ताज़ा खबर
 

‘एक प्याली चाय दूर कर सकती है राजस्थान संकट’, पूर्व गवर्नर ने 10 जनपथ को सुझाया फार्मूला

कांग्रेस नेता मार्ग्रेट अल्वा ने सचिन पायलट को कांग्रेस का एक जुझारू और उभरता हुआ युवा सितारा बताया है। उन्होंने कहा कि कांगेस के अंदर कोई नहीं चाहता कि वो पार्टी छोड़कर जाएं।

margaret alva sonia gandhi rajasthan ashok gehlot sachin pilotराजस्थान संकट के निपटारे के लिए कांग्रेस की वरिष्ठ नेता मार्ग्रेट अल्वा ने सोनिया गांधी को सलाह दी है। (फाइल फोटो)

राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच राज्य की पूर्व गवर्नर और वरिष्ठ कांग्रेस नेता मार्ग्रेट अल्वा ने राजनीतिक समाधान का फार्मूला सुझाया है। उन्होंने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा कि अगर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी दोनों नेताओं (अशोक गहलोत और सचिन पायलट) को एक प्याली चाय पिलाने के लिए 10 जनपथ बुला लें तो दोनों के बीच की सियासी कड़वाहट दूर हो सकती है। साथ ही राजस्थान का सियासी संकट भी खत्म हो सकता है।

अंग्रेजी समाचार चैनल इंडिया टुडे से बातचीत करते हुए अल्वा ने कहा कि सोनिया अपने सरकारी आवास पर दोनों नेताओं को बुलाकर विवाद का समाधान कर सकती हैं। उन्होंने सचिन पायलट को कांग्रेस का एक जुझारू और उभरता हुआ युवा सितारा बताया है। उन्होंने कहा कि कांगेस के अंदर कोई नहीं चाहता कि वो पार्टी छोड़कर जाएं। उन्होंने कहा, “ये युवा नेता उस टीम में शामिल होने वाले थे जिसे राहुल गांधी बना रहे थे। पार्टी के निर्णय प्रक्रिया में हाईकमान को युवा नेताओं को भी समायोजित करने के तरीके खोजने होंगे।”

इधर, सीएम अशोक गहलोत समेत कई कांग्रेस नेताओं ने राज्य के राज्यपाल कलराज मिश्र पर बीजेपी और केंद्र सरकार के दबाव में काम करने के आरोप लगाए हैं। कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी राज्य में चुनी हुई सरकार को अस्थिर करना चाहती है और राज्यपाल राज्य के मुख्यमंत्री के अनुरोध को अनसुना कर रहे हैं।

सीएम अशोक गहलोत ने शुक्रवार को गवर्नर से मुलाकात की थी और राज्य विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की थी ताकि वो मौजूदा संकट में फ्लोर टेस्ट में बहुमत साबित कर सकें। लेकिन राज्यपाल ने उचित प्रक्रिया नहीं अपनाने का हवाला देते हुए उनके अनुरोध को खारिज कर दिया था। इसके बाद गहलोत ने शनिवार को पार्टी विधायक दल और कैबिनेट की मीटिंग बुलाकर विधानसभा का सत्र बुलाने का प्रस्ताव पास कराया है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा है कि यदि आवश्यक हुआ तो कांग्रेस के विधायक राष्ट्रपति से मिलेंगे और राज्य में संकट के निपटारे के लिए प्रधानमंत्री के घर के बाहर धरना भी देंगे। कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की एक बैठक में, गहलोत ने कहा कि वो फ्लोर टेस्ट इसलिए कराना चाहते हैं ताकि बहुमत साबित कर यह संदेश दिया जा सके कि कांग्रेस के अधिकांश विधायक और सहयोगी दल लिए टस से मस नहीं होने वाले हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र को हटाने को हाई कोर्ट में पीआईएल, केंद्र सरकार को भी बनाया गया पक्ष
2 बिहार में कोरोना के बीच दवाओं की भारी किल्लत, तिगुने दाम पर बिक रहे ऑक्सीमीटर, बाजार से जिंक और विटामिन सी की दवा गायब
3 जेएनयू छात्र ने सेना पर की टिप्पणी, दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR, RSS की बेइज्जती से जोड़ दिया मामला