी की आगे पढ़ाई करने की व्यवस्था की गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App