ताज़ा खबर
 

Rajasthan Barmer Pandal Collapse News Updates: बाड़मेर में मरने वालों की संख्या 15 हुई, पीड़ित परिजनों से मिले CM गहलोत

Rajasthan Barmer Pandal Collapse News Updates, Murlidhar Ji Maharaj Ram Katha News: बाड़मेर के जसोल गांव में हुए दर्दनाक हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों का कहना है कि रविवार का दिन होनेके कारण वह पूरे परिवार के साथ रामकथा सुनने गए थे, जहां यह दर्दनाक हादसा हो गया।

Author बाड़मेर | Jun 24, 2019 15:53 pm
बाड़मेर के जसोल गांव में हुआ दर्दनाक हादस (फोटो सोर्स: ANI)

Rajasthan Barmer Pandal Collapse News Updates: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सोमवार सुबह बाड़मेर के जसोल गांव पहुंचे। उन्होंने जसोल हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें सांत्वना दी, ढांढस बंधाया। बता दें कि राजस्थान के बाड़मेर जिले के जसोल गांव में रामकथा के दौरान आंधी-तूफान से पंडाल ढहने के कारण 15 लोगों की मौत हो गई थी। वहीं, करीब 70 लोग घायल हो गए। बताया जा रहा है कि हादसे के वक्त पंडाल में सैकड़ों लोग मौजूद थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आंधी-तूफान के कारण पंडाल बिजली के तार के संपर्क में आ गया था, जिससे लोहे के पिलर्स में करंट आ गया। ऐसे में उसके आसपास बैठे लोग करंट की चपेट में आ गए और जान गंवा बैठे। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि महज डेढ़ मिनट में ही सबकुछ तबाह हो गया।

पीड़ित बोले- परिवार के साथ आखिरी रामकथा: बाड़मेर के जसोल गांव में हुए दर्दनाक हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों का कहना है कि यह परिवार के साथ आखिरी रामकथा हो गई। उन्होंने बताया कि रविवार का दिन होने के कारण वह पूरे परिवार के साथ रामकथा सुनने गए थे, जहां यह दर्दनाक हादसा हो गया। उन्हें नहीं पता था कि यह परिवार के साथ आखिरी रामकथा होगी।

Live Blog

Highlights

    14:58 (IST)24 Jun 2019
    सीएम ने की मुआवजे की घोषणा

    राजस्थान के बाड़मेर में रामकथा के दौरान पंडाल गिरने से मरने वालों की संख्या 15 हो चुकी है। सीएम अशोक गहलोत ने मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए व घायलों को 2-2 लाख रुपए का मुआवजा देने का ऐलान किया है।

    13:09 (IST)24 Jun 2019
    बाड़मेर में पंडाल गिरने से लोगों की हुई मौत पर राहुल गांधी ने जताया दुख

    कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजस्थान के बाड़मेर जिले में एक धार्मिक कार्यक्रम में पंडाल गिरने से 14 लोगों की हुई मौत पर रविवार को दुख जाहिर किया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘बाड़मेर के जसोल में रामकथा के दौरान पंडाल गिरने से लोगों की मौत होना घटना दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है। मैं भगवान से मरने वालों की आत्मा की शांति की प्रार्थना करूंगा। मैं उम्मीद करता हूं कि घायल हुए लोग जल्दी ठीक हो जाएंगे।’’

    12:51 (IST)24 Jun 2019
    ममता बनर्जी ने राजस्थान में 14 व्यक्तियों की मौत पर दुख जताया

    पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को राजस्थान के बाड़मेर जिले में एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान पंडाल गिरने से 14 व्यक्तियों की मौत पर दुख व्यक्त किया। बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘‘राजस्थान के बाड़मेर में पंडाल गिरने से होने वाली मौतों पर दुखी हूं। शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी संवेदना। घायलों के जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना करती हूं।’’

    12:24 (IST)24 Jun 2019
    पंडाल में नहीं थी हवा पास होने की जगह

    बताया जा रहा है कि पंडाल में हवा पास होने के लिए जगह ही नहीं छोड़ी गई। यही कारण रहा कि जब आंधी चली तो हवा पंडाल में भर गई और वह ऊपर की ओर उड़ने लगा। पंडाल का फाउंडेशन कमजोर था। ऐसे में वह आसानी से उखड़ गया। इसके चलते लोहे के एंगल उखड़कर शामियाने के साथ हवा में उड़ गए।

