ताज़ा खबर
 

राजस्‍थान: भागकर शादी करने वालों को ‘घर’ देगी पुलिस

सूत्रों के हवाले से आगे रिपोर्ट में कहा गया कि ऐसे जोड़ों के लिए शेल्टर होम बनाने का सुझाव कोर्ट के भीतर डीजीपी कपिल गर्ग ने दिया था।

घर वालों की मर्जी के खिलाफ जाकर शादी करने वालों के लिए पुलिस हेल्पलाइन भी शुरू करेगी। (सांकेतिक फोटोः Pixabay)

राजस्थान में भागकर शादी रचाने वालों को अब पुलिस का संरक्षण मिलेगा। परिवार की इच्छा के खिलाफ जाकर शादी करने वाले प्रेमी युगलों के लिए पुलिस वहां पर शेल्टर होम भी बनाने की तैयारी कर रही है। ये बातें एडिश्नल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (एडीजीपी) (नागरिक अधिकार) जंगा श्रीनिवास राव ने कहीं हैं।

एचटी रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस गुपचुप तरीके या परिवार के खिलाफ जाकर शादी करने वाले जोड़ों के लिए आगामी दिनों में एक हेल्पलाइन नंबर भी लॉन्च करेगी, ताकि संकट की स्थिति में उन्हें मदद मिल सके। पुलिस मुख्यालय (पीएचक्यू) ने सभी जिला प्रभारियों को निर्देश दिया है कि वे अपने-अपने यहां कोर्ट के आदेश के साथ हेल्पलाइन चालू करें।

राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश के बाद डीजीपी नागरिक अधिकार राव ने विस्तृत प्रस्ताव तैयार किया है, जिसमें भागकर शादी करने वाले प्रेमी जोड़ों को उनके परिजन से बचाने को सुनिश्चित किए जाने पर बल दिया गया है।

एडीजी ने इसी के साथ सभी पुलिस रेंज और जिला प्रभारियों को निर्देश दिया है कि वे अपने-अपने यहां हर जिला मुख्यालय और पुलिस थाने पर एक वरिष्ठ महिला पुलिस अफसर को बतौर नोडल अफसर नियुक्त करें। इनका काम घर से भागकर या परिवार वालों के खिलाफ जाकर शादी करने वाले जोड़ों को सुरक्षा मुहैया कराना व मदद करना होगा।

सूत्रों के हवाले से आगे रिपोर्ट में कहा गया कि ऐसे जोड़ों के लिए शेल्टर होम बनाने का सुझाव कोर्ट के भीतर डीजीपी कपिल गर्ग ने दिया था। सूत्रों की मानें तो कोर्ट ने डीजीपी से दरख्वास्त की कि वह जयपुर के कोलीवाड़ा के रहने वाले बजरंग लाल शर्मा और एक अपराधी की याचिका पर सुनवाई के दौरान उपस्थित रहें।

शगुन में महज 1 रुपए और नारियल लिया, पेश की नजीरः नागौर जिले के डीडवाना में कुचामन सिटी के रहने वाले हनुमानमल सिंगोदिया के बेटे राम अवतार ने बिना दहेज के शादी कर समाज में नजीर पेश की। राज्य शिक्षक संघ के जिलामंत्री कैलाश सोलंकी की भतीजी व रामेश्वर लाल की बेटी राखी से उन्होंने शादी के दौरान शगुन में महज एक रुपए और नारियल लिया। शादी में यह चीज देख मेहमानों ने भी इसे आदर्श विवाह बताया। कहा कि समाज को इसी तरह सोच बदलनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App