ताज़ा खबर
 

राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र को हटाने को हाई कोर्ट में पीआईएल, केंद्र सरकार को भी बनाया गया पक्ष

कांग्रेस और उससे संबद्ध विधायकों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को ज्ञापन भेजकर आरोप लगाया है कि अनेक प्रांतों के राज्यपाल अपने पद की गरिमा की चिंता किए बिना केंद्र में सत्ताधारी पार्टी के इशारे पर संविधान की घोर अवहेलना कर रहे हैं।

Rajasthan ashok gehlot sachin pilotराजस्थान के सीएम अशोक गहलोत। (पीटीआई फोटो)

राजस्थान में सियासी घमासान के बीच अब हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका लगाई गई है। इसमें राज्यपाल कलराज मिश्र को हटाने की मांग की गई है। यह जनहित याचिका एडवोकेट शांतनु पारिख ने दायर की है। इसमें केंद्र सरकार को भी पक्ष बनाया गया है। एडवोकेट शांतनु का कहना है कि अगर सरकार कह रही है कि विधानसभा का सत्र बुलाना चाहिए तो फिर इस पर राज्यपाल सत्र बुलाने के लिए बाध्य हैं।

एडवोकेट शांतनु ने कहा कि सरकार बहुमत में नहीं है तो राज्यपाल विशेष सत्र बुला सकते हैं। सरकार के पास बहुमत है तो वह कैबिनेट नोट से विधानसभा सत्र बुला सकती है। जो राज्यपाल ने कैबिनेट को जो नोट भेजा है वह भी संविधान का उल्लंघन है, इसलिए मैंने केंद्र सरकार को पक्षकार बनाया है। इससे वह राष्ट्रपति को सलाह दें कि राज्यपाल को तुरंत हटाया जाए। आज याचिका दाखिल की गई है। यह कल या परसों तक कोर्ट में लग जाएगी।

इस बीच, कांग्रेस ने दावा किया कि सचिन पायलट गुट के कुछ विधायक उसके संपर्क में हैं। कांग्रेस के प्रभारी महामंत्री अविनाश पांडे ने कहा कि राजस्थान में जारी गतिरोध के बीच पार्टी सभी उपलब्ध लोकतांत्रिक उपायों का इस्तेमाल करेगी।

उन्होंने कहा कि पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट खेमे के कई विधायक कांग्रेस नेताओं के संपर्क में हैं। पांडे ने कहा, ‘जैसाकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने संकेत दिया है कि जरूरत पड़ी तो, सभी जनप्रतिनिधियों के साथ राष्ट्रपति के सामने जाकर उनसे भी गुहार लगाएंगे और लोकतंत्र की रक्षा करेंगे।’ इसके साथ ही पांडे ने कहा कि सचिन पायलट खेमे के कुछ विधायक कांग्रेस नेताओं के संपर्क में हैं।

सचिन पायलट गुट के विधायक हेमाराम चौधरी ने दावा किया कि अशोक गहलोत खेमे के 10-15 विधायक हमारे संपर्क में हैं। चौधरी ने बताया कि गहलोत खेमे के उन 10-15 विधायकों का कहना है कि यदि उन्हें आजाद कर दिया गया तो वे सचिन पायलट की तरफ आ जाएंगे। अगर गहलोत विधायकों को छोड़ देते हैं तो यह स्पष्ट हो जाएगा कि कितने विधायक उनके पक्ष में बने हुए हैं।

Coronavirus in India LIVE News and Updates

Live Blog

Highlights

    06:07 (IST)28 Jul 2020
    तरुण गोगोई का गुवाहाटी में प्रदर्शन

    असम  में पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई समेत कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं ने पार्टी के राष्ट्रव्यापी 'लोकतंत्र बचाओ, संविधान बचाओ' अभियान के तहत सोमवार को गुवाहाटी में विरोध प्रदर्शन किया।

    05:27 (IST)28 Jul 2020
    राज्यपाल कलराज मिश्र को हटाने के लिए राजस्थान उच्च न्यायालय में याचिका

    शहर के एक वकील ने राजस्थान उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर राज्यपाल कलराज मिश्र को हटाने के लिये राष्ट्रपति को सलाह देने का केंद्र को निर्देश जारी करने का अनुरोध किया है। राज्य में जारी राजनीतिक खींचतान के बीच यह याचिका दायर की गई। याचिका दायर करने वाले शांतनु पारीक का दावा है कि राज्य मंत्रिमंडल की सलाह पर विधानसभा का सत्र आहूत नहीं करके राज्यपाल अपना संवैधानिक कर्तव्य निभाने में असफल रहे हैं।

    04:21 (IST)28 Jul 2020
    भाजपा के खिलाफ कर्नाटक राजभवन तक मार्च की कोशिश कर रहे कांग्रेस नेता हिरासत में लिए गए

    कांग्रेस नेताओं ने राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार गिराने की भाजपा की कथित कोशिश के खिलाफ यहां राजभवन तक मार्च करने का प्रयास किया। इसके बाद प्रदेश कांग्रेस प्रमुख डी. के. शिवकुमार समेत कई नेताओं को हिरासत में ले लिया गया। पुलिस ने शिवकुमार, विपक्ष के नेता सिद्धरमैया, प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर खांडरे, सलीम अहमद समेत कई नेताओं को कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस समिति कार्यालय से राजभवन मार्च करने के दौरान बीच रास्ते में ही रोक लिया।

