ताज़ा खबर
 

Alwar Gangrape: एसपी ऑफिस में आई थी धमकी की कॉल, फिर भी नहीं हुई कार्रवाई, पीड़िता बोली- हमें फांसी की सजा चाहिए उन लोगों के लिए

पीड़िता के पति ने बताया कि जब वह मामले की शिकायत करने एसपी ऑफिस गए थे, तब भी आरोपियों ने कॉल करके धमकी दी थी। इसके बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। मैजिस्ट्रेट के सामने बयान हुए तो पीड़िता बोली कि हमें उन लोगों के लिए सिर्फ फांसी चाहिए।

Author Published on: May 10, 2019 9:25 AM
तीन युवतियों से बलात्कार

अलवर गैंगरेप मामले में राजस्थान पुलिस ने एक बार नहीं, बल्कि बार-बार लापरवाही बरती, जिसके चलते पीड़ित दंपती को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। फिलहाल इस मामले में पुलिस ने 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से 5 आरोपी गैंगरेप के हैं, जबकि छठे शख्स ने गैंगरेप का वीडियो वायरल किया था। पीड़िता के पति ने बताया कि जब वह मामले की शिकायत करने एसपी ऑफिस गए थे, तब भी आरोपियों ने कॉल करके धमकी दी थी। इसके बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। गुरुवार (9 मई) को मैजिस्ट्रेट के सामने बयान हुए तो पीड़िता बोली कि हमें उन लोगों के लिए सिर्फ फांसी चाहिए।

26 अप्रैल को हुई थी वारदात: बता दें कि राजस्थान में अलवर जिले के एक गांव में 5 लोगों ने 26 अप्रैल को महिला के साथ गैंगरेप किया था। आरोपियों ने यह वारदात महिला के पति के सामने ही अंजाम दी थी। साथ ही, दोनों के साथ जमकर मारपीट भी की गई थी। आरोपियों ने वारदात के दौरान महिला का वीडियो भी बनाया था, जिसे बाद में सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया। इस मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने राजस्थान सरकार को नोटिस भी भेजा है। सरकार ने अलवर के एसपी को हटा दिया है। वहीं, थानागाजी पुलिस स्टेशन के इंचार्ज को लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया गया। इस मामले में बीजेपी और दलित ग्रुप लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

National Hindi News, 10 May 2019 LIVE Updates: दिनभर की हर खबर के लिए यहां करें क्लिक

पीड़िता के पति ने सुनाई आपबीती: महिला के पति ने बताया, ‘‘हम 30 अप्रैल को इस मामले की शिकायत लेकर अलवर के एसपी राजीव पचार के पास गए थे। उन्हें घटना की पूरी जानकारी दी। जब मैं एसपी ऑफिस में था, तब मुझे धमकी भरी एक और कॉल आई। आरोपियों ने ब्लैकमेल करते हुए रुपए मांगे और गैंगरेप के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी। हमने एसपी को यह जानकारी दी तो उन्होंने कहा कि पुलिस मामले की जांच कर रही है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।’’

पुलिस पर गंभीरता नहीं दिखाने का आरोप: पुलिस का कहना है कि उन्होंने 2 मई को पांचों आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली थी। सभी आरोपी गुर्जर समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। वीडियो बनाने वाले छठे आरोपी का नाम बाद में जोड़ा गया। हालांकि, महिला के पति का कहना है कि वीडियो वायरल होने के 2 दिन बाद पुलिस ने गंभीरता दिखाई।

ऐसे हुई थी वारदात: 26 अप्रैल की घटना को बुरा ख्वाब बताते हुए पीड़िता के पति ने कहा, ‘‘एक पारिवारिक शादी के लिए मैं अपनी पत्नी के साथ शॉपिंग करने जा रहा था। हाइवे पर 2 बाइक पर सवार 5 लोग हमारा पीछा करने लगे और कुछ देर बाद उन्होंने हमें रोक लिया। उन्होंने हमें गालियां दीं और मेरी पत्नी को रेत के टीले की तरफ ले गए। उन्होंने मुझे बेरहमी से पीटा और मेरी पत्नी के साथ गैंगरेप किया। करीब 3 घंटे तक उनकी हैवानियत जारी रही। उन्होंने पूरी घटना की वीडियो बनाई और मुझसे 2 हजार रुपए छीन लिए।’’ बता दें कि पीड़िता दंपती की शादी 2016 में हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Pulwama में गश्त कर रहे जवान पर गिरे पहाड़ के टुकड़े, कानपुर के लाल ने गंवाई जान