ताज़ा खबर
 

आम आदमी को ये कैसे पता चलेगा कि वेदों में शक्ति है? अगर उसे संस्कृत ही नहीं आएगी: कल्याण सिंह

इंटरनेशनल वेदिक कांफ्रेंस के उद्घाटन के मौके पर राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह ने कहा अंग्रेजी भाषा हावी हो गई है, वेदों को बढ़ावा देने की जरूरत है।

Author जयपुर | September 9, 2016 8:19 AM
राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह (तस्वीर-पीटीआई)

राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह ने गुरुवार (8 सितंबर) को कहा कि अंग्रेजी भाषा इस समय दुनिया पर “हावी” है और वेदों को सरल हिन्दी में अनुवाद करने की जरूरत है ताकि लोगों तक उनका संदेश पहुंच सके। सिंह के अनुसार इससे लोगों में वेदों और संस्कृत भाषा के प्रति झुकाव बढ़ेगा। वो जयपुर में हो रहे तीन दिवसीय इंटरनेशनल वेदिक कांफ्रेंस के उद्घाटन के मौके पर बोल रहे थे। बीजेपी के वरिष्ठ नेता रहे कल्याण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं।

सिंह ने कहा, “भारत के सभी ग्रंथ संस्कृत में लिखे गए हैं। लेकिन धीरे धीरे समय बदल गया…लोग कहने लगे कि संस्कृत कठिन है, लेकिन जब वो इंग्लिश सीखना शुरू करते हैं तो क्या वो आसान लगती है? इंग्लिश पहले कठिन लगती थी लेकिन धीरे धीरे ये फैल गई और आज ये हावी है।” उन्होंने आगे कहा, “आम आदमी को ये कैसे पता चलेगा कि वेदों में शक्ति है? अगर उसे संस्कृति ही नहीं आएगी।”

राजस्थान में पहली बार आयोजित हो रहा वैदिक सम्मेलन 8 से 10 सितंबर तक होगा। इस बार का आयोजन “वेदों में शक्ति तत्व” विषय पर केंद्रित है। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे समेत कई मंत्री आयोजन में शामिल होंगे। कार्यक्रम के संगठन सचिव रघुवीर शर्मा ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “शक्ति तत्व दो प्रकार के होते हैं, एक स्त्री या देवी की ऊर्जा और दूसरी शक्ति अणु आधारित ‘ऊर्जा’। हम दोनों ऊर्जाओं पर ध्यान दे रहे हैं।” सम्मेलन का आयोजन राजस्थान सरकार के देवस्थान विभाग, संस्कृत अकादमी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की संस्था संस्कृत भारती संयुक्त रूप से कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App