    00:00 (IST)28 Jul 2020
    विधानसभा में पार्टियों की मौजूदा स्थिति

    अशोक गहलोत के पक्ष में: 88 कांग्रेस, 10 निर्दलीय, 2 बीटीपी, 1 आरएलडी, 1 सीपीएम = कुल 102सचिन पायलट के साथ : 19 बागी कांग्रेस के, 3 निर्दलीय = कुल 22भाजपा और समर्थक : 72 भाजपा, 3 आरएलपी = कुल 75माकपा :  1 (गिरधारी मईया फिलहाल सबसे अलग हैं।)

    23:44 (IST)27 Jul 2020
    पायलट खेमे का गहलोत गुट पर हमला

    राजस्थान कांग्रेस में जारी सियासी संग्राम के बीच पायलट खेमे ने वीडियो जारी कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गुट पर हमला बोला। विधायक हेमाराम चौधरी ने रणदीप सुरजेवाला के बयान पर पलटवार किया। सुरजेवाला ने बयान में कहा था कि पायलट खेमे के विधायक उनके संपर्क में हैं। पायलट खेमे के विधायक 48 घंटे में यहां पहुंच जाएंगे। इस पर हेमाराम ने कहा, हमारे यहां सभी 19 विधायक एकजुट हैं। सुरजेवाला ऐसा बयान इसलिए दे रहे हैं कि गहलोत खेमे में हताशा है। उन्हें दिलासा देने के लिए ऐसा बयान दे रहे हैं।

    22:59 (IST)27 Jul 2020
    कांग्रेस का आरोप- संविधान की धज्जियां भी उड़ा रहे भाजपा नेता

    इस ज्ञापन में कहा गया है, ‘‘पिछले कुछ समय से विधायकों की खरीद फरोख्त करके एवं अन्य भ्रष्ट आचरण के माध्यम से लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई राज्य सरकारों को अपदस्थ करने के भाजपा और इसके नेताओं के कुत्सित प्रयास न सिर्फ देश के लोकतंत्र को कमजोर कर रहे हैं, बल्कि देश के संविधान की धज्जियां भी उड़ा रहे हैं।

    22:12 (IST)27 Jul 2020
    कांग्रेसी विधायकों ने राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

    कांग्रेस और उससे संबद्ध विधायकों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को ज्ञापन भेजा। इस ज्ञापन में आरोप लगाया है कि अनेक प्रांतों के राज्यपाल अपने पद की गरिमा की चिंता किए बिना केंद्र में सत्ताधारी पार्टी के इशारे पर संविधान की घोर अवहेलना कर रहे हैं। इसमें राजस्थान के राज्यपाल द्वारा विधान सभा का सत्र बुलाने की अनुमति नहीं दिए जाने का भी जिक्र करते हुए राष्ट्रपति से हस्तपेक्ष करने एवं राज्य सरकार को विधान सभा का सत्र आहूत करने की अनुमति दिलाने की अपील की गई है।

    21:21 (IST)27 Jul 2020
    तो क्या इसलिए सत्र बुलाना चाहते हैं सीएम अशोक गहलोत?

    दरअसल, विधानसभा सत्र बुलाना तो बहाना है। अशोक गहलोत विधेयक लाकर व्हिप जारी कराना चाहते हैं कि जो बागी बिल के खिलाफ वोट देंगे उनकी सदस्यता रद्द होगी। इसीलिए राज्यपाल को जो पत्र दिया, उसमें फ्लोर टेस्ट का जिक्र नहीं। 19 सदस्यों की विधायकी गई तो बहुमत के लिए 92 विधायक चाहिए जो सरकार के पास हैं।

    20:46 (IST)27 Jul 2020
    तो क्या अशोक गहलोत सरकार के पास बहुमत है?

    अशोक गहलोत सरकार ने राजभवन ले जाकर विधायकों की परेड करवाई। इसमें 102 का आंकड़ा दिया। इनमें कांग्रेस के 88, निर्दलीय 10, बीटीपी के 2, सीपीएम और आरएलडी का एक-एक विधायक है। यदि इतने विधायक फ्लोर टेस्ट में सरकार का साथ देते हैं तो सरकार बहुमत हासिल कर लेगी। हालांकि, यदि 2 से 5 विधायक भी छिटके यानी इधर-उधर हुए तो सरकार खतरे में आ जाएगी।

    20:23 (IST)27 Jul 2020
    कोरोना से निपटने के बजाय चुनी गईं सरकारों को गिराने में जुटी है भाजपा: उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष

    राजस्थान में विधानसभा सत्र बुलाने को लेकर सरकार और राजभवन के बीच जारी गतिरोध के खिलाफ सोमवार को उत्तर प्रदेश के राजभवन के सामने धरना-प्रदर्शन कर रहे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू समेत कई नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया। पार्टी के प्रदेश मीडिया संयोजक ललन कुमार ने बताया कि राजस्थान में भाजपा द्वारा 'लोकतंत्र की हत्या' के खिलाफ राजभवन पर धरना देने पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू और राज्यसभा सांसद पीएल पुनिया समेत करीब 150 कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस सूत्रों ने बताया कि जैसे ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष लल्लू, पार्टी राज्यसभा सदस्य पुनिया और उनके साथियों ने राजभवन के मुख्य द्वार के सामने धरना प्रदर्शन शुरू किया, पुलिस ने उन्हें फौरन गिरफ्तार कर लिया। देर शाम सभी को मुचलके पर रिहा कर दिया गया। लल्लू ने कहा कि ऐसे वक्त जब देश महामारी के संकट से जूझ रहा है, सत्तारूढ़ भाजपा उससे निपटने के प्रभावी उपाय करने के बजाए चुनी हुई सरकारों को गिराने में जुटी है।

    19:13 (IST)27 Jul 2020
    आनंद शर्मा ने राज्यपाल पर लगाया प्रश्नचिह्न

    वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने राज्यपाल को कठघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा, अलग-अलग विधानसभाओं में ऐसी कुछ परिस्थितियां आईं हैं, जब विश्वास मत के लिए अचानक सत्र बुलाना पड़ा, ऐसे में राज्यपाल कहते थे कि जल्दी 3 दिन के अंदर सत्र बुलाया जाए, यहां (राजस्थान) राज्यपाल की हर तरह से कोशिश है कि सत्र को देरी से बुलाया जाए या न बुलाया जाए।

    18:25 (IST)27 Jul 2020
    विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने लगाया राज्य सरकार पर आरोप

    राजस्थान विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने राज्य सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा- ये (अशोक गहलोत खेमा) फ्लोर टेस्ट नहीं कराना चाहते, उससे पहले 19 विधायकों की सदस्यता समाप्त करने का तरीका ढूंढ़ रहे हैं। इसलिए विधानसभा गए, राजस्थान हाई कोर्ट गए, सुप्रीम कोर्ट गए और इसलिए राज्यपाल के पास जा रहे हैं।

    18:02 (IST)27 Jul 2020
    राज्यपाल ने सवालों के साथ वापस किया गहलोत सरकार का प्रस्ताव

    बता दें कि राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का राज्य मंत्रिमंडल का संशोधित प्रस्ताव कुछ 'सवालों' के साथ सरकार को वापस भेजा है। राजभवन सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि राज्यपाल ने कैबिनेट की पत्रावली कुछ सवालों के साथ लौटाई है।

    17:46 (IST)27 Jul 2020
    चिदंबरम ने लगाया था राज्यपाल पर आरोप

    कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता सलमान खुर्शीद, अश्विनी कुमार और कपिल सिब्बल ने राजस्थान के राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर विधानसभा का सत्र बुलाने का प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि मौजूदा हालात में संवैधानिक जिम्मेदारी से हटना ठीक नहीं होगा, इससे संकट खड़ा हो जाएगा। पी चिदंबरम ने कहा कि राज्यपाल ने संसदीय लोकतंत्र को कमजोर किया है। मुख्यमंत्री बहुमत साबित करना चाहें तो उनका रास्ता कोई नहीं रोक सकता। वे सत्र बुलाने के हकदार हैं।

    16:27 (IST)27 Jul 2020
    हिरासत में लिए गए गुजरात कांग्रेस के कार्यकर्ता

    गुजरात कांग्रेस के लगभग 60 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इन नेताओं का यह कसूर था कि वे राजस्थान में जारी सियासी संकट को लेकर भाजपा के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। सूबे की राजधानी गांधीनगर में कांग्रेस कार्यकर्ता जब विरोध स्वरूप राजभवन की ओर मार्च कर रहे थे, तभी उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

    15:35 (IST)27 Jul 2020
    तीन पूर्व कानून मंत्रियों ने कलराज मिश्र से कहा: सत्र बुलाने में देरी से संवैधानिक गतिरोध पैदा हुआ

    संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार में कानून मंत्री रहे कांग्रेस के तीन वरिष्ठ नेताओं कपिल सिब्बल, सलमान खुर्शीद और अश्वनी कुमार ने सोमवार को राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र से कहा कि राज्य मंत्रिमंडल की अनुशंसा पर विधानसभा सत्र बुलाने में विलंब करने से संवैधानिक गतिरोध पैदा हुआ है जिसे पहले ही टाला जा सकता था। उन्होंने मिश्र को पत्र लिखकर यह आग्रह भी किया कि वह अशोक गहलोत मंत्रिमंडल की सिफारिश पर विधानसभा सत्र बुलाएं क्योंकि ऐसा नहीं करने से संवैधानिक संकट पैदा होगा। उन्होंने 2016 के ‘नबाम रेबिया मामले’ और 1974 के ‘शमशेर सिंह बनाम भारत सरकार’ मामले में उच्चतम न्यायालय के निर्णय का हवाला देते हुए कहा कि राज्यपाल को मंत्रिपरिषद की सलाह पर विधानसभा सत्र बुलाना चाहिए।

