ताज़ा खबर
 

राजस्थान: तीन दिन में सामने आए स्वाइन फ्लू के 88 मरीज, गहलोत के गृह जिले में तीन की मौत

जोधपुर में स्वाइन फ्लू का असर बढ़ रहा है। यहां स्वाइन फ्लू पॉजिटिव लोगों की संख्या और इससे होने वाली मौतें राजस्थान में सर्वाधिक है।

प्रतीकात्मक चित्र फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

राजस्थान के जोधपुर जिले में स्वाइन फ्लू का असर बढ़ रहा है। यहां स्वाइन फ्लू पॉजिटिव लोगों की संख्या और इससे होने वाली मौतें राज्य में सर्वाधिक है। जहां नए साल के तीन दिन के अंदर ही स्वाइन फ्लू आंकड़ा पूरे प्रदेश 88 पहुंच गया तो वहीं अकेले जोधपुर में ही 44 पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। इसके बाद जयपुर में 18 पॉजिटिव मरीज और जयपुर संभाग में 28 मरीज पाए गए हैं। राज्य में सबसे ज्यादा तीन मौतें भी जोधपुर में ही हुई हैं। बता दें कि जोधपुर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का गृह जिला भी है।

बीते दिन राज्य में डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज की माइक्रोबॉयोलॉजी लैब में 51 संदिग्धों के सैंपल लिए गए जिसमे जांच के दौरान 25 पॉजिटिव आए। जिसके बाद जोधपुर में अब तक कुल 69 पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं, साथ ही स्वाइन फ्लू से तीन लोगों की मौत भी हुई है। प्रदेश में स्वाइन फ्लू के बढ़ते असर को लेकर विशेषज्ञ डाक्टरों ने जागरूकता के लिए पब्लिक लेक्चर का आयोजन किया। डॉक्टरों ने स्वाइन फ्लू के लक्षण, बचाव और कब जांच की जरूरत है, आदि पर लोगों को जानकारी दी। स्वाइन लू राजस्थान के 12 जिलों तक पहुंच गया है। गौरतलब है कि बीते साल पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 2300 को पार कर गया था और 221 मरीजों की मौत हो गई थी।

इस मामले में चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने स्वाइन लू के लक्षण दिखते ही डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह दी है और विभाग के अधिकारियों को जिलों से बाहर नहीं जाने की हिदायत दी है।

बता दें कि स्वाइन फ्लू इंफ्लूएंजा वायरस से होता है। इस दौरान मरीज को सर्दी जुकाम व बुखार होता है। वायरस से गंभीर होने की संभावना वृद्धों में, 2 साल से छोटे बच्चों में, सांस, हार्ट, गुर्दा, शुगर आदि लंबी बीमारी से ग्रसित व्यक्तियों में ज्यादा होती है। यह एक जानलेवा बीमारी है। एक अध्ययन के मुताबिक स्वाइन फ्लू कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वालों को जल्दी शिकार बनाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App