ताज़ा खबर
 

बड़ी लापरवाही: राजस्थान के सरकारी अस्पताल में 4 दिन के बच्चे की अंगुलियां कुतर गए चूहे, शिकायत दर्ज

इस मामले को देखने के लिए एक कमिटी गठित की गई है, जिसमें डॉक्टर और नर्स शामिल हैं।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

राजस्थान के एक सरकारी अस्पताल में लापरवाही का बड़ा मामला सामने आया है। यहां चूहों ने चार दिन के बच्चे की अंगुलियां कुतर लीं। आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक यह घटना जयपुर से 500 किमी दूर स्थित बंसवाड़ा इलाके के एमजी हॉस्पिटल में हुई। रिपोर्ट्स के मुताबिक घटना सोमवार सुबह 5 बजे हुई और उस वक्त वार्ड में बिजली नहीं थी। लाइट आने के बाद परिवारीजों ने यह देखा और अस्पताल प्रशासन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। इस मामले को देखने के लिए एक कमिटी गठित की गई है, जिसमें डॉक्टर और नर्स शामिल हैं।

इससे पहले मई में मध्यप्रदेश में भी एेसा ही मामला सामने आया था। यहां के शिवपुरी जिले के एक अस्पताल में चूहे ने नवजात की अंगुली कुतर दी थी। बच्ची की मां ने कहा था कि उसने चूहे को उसके पास से भागते देखा, वहीं शुरुआत में अस्पताल प्रशासन ने यह मानने से इनकार कर दिया था कि घाव चूहे के कुतरे जाने से ही हुआ है। गौरतलब है कि कोलारस के कुम्हरौआ गांव की सुनीता ने 14 मई की रात एक बच्ची को जन्म दिया था। उसे उसी दिन प्रसव के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

 अस्पताल में बिस्तर नहीं होने के कारण सुनीता और उसकी नवजात बच्ची को रात जमीन पर सोकर गुजारनी पड़ी थी। सुनीता ने कहा था कि 15 मई की रात को भी वह जमीन पर ही सो रही थी, जब उसने बेटी की अंगुली से खून निकलते देखा। उसने वहां से चूहे को भागते भी देखा था, जिससे साफ है कि चूहे ने ही उसकी नवजात बच्ची की अंगुली कुतरी थी।
वहीं, अस्पताल प्रशासन का इस बारे में कहना था कि यह निश्चित तौर पर नहीं कहा जा सकता कि चूहे ने ही बच्ची की उंगली कुतरी।
जिला अस्पताल के क्षेत्रीय चिकित्सा अधिकारी (आरएमओ) डॉ. एस. एस गुर्जर ने हालांकि माना था कि बच्ची की उंगली पर घाव के निशान हैं, पर उन्होंने बुधवार को आईएएनएस से कहा था, “यह निश्चित तौर पर नहीं कहा जा सकता कि चूहे ने ही बच्ची की उंगली कुतरी।”
उन्होंने यह भी कहा था कि नवजात को किसी भी तरह के संक्रमण से बचाने के लिए इंजेक्शन लगा दिया गया है और वह स्वस्थ्य है।

 

वसुंधरा राजे ने शुरु की ‘अन्नपूर्णा रसोई’; 5 रुपए में मिलेगा नाश्ता, 8 रुपए में भरपेट भोजन, देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.