ताज़ा खबर
 

Pahlu Khan Lynching Case: जांच करने वाले 4 पुलिस अफसरों के खिलाफ एक्शन, गहलोत सरकार की बनाई SIT करेगी जांच

बता दें कि 1 अप्रैल 2017 को पहलू खान पर हुए हमले का यह मामला जब कोर्ट में रखा गया तो सरकारी पक्ष अदालत में मामला साबित करने में नाकाम रहा, वहीं कुछ गवाह भी पलट गए।

Author जयपुर | Published on: November 5, 2019 1:21 PM
मृतक पहलू खान, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

राजस्थान सरकार ने बहुचर्चित पहलू खान लिंचिंग केस की जांच में शामिल चार पुलिस अधिकारियों के खिलाफ एक्शन लिया है। पुलिस ने इस संबंध में जानकारी देते हुए इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत की है। क्राइम ब्रांच के क्राइम इन्वेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (सीआईडी सीबी) के अतिरिक्त महानिदेशक बीएल सोनी ने कहा, ‘पहलू खान केस के लिए गठित विशेष जांच टीम की रिपोर्ट के आधार पर विजिलेंस ब्रांच ने इस मामले की जांच से जुड़े चार पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की शुरुआत की है।’

केस की जांच में शामिल थे ये चार अधिकारीः पहलू खान मामले में जांच की शुरुआत बेहरोर पुलिस थाने के एसएचओ (स्टेशन हाउस ऑफिसर) रहे रमेश चंद सिनसिनवार ने की थी। इसके बाद यह केस बेहरोर के सर्किल ऑफिसर परमल सिंह, फिर कोटपुतली के एडिशनल एसपी रामस्वरूप शर्मा के पास गया। यह क्षेत्र जयपुर ग्रामीण क्षेत्र में आता है। इसके बाद सीबी-सीआईडी के एडिएशनल एसपी गोविंद देथा ने भी इस केस की जांच की थी।

Hindi News Today, 05 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

अलवर कोर्ट के फैसले के बाद एक्शन में सरकारः ये चारों अधिकारी अब एसआईटी की जांच का सामना करेंगे। इसका गठन अशोक गहलोत (Rajasthan CM Ashok Gehlot) सरकार ने किया था। सरकार का यह फैसला अलवर कोर्ट की तरफ से लिंचिंग केस में शामिल सभी छह आरोपियों को बरी किए जाने के बाद सामने आया है। अधिकारियों के मुताबिक सिंह और अब रिटायर्ड हो चुके सिनसिनवार ने अपनी जांच में कई कमियां रख दी थीं। शर्मा और देथा ने भी दोनों अधिकारियों की तरफ से की गई त्रुटियों में सुधार नहीं किया।

कोर्ट ने इसलिए बरी किया था आरोपियों कोः 1 अप्रैल 2017 को पहलू खान पर हुए हमले का यह मामला जब कोर्ट में रखा गया तो सरकारी पक्ष अदालत में मामला साबित करने में नाकाम रहा, वहीं कुछ गवाह भी पलट गए। कोर्ट ने घटनास्थल के वीडियो को सबूत नहीं माना, इसके लिए कोर्ट ने एफएसएल जांच का तर्क भी दिया। कोर्ट कहा कि वीडियो बनाने वाले शख्स ने सही-सही जानकारी नहीं दी। इसके साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा कि पहलू खान का बेटा कोर्ट में आरोपियों की पहचान नहीं कर सका।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 महा-ड्रामाः दुष्यंत की कविता से बीजेपी पर अटैक, संजय राउत बोले- ‘सिर्फ हंगामा मेरा मकसद नहीं’, अपना CM बनाकर ही मानेगी शिवसेना
2 BJP सांसद बोले- लोन वसूली के लिए किसानों के पास गई पुलिस तो गला काटकर हाथ तोड़ देंगे
3 IRCTC INDIAN RAILWAYS यात्री सावधान, यह गलती की तो ब्लॉक हो जाएगा आपका बुक E-Ticket
ये पढ़ा क्या?
X