    14:43 (IST)27 Jul 2020
    भाजपा की याचिका खारिज

    राजस्थान उच्च न्यायालय ने राज्य में कांग्रेस पार्टी के साथ 6 बसपा विधायकों के विलय के खिलाफ भाजपा द्वारा दायर याचिका को खारिज कर दिया।

    13:55 (IST)27 Jul 2020
    राजस्थान के घटनाक्रम को लेकर कांग्रेस का दिल्ली में प्रदर्शन, कई नेता हिरासत में लिए गए

    कांग्रेस की दिल्ली इकाई के कई नेताओं और कार्यकर्ताओं ने राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार को गिराने के भाजपा के कथित प्रयास के खिलाफ सोमवार को यहां प्रदर्शन किया। हालांकि, इन लोगों को पुलिस ने उस वक्त हिरासत में ले लिया जब इन्होंने उप राज्यपाल के कार्यालय की तरफ बढ़ने की कोशिश की। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार के नेतृत्व में पार्टी के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। कुमार ने कहा कि यह विरोध प्रदर्शन राजस्थान में भाजपा के ‘लोकतंत्र एवं संविधान विरोधी कदमों’ के खिलाफ था। उन्होंने कहा, ‘‘हम उप राज्यपाल महोदय को बताना चाह रहे थे कि भाजपा और केंद्र की उसकी सरकार किस तरह से राजस्थान में लोकतंत्र की हत्या कर रही हैं। परंतु, दिल्ली पुलिस ने हमें उप राज्यपाल के कार्यालय की तरफ बढ़ने से पहले ही रोक दिया है।’’

    13:28 (IST)27 Jul 2020
    केंद्र की सुन रहे राजस्थान के राज्यपाल: कांग्रेस प्रवक्ता

    कांग्रेस के प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने भी राज्यपाल पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि राज्यपाल को राज्य सरकार के मंत्रियों की सलाह से ही काम करना चाहिए, लेकिन वे दिल्ली में बैठी केंद्र सरकार के आकाओं की ही आवाज सुन रहे हैं।

    12:33 (IST)27 Jul 2020
    कोर्ट ने राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष को याचिका वापस लेने की दी अनुमति

    सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष को हाईकोर्ट के उस आदेश के खिलाफ दायर याचिका वापस लेने की सोमवार को अनुमति दी, जिसमें उपमुख्यमंत्री पद से बर्खास्त किए जा चुके सचिन पायलट और कांग्रेस के 18 बागी विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने की कार्यवाही 24 जुलाई तक स्थगित करने के लिए कहा गया था। विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी की ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने जस्टिस अरुण मिश्रा की अगुवाई वाली पीठ को बताया कि राजस्थान हाई कोर्ट ने 24 जुलाई को नया आदेश दिया और वे कानूनी विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। सिब्बल ने याचिका वापस लेते हुए पीठ से कहा कि अध्यक्ष को बागी विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने की कार्यवाही स्थगित करने के लिए कहने संबंधी हाई कोर्ट के 21 जुलाई के आदेश पर शीर्ष अदालत ने रोक नहीं लगाई, जिसके कारण इस याचिका का अब कोई औचित्य नहीं है। जोशी का प्रतिनिधित्व कर रहे एक अन्य वकील सुनील फर्नांडीस ने कहा, ‘नई विशेष अनुमति याचिका दायर करने की स्वतंत्रता और सभी विकल्पों को खुला रखते हुए याचिका वापस ली गई है।’

    11:59 (IST)27 Jul 2020
    ये भी जानिए: राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण के 448 नए मामले, सात और लोगों की मौत

    राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से सोमवार को सात और लोगों की मौत हो गयी, जिससे राज्य में संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या बढ़कर 631 हो गई है। इसके साथ ही राज्य में संक्रमण के 448 नये मामले सामने आने से राज्य में इस घातक वायरस से संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 36,878 हो गयी है, जिनमें से 10,124 रोगी उपचाराधीन हैं। एक अधिकारी ने बताया कि सोमवार को बीकानेर में तीन, अजमेर में दो एवं भरतपुर में दो और संक्रमित लोगों की मौत हो गई। इससे राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 631 हो गई है।

    10:56 (IST)27 Jul 2020
    विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का प्रस्ताव राज्यपाल ने लौटाया

    राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का राज्य मंत्रिमंडल का संशोधित प्रस्ताव कुछ 'सवालों' के साथ सरकार को वापस भेजा है। राजभवन सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि राज्यपाल ने कैबिनेट की पत्रावली कुछ सवालों के साथ लौटाई है।

    10:11 (IST)27 Jul 2020
    राजभवनों के बाहर प्रदर्शन करेगी कांग्रेस

    कांग्रेस ने कहा कि पार्टी देश के सभी राजभवनों के बाहर सोमवार को विरोध प्रदर्शन करेगी। राजस्थान के कांग्रेस प्रमुख गोविंद डोटासरा ने कहा कि राजस्थान को छोड़कर सभी राज्यों में राजभवनों के बाहर कल प्रदर्शन होगा। कांग्रेस का यह ऐलान राजस्थान के राज्यपाल को चेतावनी के तौर पर देखा जा रहा है। डोटासरा ने कहा है कि हमने विधानसभा सत्र शुरू करने के लिए राज्यपाल को नया प्रस्ताव भेजा है और उम्मीद है कि हमें जल्द ही इसके लिए मंजूरी मिल जाएगी।

