ताज़ा खबर
 

कार्यकर्ताओं के स्‍वागत से बचने के लिए चलती ट्रेन से कूद गए रेल मंत्री सुरेश प्रभु

सुरेश प्रभु मेरठ रेलवे स्टेशन पर गाजियाबाद-मेरठ-सहारनपुर लाइन के विद्युतीकरण को आम लोगों को समर्पित करने पहुंचे थे।

रेलमंत्री सुरेश प्रभु (Photo: PTI)

रेल मंत्री सुरेश प्रभु को सादगी पसंद माना जाता है। वे पेशे से भी राजनेता के बजाय चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं। यही वजह है कि वे अन्‍य राजनेताओं से अलग नजर आते हैं। ऐसी ही एक घटना हाल ही में मेरठ रेलवे स्‍टेशन पर देखने को मिली। यहां पर उनके स्‍वागत के लिए काफी संख्‍या में भाजपा कार्यकर्ता और लोग पहुंचे। इससे बचने के लिए सुरेश प्रभु चलती ट्रेन से उतर लिए। प्रभु मेरठ रेलवे स्टेशन पर गाजियाबाद-मेरठ-सहारनपुर लाइन के विद्युतीकरण को आम लोगों को समर्पित करने पहुंचे थे।

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने मुंबई लोकल में खड़े होकर सफर किया

ट्रेन जैसे ही प्लेटफॉर्म पर पहुंची, प्रभु ने दूर से ही स्वागत के इंतजार में खड़े कार्यकर्ताओं को देख लिया। कार्यकर्ताओं के स्वागत सत्कार कार्यक्रम से सामना न हो इसके लिए प्रभु पहले ही ट्रेन से उतर गए। हालांकि, उस वक्त ट्रेन धीमी थी। प्रभु इसके बाद सीधे मंच पर पहुंच गए। हालांकि कार्यकर्ता नहीं माने और मंच पर पहुंच कर उनका स्वागत किया। प्रभु ने गाजियाबाद-मेरठ-सहारनपुर विद्युतीकरण ट्रैक समाज को समर्पित किया। इस दौरान प्रभु ने एसक्लेटर व लिफ्ट का शिलान्यास किया। प्रभु ने कहा कि यूपीए सरकार ने जितना काम दस साल में किया, उससे कहीं ज्यादा बीते दो साल में किया गया।

नाम से हुआ बड़ा कन्‍फ्यूजन, TMC MP को CM ममता बनर्जी समझ रेल मंत्री प्रभु ने घर लंच पर बुलाया

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि दो साल में हमने साठ साल के बराबर काम करने की कोशिश की है। प्रभु ने केंद्र सरकार की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए बताया कि पहले हर दिन चार किलोमीटर रेल लाइन बिछती थी, जबकि हमने 19 किलोमीटर प्रतिदिन रेल लाइन बिछाने का कार्य शुरू किया है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि पश्चिमी यूपी में जरूरत के मुताबिक नई ट्रेन जरूर चलेगी। हम जल्द ही हाईस्पीड और सेमी स्पीड ट्रेनें लाने जा रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App