ताज़ा खबर
 

राजस्थान: हाईकोर्ट के फैसले से अशोक गहलोत को फौरी संजीवनी, बसपा की याचिका खारिज, जानें-कैसे अहम है बसपा विधायकों का मर्जर

मौजूदा समीकरण के अनुसार यदि बसपा के 6 विधायकों को हटा दे तो सीएम अशोक गहलोत के पास 96 विधायक बच जाते हैं। जबकि भाजपा के पास 72 विधायक हैं। बागी गुट के साथ तीन निर्दलीय विधायक को मिला ले तो विपक्ष का आंकड़ा 97 पहुंच जाता है।

Ashok Gehlot, BSP, Rajasthanराजस्थान हाईकोर्ट ने बहुजन समाज पार्टी की उस याचिका को खारिज कर दिया है जिसमें पार्टी के 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने को अस्थायी रूप से रोक लगाने की मांग की गई थी। (फाइल फोटो)

राजस्थान हाईकोर्ट ने बहुजन समाज पार्टी की उस याचिका को खारिज कर दिया है जिसमें पार्टी के 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने को अस्थायी रूप से रोक लगाने की मांग की गई थी। इस फैसले के बाद अब नजरें 11 अगस्त को हाईकोर्ट के एकल पीठ के फैसले पर टिक गई है। मालूम हो कि बसपा और भाजपा ने बसपा के 6 विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने संबंधी स्पीकर के फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

दोनों दलों ने बसपा के 6 विधायकों के सदन की कार्यवाही में शामिल होने पर रोक लगाने की मांग की थी। हाईकोर्ट के मौजूदा फैसले से राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को फौरी तौर पर राहत मिल गई गई है। वहीं, विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने कहा है कि 11 अगस्त को जो भी फैसला आएगा, हम हमेशा 14 अगस्त से पहले अपील के लिए तैयार हैं। राज्य विधानसभा का सत्र 14 अगस्त से शुरू होगा। माना जा रहा है कि सीएम अशोक गहलोत को इस सत्र के दौरान विश्वास मत हासिल कर सकती है।

मौजूदा समीकरण के अनुसार यदि बसपा के 6 विधायकों को हटा दे तो सीएम अशोक गहलोत के पास 96 विधायक बच जाते हैं। जबकि भाजपा के पास 72 विधायक हैं। बागी गुट के साथ तीन निर्दलीय विधायक को मिला ले तो विपक्ष का आंकड़ा 97 पहुंच जाता है। वहीं मौजूदा स्थिति के अनुसार बहुमत का आंकड़ा 101 से घटकर 97 पहुंच जाता है। वहीं, इस मामले में भाजपा के जस्थान भाजपा के अध्यक्ष सतीश पूनियां ने दावा किया कि राज्य की अशोक गहलोत सरकार बहुमत का दम भरते-भरते खुद बन्धक हो गई है।

कांग्रेस व उसके समर्थक विधायकों के जयपुर से जैसलमेर जाने पर टिप्पणी करते हुए भाजपा नेता ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘बहुमत का दम भरते-भरते सरकार बाड़े में खुद बन्धक हो गई, इसको सबने देखा है और राजस्थान के लिए यह पीड़ादायक है।’’ उल्लेखनीय है कि कांग्रेस व उसके समर्थक विधायक यहां जैसलमेर के एक निजी होटल में रुके हुए हैं। जबकि सचिन पायलट की अगुवाई में 19 बागी विधायकों के हरियाणा के होटल में रुके होने के समाचार हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘मंदिर जमींदोज कर फिर बनाएंगे मस्जिद’, अयोध्या में भूमि पूजन के अगले ही दिन ऑल इंडिया इमाम असोसिएशन का भड़काऊ बयान
2 जम्मू-कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर भाजपा नेता, कुलगाम में दिनदहाड़े जिला उपाध्यक्ष को गोलियों से भूना
3 सत्ता पर हिंदुओं का अधिकार हो तभी बचेंगे मंदिर, सुरक्षित रहेगा धर्म- BJP सांसद की राय
ये पढ़ा क्या?
X