    12:22 (IST)24 Jun 2019
    प्रख्यात कथावाचक हैं मुरलीधर महाराज

    मुरलीधर महाराज मारवाड़ के प्रसिद्ध कथावाचक हैं। लोग बताते हैं कि उनके कार्यक्रमों में काफी भीड़ उमड़ती है। इसके बावजूद प्रशासन ने इस तरह के आयोजन को लेकर सुरक्षा का इंतजाम नहीं किया।

    10:48 (IST)24 Jun 2019
    बिजली काटी, पर ऑटोमेटिक जनरेटर चल गए

    पंडाल गिरते ही करंट दौड़ा तो बिजली काट दी गई। लेकिन वहां दो ऑटोमैटिक जनरेटर लगे थे, वे स्टार्ट हो गए और करंट बना रहा। उधर, बिजली निगम के अफसर ने अफसर सोनाराम चौधरी ने बताया कि कार्यक्रम के लिए कोई बिजली कनेक्शन नहीं लिया था।

    10:48 (IST)24 Jun 2019
    दोपहर 2 बजे शुरू हुई थी कथा

    कथा की शुरुआत दोपहर 2 बजे हुई थी। करीब 3:15 बजे आंधी के साथ बूंदाबांदी शुरू हुई। पंडाल में पानी टपकने लगा तो आयोजकों ने श्रद्धालुओं को आगे- पीछे किया, लेकिन कथा जारी रही। दोपहर 3:28 बजे अचानक बवंडर उठा और पंडाल धराशायी हो गया।

    10:33 (IST)24 Jun 2019
    हादसे में कथावाचक भी हुए चोटिल

    बाड़मेर के जसोल गांव में पंडाल गिरने से हुए हादसे में कथावाचक मुरलीधर महाराज भी चोटिल हो गए हैं। उन्होंने बताया कि जब पंडाल तेजी से उड़ने लगा तो मैंने लोगों से तुरंत बाहर निकलने की अपील की थी।

    10:11 (IST)24 Jun 2019
    कैलाश चौधरी ने किया अस्पताल का दौरा, बोले- पीड़ितों को दिया गया मुआवजा

    केंद्रीय मंत्री और बाड़मेर के सांसद कैलाश चौधरी ने सोमवार को उस अस्पताल का दौरा किया, जहां पंडाल गिरने से घायल हुए लोगों का इलाज चल रहा है। उन्होंने कहा कि हादसा दर्दनाक है। मैं इस घटना के बाद प्रशासन के साथ संपर्क में हूं। मैंने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और सीएम अशोक गहलोत से भी बात की है। बहरहाल सीएम द्वारा घोषित मुआवजा पीड़ितों तक पहुंच गया है।

    10:07 (IST)24 Jun 2019
    महज डेढ़ मिनट में तहस-नहस हो गया पंडाल

    लोगों का कहना है कि उस वक्त हवा की रफ्तार 80 से 100 किमी प्रति घंटा के आसपास थी। उन्होंने बताया कि महज डेढ़ मिनट में ही पूरा पंडाल तहस-नहस हो गया। किसी को संभलने का मौका ही नहीं मिला।

    10:03 (IST)24 Jun 2019
    20 फुट ऊपर उड़ गया था पंडाल

    चश्मदीदों का कहना है कि आंधी-तूफान के कारण रामकथा का पंडाल करीब 20 फुट ऊपर तक उड़ गया था और फिर नीचे गिर गया। इसके बाद लोहे के पाइप में करंट आने लगा, जिससे काफी नुकसान हुआ।

    10:01 (IST)24 Jun 2019
    कमजोर फाउंडेशन पर लगाया गया था पंडाल

    स्थानीय लोगों का आरोप है कि पंडाल का फाउंडेशन काफी कमजोर था। वह सिर्फ दो फीट के फाउंडेशन पर लगाया गया था। रामकथा के दौरान पंडाल में करीब 800 लोग मौजूद थे। बवंडर के बाद जैसे ही पंडाल गिरा तो लोहे के एंगल भी श्रद्धालुओं पर गिर पड़े। इससे लोगों के सिर, पैर और पेट में गंभीर चोटें लगीं। बताया जा रहा कि दो लोगों की मौत लोहे का एंगल लगने से हुई।

    09:58 (IST)24 Jun 2019
    बिना अनुमति हो रही थी रामकथा

    बाड़मेर जिला प्रशासन ने दावा किया है कि जसोल में रामकथा को लेकर इजाजत नहीं ली गई थी। ऐसे में यह कार्यक्रम बिना अनुमति आयोजित हो रहा था।