ताज़ा खबर
 

अपने ही हेल्पलाइन से ‘हेल्पलेस’ दिल्ली रेलवे पुलिस, बताया- 80 फीसदी कॉलर मांगते हैं बर्गर-पिज्जा

पुलिस उपायुक्त ने बताया कि रेलवे पुलिस का हेल्पलाइन नंबर देशव्यापी है लेकिन इसे पुलिस सहायता नंबर की तरह इस्तेमाल करने की बजाए लोग इसका उपयोग रेलवे पूछताछ के लिए करते हैं ।

Author नई दिल्ली | Published on: September 16, 2019 9:02 AM
प्रतीकात्मक फोटो फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में रेलवे पुलिस को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि लोगों की मदद के लिए बनाई गई उसकी हेल्पलाइन नंबर पर रोजाना 80 फीसदी से अधिक कॉल पिज्जा और बर्गर की डिलीवरी, मोबाइल रिजार्च और ऐसे ही अन्य मामलों के संबंध में आते हैं । पुलिस ने रविवार को बताया कि दिल्ली में रेलवे पुलिस के नियंत्रण कक्ष में हेल्पलाइन नंबर 1512 पर रोजाना औसतन 200 कॉल आते हैं और इनमें से 80 फीसदी ऐसे कॉल होते हैं जिनमें यात्री स्टाफ से पिज्जा बर्गर जैसे खाने-पीने की चीजें डिलीवर करने की मांग करते हैं या रेलवे में नौकरियों के बारे में पूछताछ करते हैं।

फोन पर करते हैं इन चीजों की मांगः एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि फोन कर यात्री जिन चीजों की मांग करते हैं उसमें फोन रिचार्ज करने, पिज्जा पहुंचाने की मांग आदि शामिल है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा वे बर्गर, चाय, जूस, ठंडे पानी आदि की मांग करते हैं। उन्होने बताया कि कुछ ऐसे यात्री हैं जो बिजली का बिल जमा कराने के लिए अथवा ट्रेन टिकट की बुकिंग कराने के लिए पुलिस की सहायता मांगते हैं ।

साल 2015 में शुरू की गई थी हेल्पलाइनः रेलवे पुलिस हेल्पलाइन नंबर 1512 की शुरूआत 2015 में की गई थी । इसका मकसद ट्रेनों में यात्रियों को आने वाली दिक्कतों की शिकायत अथवा रेलवे स्टेशनों या ट्रेनों में होने वाले अपराध के बारे में पुलिस को शिकायत दर्ज कराने में मदद करना था।

देशव्यापी है हेल्पलाइन नंबरः पुलिस उपायुक्त (रेलवे) दिनेश कुमार गुप्ता ने बताया कि रेलवे पुलिस का यह हेल्पलाइन नंबर देशव्यापी है लेकिन अधिकतर समय इसे पुलिस सहायता नंबर की तरह इस्तेमाल करने की बजाए लोग इसका उपयोग रेलवे पूछताछ के लिए करते हैं । पुलिस ने बताया कि वास्तव में लोगों को इस बात की जानकारी नहीं है कि इस हेल्पलाइन नंबर का मुख्य उद्देश्य क्या है और यही वजह है कि वे निरर्थक आग्रह करते हैं ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X
Next Stories
1 अजीबोगरीब New Traffic Rules: ऑटो में ‘सीट बेल्ट’ तो कार-बस में ‘हेलमेट’ नहीं लगाने पर ठोक दिया जुर्माना
2 ‘थम नहीं रहीं धमकियां, जी रहे भगोड़ों वाली जिंदगी’, दलित से शादी करने वाली बीजेपी विधायक की बेटी ने बयां किया दर्द
3 Article 370 पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, जम्मू-कश्मीर में पाबंदियों के खिलाफ भी होगी चर्चा