ताज़ा खबर
 

मोदी, गहलोत, वसुंधरा से बोले थे BSP विधायक- ‘AK-47 से जवाब देता हूं, पेटी पैक करके भेजूंगा’, EC ने भेजा नोटिस

विवादित बयान में कहा 'मैं पीछे नहीं हटूंगा भाइयों। गोली चलेगी तो पहली गोली मेरे सीने में लगेगी। पत्थर का जवाब एके-47 से देता हूं मैं। तो आ जाओ अशोकजी (अशोक गहलोत), आ जाओ मोदी जी, आ जाओ वसुंधरा जी, सबको पेटी पैक करके भेजूंगा।'

वसुंधरा राजे, नरेंद्र मोदी और अशोक गहलोत (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए बच गई एकमात्र सीट पर घमासान जारी है। अलवर के रामगढ़ से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे दिग्गज कांग्रेस नेता के बेटे जगत सिंह पर मतदाताओं को धमकाने और लालच देने के आरोप लगे हैं। इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और भाजपा उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे के लिए भी अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था। इसके चलते उन्हें चुनाव आयोग ने आचार संहिता के उल्लंघन का नोटिस दिया है। रामगढ़ सीट पर बसपा प्रत्याशी की मौत के चलते 7 दिसंबर को मतदान नहीं हो पाया था। अब यहां 28 जनवरी को मतदान होगा। तारीख का ऐलान 1 जनवरी को किया गया था।

मोदी, वसुंधरा और गहलोत को दी ऐसी चुनौतीः रिपोर्ट्स के मुताबिक आचार संहिता के बाद से अब तक बसपा प्रत्याशी जगत सिंह ने अपने चुनाव प्रचार में तीन बार आपत्तिजनक भाषा और शब्दों का इस्तेमाल किया है। एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं पीछे नहीं हटूंगा भाइयों। गोली चलेगी तो पहली गोली मेरे सीने में लगेगी। पत्थर का जवाब एके-47 से देता हूं मैं। तो आ जाओ अशोकजी (अशोक गहलोत), आ जाओ मोदी जी, आ जाओ वसुंधरा जी, सबको पेटी पैक करके भेजूंगा।’

ये है दूसरा विवादित बयानः उल्लेखनीय है कि इससे पहले कुछ वीडियो में वे मतदाताओं को प्यार से समझाने के साथ-साथ बीड़ी और बोतल (शराब) देने की बात कह रहे हैं। साथ ही यह भी बोले, ‘नहीं माने तो ठोक दो और गाड़ी में बैठकर निकल जाओ।’

क्या है नियमः निर्वाचन आयोग के मुताबिक ये टिप्पणियां आचार संहिता के पैरा संख्या एक और पांच का सीधा उल्लंघन है। हालांकि आयोग ने जगत सिंह को उनका पक्ष रखने के लिए तीन दिन का समय दिया है। इसके साथ ही उनसे पूछा गया है कि क्यों न आपके खिलाफ लोक प्रतिनिधित्व एवं अधिनियम 1950, लोक प्रतिनिधि अधिनियम 1951 और आईपीसी के तहत कार्रवाई की जाए।

कौन हैं जगत सिंहः बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे जगत सिंह इससे पहले भारतीय जनता पार्टी के विधायक भी रह चुके हैं। गौरतलब है कि उनके पिता नटवर सिंह कांग्रेस सरकार में विदेश मंत्री रह चुके हैं। इसके अतिरिक्त 31 सालों तक वे भारतीय विदेश सेवा में अधिकारी भी रह चुके हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पटना: ट्रैफिक जाम पर HC के जज की तल्ख टिप्पणी, कहा- आधे घंटे में जाम से मुक्त हो जाएं तो खुद को समझिये भाग्यशाली
2 Gujarat: शुरू हुआ फ्लावर शो 2019, एक लाख 10 हजार स्क्वायर मीटर में है फैला, देखने को मिलेंगे 750 से अधिक प्रकार के फूल
3 वाराणसी में प्रवासी भारतीय सम्मेलन के लिए लगे पीएम- सीएम के पोस्टर फाड़ रहा था युवक, पुलिस ने मौके से पकड़ा
ये पढ़ा क्या?
X