    09:06 (IST)27 Jul 2020
    विधानसभा सत्र बुलाने के लिए सीएम गहलोत ने राज्यपाल से की अपील

    सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान के अंदर जिस प्रकार से राज्यपाल महोदय से सरकार विधानसभा में जाने के लिए परमीशन मांग रही है...सत्ताधारी पार्टी हमेशा रिलक्टेंट रहती है, विपक्ष मांग करता है, यहां हम मांग कर रहे हैं अभी तक उसका जवाब नहीं आ रहा है। मैं उम्मीद करता हूं महामहिम राज्यपाल बहुत ही पुराने राजनीतिज्ञ भी हैं, मिलनसार हैं, व्यवहार कुशल हैं और उनके पद की बहुत बड़ी गरिमा है, संवैधानिक पद है... वो जल्द ही, शीघ्र ही हमें आदेश देंगे, हम Assembly बुलाएंगे।

    08:16 (IST)27 Jul 2020
    बहुमत साबित करने की जिद पर अड़े अशोक गहलोत

    08:12 (IST)27 Jul 2020
    राजस्थान के राज्यपाल को विधानसभा सत्र को बुलाने की मांग स्वीकार करनी चाहिए : दिग्विजय सिंह

    कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने रविवार को राजस्थान के राज्यपाल से वहां की कांग्रेस सरकार की राज्य विधानसभा की बैठक आयोजित करने की मांग को मानने का आग्रह किया। कांग्रेस के ''स्पीक अप फॉर डेमोक्रेसी अभिोंयान के तहत रविवार को जारी वीडियो में ंिसह ने राजस्थान की कांग्रेस सरकार की मांग को संवैधानिक बताया।

    07:20 (IST)27 Jul 2020
    बसपा का राजस्थान में कांग्रेस के खिलाफ वोट डालने का व्हिप

    बसपा ने राजस्थान विधानसभा में अपने 6 विधायकों- आर गुढ़ा, लाखन सिंह, दीप चंद, जेएस अवाना, संदीप कुमार और वाजीब अली, को कार्यवाही के दौरान अविश्वास प्रस्ताव में कांग्रेस के खिलाफ वोट डालने के निर्देश दिया है। पार्टी की ओर से इसका व्हिप जारी कर दिया गया है।

    06:06 (IST)27 Jul 2020
    संविधान, लोकतंत्र की हत्या का नाम ही कांग्रेस है : भाजपा

    भाजपा ने पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान का लेकर उन पर पलटवार करते हुए रविवार को कहा कि संविधान और लोकतंत्र की हत्या का नाम ही कांग्रेस पार्टी है, जबकि इसे बचाये रखने का काम भगवा पार्टी ने किया है।

    05:36 (IST)27 Jul 2020
    कांग्रेस का राजस्थान के राज्यपाल पर केन्द्र के इशारे पर काम करने का आरोप

    कांग्रेस ने राजस्थान के राज्यपाल पर राज्य विधानसभा का सत्र बुलाने संबंधी अशोक गहलोत सरकार की मांग पर ‘‘सतही और प्रेरित’’ सवाल उठाकर ‘‘लोकतंत्र को बाधित करने का सबसे खराब तरीका’’ अपनाने का रविवार को आरोप लगाया।कांग्रेस ने राजभवन के सामने सोमवार को प्रस्तावित विरोध प्रदर्शन वापस लिया जयपुर, 26 जुलाई (भाषा) राजस्थान में राजनीतिक संकट के बीच राजस्थान कांग्रेस पार्टी ने एक बड़े बदलाव के तहत सोमवार को ‘संविधान और लोकतंत्र को बचाने’ के लिये राजभवन के सामने प्रस्तावित अपना प्रदर्शन वापस ले लिया है।

    22:26 (IST)26 Jul 2020
    कांग्रेस नेता पीसी शर्मा बोले- इतिहास में पहली बार है जब फ्लोर टेस्ट के लिए इजाजत नहीं मिल रही

    कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने रविवार को कहा कि बाकी राज्यों और मध्य प्रदेश में राज्यपाल महोदय कहते हैं कि फ्लोर टेस्ट कराओ और राजस्थान में कैबिनेट मांग कर रहा है कि फ्लोर टेस्ट कराना है, तो उसे अनुमति नहीं दी जा रही। 70 साल के इतिहास में पहली बार मंत्रिमंडल फ्लोर टेस्ट देना चाहता है, परन्तु अनुमति नहीं मिल रही।

    21:59 (IST)26 Jul 2020
    कांग्रेस प्रवक्ता बोले- हम जानते हैं कि मध्य प्रदेश और कर्नाटक में भाजपा ने क्या किया

