ताज़ा खबर
 

राजस्थान: मां के कहने पर बेटी ने प्रेमी को दी पिता की सुपारी, फिर मिलकर चाकुओं से गोद डाला

पुलिस का इस मामले में कहना है कि महिपाल मृतक की छोटी बेटी ममता से प्यार करता है। हत्या में उसके कुछ और दोस्तों के शामिल होने की आशंका भी है। जांच-पड़ताल पर उन्हें खोजने के प्रयास किए जा रहे हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

राजस्थान में पारिवारिक संबंधों को झकझोर देने वाला एक मामला सामने आया है। मां के कहने पर यहां एक बेटी ने पिता की बेरहमी से हत्या करा दी। वारदात को अंजाम देने के लिए उसने प्रेमी को पिता को मौत के घाट उतारने की सुपारी दी थी। इलाके में शख्स की मौत की खबर के बाद सनसनी का माहौल है। पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया है, जिसमें मृतक की पत्नी और दो बेटियां भी शामिल हैं।

यह घटना पाली जिले की है। आनंदपुर कालू थाना क्षेत्र में 45 वर्षीय बाबूलाल जाट सपरिवार रहते थे। 18 जून को उनकी चाकुओं से गोद-गोदकर हत्या कर दी गई थी। महिला सुंदरी देवी, बेटियों (21 वर्षीय सुशीला और 19 वर्षीय ममता) व उनमें से एक के प्रेमी महिपाल ने हत्या के दौरान बाबूलाल के शरीर पर तकरीबन 30 बार बुरी तरह चाकुओं से हमला किया था।

पुलिस का इस मामले में कहना है कि महिपाल मृतक की छोटी बेटी ममता से प्यार करता है। हत्या में उसके कुछ और दोस्तों के शामिल होने की आशंका भी है। जांच-पड़ताल पर उन्हें खोजने के प्रयास किए जा रहे हैं। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि बाबूलाल पत्नी और बेटियों के चरित्र को लेकर शक करता था। यही वजह थी कि वह उन्हें मारता-पीटता था। घर में कलह के कारण सुंदरी तंग आ चुकी थी।

महिला ने इसी वजह से पति को मरवाने के लिए छोटी बेटी के प्रेमी को सुपारी दी थी, जिसके लिए उसे तीन लाख भी चुकाए गए थे। पुलिस के मुताबिक, महिपाल जाट मूल रूप से नागौर के ढींगसरा इलाके का रहने वाला है। पड़ताल के दौरान पुलिस को घटनास्थल पर मिले मृतक के शरीर पर 30 से अधिक घाव मिले, जबकि खटिया के पास खून ही खून पड़ा हुआ था।

बाबूलाल की हत्या के बाद आरोपी काफी घबरा गए थे, लिहाजा वे दरवाजे के रास्ते नहीं भागे। सभी आरोपी घर से दीवार फांदकर भागे थे। शख्स पर जब हमला बोला गया था, उस वक्त वह चारपाई पर सो रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App