scorecardresearch

जालौर मामला: अपने नेताओं के तेवर बने CM गहलोत की मुश्किल, सचिन पायलट पर फिर से निकाली भड़ास

Rajasthan Politics: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बगैर नाम लिए सचिन पायलट पर निशाना साधा और कहा कि कुछ नेता पार्टी कार्यकर्ताओं को भड़का रहे हैं कि उन्हें मान सम्मान नहीं मिल रहा है।

जालौर मामला: अपने नेताओं के तेवर बने CM गहलोत की मुश्किल, सचिन पायलट पर फिर से निकाली भड़ास
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फोटो : पीटीआई)

Rajasthan Politics: जालौर में एक दलित छात्र की मौत के मामले के बाद राजस्थान की राजनीति में बवाल आ गया है। विपक्षी दलों के साथ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के अपने नेता ही इस मामले में उनके लिए परेशानियां खड़ी करते दिख रहे हैं। कांग्रेस नेता सचिन पायलट और गहलोत के रिश्ते जगजाहिर हैं। दोनों पहले भी कई बार एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी कर चुके हैं। अब जालौर मामले में भी सचिन पायलट अप्रत्यक्ष रूप से गहलोत को घेरने में लगे हैं। तो वहीं, गहलोत के एक विधायक ने इस घटना के बाद इस्तीफा देकर अन्य दलों को हमलावर होने का मौका दे दिया है।

पायलट ने जालौर जाकर पीड़ित परिवार से मुलाकात की और कहा कि जालौर जैसी घटनाओं पर रोक लगाने की जरूरत है और दलित समाज को इस बात का विश्वास दिलाया जाना चाहिए कि हम उनके साथ हैं। सचिन पायलट ने यह भी कहा कि सरकार इस मामले में कार्रवाई कर रही है और आगे भी करेगी। हमें इस तरह के मुद्दों का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए।

दो साल पहले गहलोत सरकार को गिराने की कोशिश कर चुके पायलट के इस कदम के बाद मुख्यमंत्री ने वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों और कांग्रेस की राज्य इकाई के प्रमुख गोविंद सिंह डोटासरा को जालौर भेजा। ताकि पायलट इसका राजनीतिक लाभ ना ले सकें। वहीं, जालौर घटना पर एक कांग्रेस विधायक पानचंद मेघवाल ने गहरा दुख व्यक्त किया और पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए इस्तीफा दे दिया है।

बता दें कि सचिन पायलट और अशोक गहलोत कई बार एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी करते नजर आए हैं। कल भी गहलोत ने पायलट को निशाने पर लेते हुए कहा था कि कुछ लोग पार्टी कार्यकर्ताओं को भड़का रहे हैं कि उन्हें पार्टी में सम्मान नहीं मिल रहा है।

उन्होंने कहा, “पार्टी के कुछ नेता कार्यकर्ताओं से कह रहे हैं कि उन्हें पार्टी में सम्मान मिलना चाहिए। अब यह एक जुमला बन गया है। क्या आपने खुद कभी पार्टी कार्यकर्ताओं को सम्मान दिया? क्या वो जानते भी हैं कि सम्मान क्या होता है?” हालांकि गहलोत ने अपने बयान में किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन माना जा रहा है कि उनका यह वार सचिन पायलट पर था। सचिन पायलट कई बार पार्टी कार्यकर्ताओं के सम्मान का मुद्दा उठा चुके हैं।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.