    कांग्रेस ने राजस्थान संकट को लेकर भाजपा पर ठीकरा फोड़ना जारी रखा है। पार्टी के प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा है कि पिछले 15 दिन से हमने देखा कि कैसे राजस्थान में एक चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने के प्रयास किए जा रहे हैं और कौन-कौन इसमें शामिल हैं। इससे पहले मार्च में कमलनाथ जी की सरकार और उससे पहले कर्नाटक में क्या हुआ, ये हम जानते हैं।

    21:32 (IST)26 Jul 2020
    कांग्रेस ने चलाया #SpeakUpForDemocracy हैशटैग

    कांग्रेस राजस्थान संकट को लेकर लगातार भाजपा पर हमलावर हो रही है। रविवार को पार्टी के कई नेताओं ने #SpeakUpForDemocracy हैशटैग ट्रेंड कराया। इसी बीच राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा कि आज पूरा मुल्क चिंतित है क्योंकि डेमोक्रेसी खतरे में है।#SpeakUpForDemocracy प्रोग्राम जो चलाया गया इसके मायने हैं, इसका अपना सन्देश है, उसको एक तरफ आम जनता को भी समझना पड़ेगा और दूसरी तरफ जो हुकूमत में हैं उनको भी समझना पड़ेगा। आज जिस प्रकार का माहौल देश के अंदर है वो चिंताजनक है।

    21:02 (IST)26 Jul 2020
    विधानसभा सत्र बुलाने पर क्यों अड़े सीएम अशोक गहलोत?

    राजस्थान का राजनैतिक इतिहास रहा है कि वहां सत्ता पक्ष ही विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश करता रहा है और उसे सफलता भी मिली है। राजस्थान में अब तक 4 बार विभिन्न सरकारें विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश कर चुकी हैं। बता दें कि विपक्षी पार्टियों द्वारा अविश्वास प्रस्ताव लाया जाता है और सत्ता पक्ष द्वारा अपनी स्थिति मजबूत दिखाने के लिए विश्वास प्रस्ताव पेश किया जाता है।

    अब राजस्थान के मौजूदा राजनैतिक हालात जैसे बने हुए हैं, उसमें गहलोत अपनी स्थिति मजबूत करना चाहते हैं और यही वजह है कि वह विधानसभा का सत्र बुलाने पर अड़े हैं। इतिहास पर नजर डालें तो जिस तरह से पहले भी राजस्थान में सरकारें विश्वास प्रस्ताव लाकर सत्ता में बनी रहीं उसी तरह अशोक गहलोत सरकार भी सत्ता पर काबिज होने की उम्मीद कर रही है।

    20:37 (IST)26 Jul 2020
    मध्य प्रदेश में सरकार गंवा चुके दिग्विजय सिंह बोले- भाजपा संविधान के साथ कर रही कुठाराघात

    राजस्थान में जारी सियासी संकट पर मध्य प्रदेश के नेताओं के भी लगातार बयान आ रहे हैं। अब राज्य के ही नेता दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर संविधान पर कुठाराघात करने का और जनमत खरीदने का आरोप लगाया है।

    20:05 (IST)26 Jul 2020
    भाजपा का आरोप- बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए 6 विधायकों पर स्पीकर ने नहीं की कार्रवाई

    भाजपा विधायक और पूर्व मंत्री मदन दिलावर ने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी ने कांग्रेस में विलय के लिए बसपा के छह विधायकों को अयोग्य ठहराने की उनकी याचिका पर कोई कार्रवाई नहीं की है। दिलावर ने रविवार को एक बयान में कहा कि संविधान की 10वीं अनुसूची के तहत उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष बसपा विधायकों को अयोग्य करार किये जाने की याचिका 16 मार्च को प्रस्तुत की थी। उसके बाद 17 जुलाई को याचिका पर तुरंत कार्यवाही करने के लिये फिर से प्रार्थना की लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई। बसपा के छह विधायकों संदीप यादव, वाजिब अली, दीपचंद खेरिया, लखन मीणा, जोगेन्द्र अवाना और राजेन्द्र गुढ ने 2018 विधानसभा चुनाव में बसपा के टिकट पर चुनाव जीता था। सभी विधायक सितंबर 2019 में बसपा छोडकर कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

    19:39 (IST)26 Jul 2020
    राजस्थानः कोरोना के बढ़ते मामलों पर राज्यपाल ने जताई चिंता

    राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच राज्य में कोरोना के केस भी तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इस पर राज्यपाल कलराज मिश्र ने चिंता जताई है। उन्होंने सरकार की तैयारियों पर सवाल उठाते हुए कहा कि 1 जुलाई के बाद से राज्य में कोरोना के केस तिगुने हो गए हैं। उन्होंने संक्रमण को काबू में लाने के लिए सरकार को गंभीर होने के लिए कहा है। बता दें कि सीएम अशोक गहलोत ने हाल ही में गवर्नर को प्रस्ताव भेजकर 31 जुलाई को कोरोना पर चर्चा के लिए ही विधानसभा सत्र बुलाने के लिए कहा है।

    19:26 (IST)26 Jul 2020
    राजस्थानः कोरोना के बढ़ते मामलों पर राज्यपाल ने जताई चिंता

    राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच राज्य में कोरोना के केस भी तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इस पर राज्यपाल कलराज मिश्र ने चिंता जताई है। उन्होंने सरकार की तैयारियों पर सवाल उठाते हुए कहा कि 1 जुलाई के बाद से राज्य में कोरोना के केस तिगुने हो गए हैं। उन्होंने संक्रमण को काबू में लाने के लिए सरकार को गंभीर होने के लिए कहा है। बता दें कि सीएम अशोक गहलोत ने हाल ही में गवर्नर को प्रस्ताव भेजकर 31 जुलाई को कोरोना पर चर्चा के लिए ही विधानसभा सत्र बुलाने के लिए कहा है।

    18:53 (IST)26 Jul 2020
    राज्यपाल को मिला राजस्थान कैबिनेट का सत्र बुलाने का नया प्रस्ताव

    राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र को कैबिनेट की तरफ से भेजा गया विधानसभा सत्र 31 जुलाई से शुरू करने का प्रस्ताव मिल गया है। राजभवन के सूत्रों ने इसकी जानकारी दी है। बताया गया है कि गवर्नर ने शुक्रवार को ही कांग्रेस से सत्र बुलाने को लेकर छह बिंदुओं पर सफाई मांगी थी। इसके बाद शनिवार रात को कैबिनेट की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के घर पर बैठक हुई, जिसमें सत्र बुलाने के लिए नए प्रस्ताव का ड्राफ्ट मंजूर किया गया।

    18:25 (IST)26 Jul 2020
    भाजपा ने कहा- कुर्सी की भूख ने कांग्रेस को लोभी बना दिया

    राजस्थान प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश पुनिया ने एक बार फिर सीएम अशोक गहलोत पर निशाना साधा है। पुनिया ने ट्वीट कर लिखा कि 'जनता सब देख रही है; ईश्वर भी साक्षी है; आपका ईमान कैसे गवाही दे रहा है, कुर्सी की भूख ने आपको लोभी बना दिया है। कोरोना ही नहीं अपराध भी तेजी से बढ़ रहे हैं, क्या बाड़े में बैठे रहना ही लोकतंत्र है? शासन है? कांग्रेस बताए कब बाड़े से निकलेगी अशोक गहलोत सरकार?'

    17:59 (IST)26 Jul 2020
    राज्यपाल कलराज मिश्र से मिलने पहुंचे डीजीपी भूपेंद्र यादव और मुख्य सचिव राजीव स्वरूप

    राजस्थान में जारी सियासी घमासान के बीच आज राज्य के मुख्य सचिव राजीव स्वरूप और डीजीपी भूपेंद्र यादव गवर्नर कलराज मिश्रा से मिलने राजभवन पहुंचे। बता दें कि कांग्रेस अब तक गवर्नर कलराज मिश्र पर भाजपा और केंद्र सरकार के निर्देश पर काम करने का आरोप लगा चुकी है। हाल ही में सीएम अशोक गहलोत ने कहा था कि अगर आम लोग इस संकट के बीच राज्यपाल भवन का घेराव करते हैं, तो उनकी जिम्मेदारी नहीं होगी। हालांकि, इस पर राज्यपाल ने कहा था कि अगर यह राज्य सरकार और प्रशासन की जिम्मेदारी नहीं होगी, तो मेरी रक्षा कौन करेगा। इससे जनता को गलत संदेश जाएगा।

    17:35 (IST)26 Jul 2020
    क्या लोकतंत्र दिल्ली दरबार की गुलाम हो गया हैः सुरजेवाला

    कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने पार्टी नेताओं के साथ बैठक के दौरान राजस्थान संकट को लेकर भाजपा और केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। सुरजेवाला ने कहा कि पहले मध्य प्रेदश में भाजपा की दिनदहाड़े लोकतंत्र की हत्या करने की साजिश सामने आई और अब राजस्थान में भी इसका खुलासा हो गया है। क्या लोकतंत्र दिल्ली दरबार का कोई गुलाम है? क्या बहुमत सिर्फ दिल्ली के हाथों की कठपुतली है? क्या मतदान का कानून अब मायने नहीं रखता? अगर नहीं तो अपनी-अपनी आवाज उठाएं।

    17:03 (IST)26 Jul 2020
    जयपुर के होटल में रखे गए विधायकों से मिलने पहुंचे सीएम गहलोत

    सीएम अशोक गहलोत ने रविवार को जयपुर के होटल में ठहरे विधायकों से मुलाकात की। मीडिया में ऐसी खबरें आ रही हैं कि गहलोत सरकार 31 जुलाई को विधानसभा का सत्र बुलाना चाहती है और इसके लिए सरकार ने नया प्रस्ताव भी तैयार किया है, जिसे जल्द ही राज्यपाल को भेजा जाएगा। ऐसे में सीएम गहलोत विधायकों को अपने पक्ष में ही जुटाने की कोशिश में हैं। 

    16:33 (IST)26 Jul 2020
    केंद्र सरकार ने राजस्थान संकट को 24 घंटे की एक्टिविटी बना दिया: कांग्रेस

    कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने राजस्थान संकट को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि जब देश में कोरोनावायरस को लेकर नियम लागू हैं, तब केंद्र सरकार और राज्य की विपक्षी पार्टी ने राजस्थान को अपने 24*7 एक्टिविटी का हिस्सा बना लिया, ताकि एक चुनी हुई सरकार को गिराया जा सके। यह उनकी प्राथमिकताओं को दर्शाता है।

    15:48 (IST)26 Jul 2020
    कांग्रेस का राज्यपाल पर हमला, बोले- वह सिर्फ केन्द्र की सुन रहे हैं

    राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच कांग्रेस पार्टी राज्यपाल कलराज मिश्र पर हमलावर हो गई है। अधीर रंजन चौधरी ने जहां राज्यपाल की आलोचना की, वहीं कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने भी मीडिया के साथ बातचीत में आरोप लगाया है कि राज्यपाल कलराज मिश्र राज्य सरकार की सलाह मानने के लिए बाध्य हैं लेकिन वह अलग तरीके से व्यवहार कर रहे हैं और केन्द्र में बैठी सरकार की सुन रहे हैं।

    15:08 (IST)26 Jul 2020
    अधीर रंजन चौधरी ने राज्यपाल पर बोला हमला, कहा- उनकी विश्वसनीयता पर सवाल खड़े हुए हैं

    कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा है कि ऐसा लगता है कि राजस्थान के राज्यपाल किसी उच्च आध्यात्मिक सरकार द्वारा प्रशासित किए जा रहे हैं। उनकी विश्वसनीयता पर पहले ही बड़ा आघात लगा है, जिसकी रिकवरी संभव नहीं है। क्या हम 'एक देश एक संविधान' की तरफ बढ़ रहे हैं।

    15:00 (IST)26 Jul 2020
    भारत का लोकतंत्र संविधान के आधार पर चलेगा- राहुल गांधी

    राहुल गांधी ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा ट्वीट कर कहा है कि भारत का लोकतंत्र संविधान के आधार पर जनता की आवाज से चलेगा। भाजपा के छल कपट के षडयंत्र को नकारकर देश की जनता लोकतंत्र और संविधान की रक्षा करेगी।'

    15:00 (IST)26 Jul 2020
    भारत का लोकतंत्र संविधान के आधार पर चलेगा- राहुल गांधी

    राहुल गांधी ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा ट्वीट कर कहा है कि भारत का लोकतंत्र संविधान के आधार पर जनता की आवाज से चलेगा। भाजपा के छल कपट के षडयंत्र को नकारकर देश की जनता लोकतंत्र और संविधान की रक्षा करेगी।'

    14:40 (IST)26 Jul 2020
    कांग्रेस प्रभारी ने बोला भाजपा पर हमला, कहा- केंद्र संवैधानिक संस्थाओं का गलत इस्तेमाल कर रहा

    राजस्थान के कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने राज्य में जारी सियासी लड़ाई के लिए भाजपा पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी हमारी सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रही है। राज्यपाल विधानसभा सत्र बुलाने की सीएम की मांग को नहीं मान रहे हैं, जिससे पता चलता है कि केन्द्र सरकार किस तरह से संवैधानिक संस्थाओं और लोकतांत्रिक मूल्यों का गलत इस्तेमाल कर रही है।

    13:11 (IST)26 Jul 2020
    कांग्रेस ने सोशल मीडिया पर स्पीक अप फॉर डेमोक्रेसी अभियान शुरू किया

    कांग्रेस ने सोशल मीडिया पर स्पीक अप फॉर डेमोक्रेसी अभियान शुरू किया है। इस अभियान के तहत कांग्रेस ने लोगों से लोकतंत्र की रक्षा के लिए एकजुट होने की अपील की है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी इस अभियान के संबंध में एक वीडियो ट्वीट किया है।

    13:07 (IST)26 Jul 2020
    भैरों सिंह शेखावत ने भी विश्वास मत हासिल किया था

    राजस्थान की नवीं विधानसभा के दौरान साल 1990 में तत्कालीन सीएम भैरों सिंह शेखावत ने भी विधानसभा में विश्वास मत का प्रस्ताव सदन में पेश किया था, जो कि ध्वनि मत से पारित हो गया था। इसके बाद शेखावत सरकार ने 20 नवंबर 1990 को फिर से सदन में विश्वास प्रस्ताव पेश किया। इस बार भी सरकार को सफलता मिली। तीसरी बार दसवीं विधानसभा के दौरान साल 1993 में भी शेखावत सरकार ने विश्वास मत प्रस्ताव पेश किया। इसमें भी सरकार को सफलता मिली।

    Next Stories
    1 बिहार में कोरोना के बीच दवाओं की भारी किल्लत, तिगुने दाम पर बिक रहे ऑक्सीमीटर, बाजार से जिंक और विटामिन सी की दवा गायब
    2 जेएनयू छात्र ने सेना पर की टिप्पणी, दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR, RSS की बेइज्जती से जोड़ दिया मामला
    3 ‘रोज पांच बार पढ़ें हनुमान चालीसा, दूर होगा कोरोना’, बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर की अपील
    ये पढ़ा क्या?
    X