ताज़ा खबर
 

Rajasthan के निकाय उपचुनाव में कांग्रेस का पलटवार, 8 सीटों पर जमाया कब्जा, BJP को मिलीं सिर्फ 5 सीटें

राजस्थान के स्थानीय निकायों में हुए उपचुनाव के परिणाम घोषित हो गए हैं। इनमें कांग्रेस ने 8, भाजपा ने 5 और निर्दलीय उम्मीदवारों ने 3 सीटों पर जीत दर्ज की है।

Author जयपुर | June 13, 2019 2:19 PM
राजस्थान की कर्नाटक इकाई भंग।

राजस्थान के निकाय उपचुनाव में कांग्रेस को कामयाबी मिली है। 16 सीटों पर हुए मतदान में कांग्रेस ने 8 सीटों पर कब्जा जमाया है, जबकि बीजेपी महज 5  सीटें ही जीत पाई। स्थानीय निकाय के उपचुनाव में मिली इस सफलता से कांग्रेस कार्यकर्ताओं में खासा उत्साह है। बता दें कि 3 सीटों पर निर्दलीय प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है।

इन शहरों में हुए थे चुनाव: जानकारी के मुताबिक, राजस्थान निकाय की कुल 16 सीटों पर उपचुनाव हुआ था। ये सीटें अलवर, भीलवाड़ा, बूंदी, चूरू, हनुमानगढ़, जयपुर, हिंडौन, भरतपुर, धौलपुर, टोडाभीम थीं। इनमें चूरू, हनुमानगढ़ और हिंडौन के 2-2 वॉर्ड में चुनाव हुआ। कांग्रेस के खाते में अलवर, भीलवाड़ा, बूंदी, चूरू, हनुमानगढ़, जयपुर और हिंडौन के एक-एक वॉर्ड गए। वहीं, बीजेपी ने भरतपुर, चूरू, धौलपुर, हिंडौन और टोडाभीम के एक-एक वॉर्ड पर कब्जा जमाया। निर्दलीय प्रत्याशियों ने हनुमानगढ़ के दोनों वॉर्ड व श्रीगंगानगर के एक वॉर्ड में जीत दर्ज की।

National Hindi News, 13 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक 

 

कार्यकर्ताओं ने कही यह बात: बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान राजस्थान में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं में तनाव का माहौल चल रहा था। इस बीच निकाय चुनाव में मिली जीत ने उस हार पर मरहम लगाने का काम किया है। पार्टी कार्यकर्ताओं का कहना है कि जनता का भरोसा अब बीजेपी से उठने लगा है। अगले चुनाव में भी पार्टी भारी बहुमत से जीत दर्ज करेगी।

Bihar News Today, 13 June 2019: बिहार से जुड़ी हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक 

विधानसभा चुनाव में बनाई थी सरकार: गौरतलब है कि दिसंबर 2018 के दौरान राजस्थान में विधानसभा चुनाव हुए थे, जिसमें कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी और सरकार बनाने में सफल रही थी। इसके बाद अशोक गहलोत को सीएम और सचिन पायलट को डिप्टी सीएम बनाया गया था।

लोकसभा चुनाव में हुआ था कांग्रेस का सूपड़ा साफ: 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को विधानसभा चुनाव की सफलता दोहराने की उम्मीद थी। हालांकि, ऐसा नहीं हुआ। राज्य की कुल 25 लोकसभा सीटों में से कांग्रेस किसी पर भी जीत दर्ज नहीं कर सकी। बीजेपी ने 24 सीटों पर कब्जा जमाया था, जबकि एनडीए के घटक दल के खाते में एक सीट गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X