ताज़ा खबर
 

गहलोत के मंत्री ने मांगा Air Strike का Video, कहा- किसने देखा पाकिस्तान में मारे गए 300 आदमी?

राजस्थान सरकार में मंत्री एलसी कटारिया ने भारतीय वायुसेना द्वारा बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक पर बीजेपी से सबूत मांगा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में 300 आदमी मारे गए, ये किसने देखा और कौन गिनने गया था?

राजस्थान की कांग्रेस सरकार में मंत्री एलसी कटारिया फोटो सोर्स- ANI

Air Strike: राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार में मंत्री एलसी कटारिया ने गुरुवार (28 मार्च) को भारतीय वायुसेना के द्वारा पाकिस्तान के बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक के बहाने बीजेपी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में 300 आदमी मारे गए, ये किसने देखा और कौन गिनने गया था? कटारिया ने बालाकोट में मारे गए आतंकियों को लेकर बीजेपी से सबूत मांगा है।

क्या बोले मंत्री कटारिया: राजस्थान सरकार में मंत्री एलसी कटारिया ने बीजेपी से एयर स्ट्राइक का सबूत मांगते हुए कहा, “पाकिस्तान में 300 आदमी किसने देखे? कौन गिनने गया था? बताएं बीजेपी के लोग। जब पुलवामा में लोग शहीद हुए तो पूरे देश में हाहाकार मचा, यदि वहां (पाकिस्तान) 300 लोग मरे तो कुछ वीडियो तो बताओ? उनके भी मां-बाप होंगे, बताओ तो सही कहां दफनाया गया।” बता दें कि 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले के बाद 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी।

National Hindi News Today LIVE: दिन भर की खबरों की यहां क्लिक करें 

पहले भी कई नेताओं ने मांगे एयर स्ट्राइक के सबूत: बता दें कि एलसी कटारिया से पहले विपक्ष के कई नेताओं ने बीजेपी को एयर स्ट्राइक के मुद्दे पर घेरा था। हाल में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने एयर स्ट्राइक पर सबूत मांगते हुए कहा था कि आज के दौर में सैटलाइट के जरिए सारी तस्वीरें सामने आ जाती हैं। इसलिए जिस तरह अमेरिकी सरकार ने ओसामा बिन लादेन के बारे में पूरे विश्व को प्रमाण दिए थे, उसी तरह के हमें भी देना चाहिए।

सैम पित्रोदा ने भी उठाए थे सवाल: बता दें कुछ दिन पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सैम पित्रोदा ने कहा था कि मैंने एक अखबार में रिपोर्ट पढ़ी थी इसलिए और भी ज्यादा जानने की इच्छा है। क्या सच में हमने हमला किया? उन्होंने बालाकोट में कथित तौर पर 300 लोगों के मारे जाने के मुद्दे पर भी सवाल उठाए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App